सोमवार, 06 जुलाई, 2015 | 19:09 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    VIDEO: आकाशवाणी दिल्ली परिसर में सिपाही पर गोलीबारी कुंआरी मां बन सकती है बच्चे की अभिभावक  देश की आवाज बनेगी रांची की टुंपा स्पाइसजेट ऑफर: अब सिर्फ 1899 रुपये में लें हवाई यात्रा का मजा  पीएम नरेंद्र मोदी पहुंचे उज्बेकिस्तान, ब्रिक्स बैठक में लेंगे हिस्सा झारखंड: खूंटी के अड़की में युवक की हत्या पलामू के चैनपुर में लुटेरों ने युवक को गोली मारी, गंभीर रांची ITI के लापता छात्र का शव रामगढ़ से बरामद व्यापमं घोटाला: ट्रेनी SI की मिली लाश, कांग्रेस ने की सीएम शिवराज को बर्खास्त करने की मांग दुमका-रामपुर हाट मार्ग 15 घंटों से जाम
फास्ट ट्रैक पर इंसाफ
नई दिल्ली, वरिष्ठ संवाददाता First Published:02-01-13 11:28 PM

दिल्ली में चलती बस में सामूहिक बलात्कार मामले में आरोपियों को कठोर दंड दिलाने की कवायद शुरू हो गई है। इस मामले में दिल्ली पुलिस गुरुवार को अदालत में आरोपपत्र दायर कर सकती है। पीड़ित परिवार ही नहीं बल्कि पूरे देश के लिए यह जल्द इंसाफ की दिशा में प्रभावी कदम माना जा रहा है। पीड़िता को न्याय दिलाने के लिए लगातार हो रहे धरना-प्रदर्शन के बीच यह भी माना जा रहा है कि इस मामले में प्रतिदिन सुनवाई के आधार पर जल्द फैसला आएगा।

दिल्ली पुलिस इस मामले की जांच के बाद तैयार हुई चाजर्शीट की सॉफ्ट कॉपी साकेत स्थित वसंत विहार थाने के मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट के सामने पेश करेगी। जिसके बाद आरोपियों को अदालत में तलब कर उन्हें आरोपपत्र की प्रति सौंपी जाएगी। आरोपियों द्वारा आरोपपत्र से जुड़े दस्तावेजों के मिलने की पुष्टि के बाद अदालत संज्ञान लेगी और मामले को जिला जज के पास भेज दिया जाएगा।

उधर, साकेत कोर्ट में ही बुधवार को सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश जस्टिस अल्तमस कबीर ने फास्ट ट्रैक कोर्ट का उद़्घाटन किया। अब इसी विशेष अदालत में इस मामले की रोजाना आधार पर सुनवाई भी होगी। साकेत कोर्ट के जिला जज की अनुशंसा के बाद मामले को विशेष कोर्ट में सुनवाई के लिए भेजा जाएगा।
पहले आरोपपत्र पर अभियोजन व बचाव पक्ष के बीच जिरह होगी। अदालत अगर आरोपियों के खिलाफ पुख्ता सबूत पाती है तो उनके खिलाफ आरोप तय कर दिए जाएंगे।

इंसानियत को शर्मशार कर देने वाले गैंग रेप के इस केस में वकीलों ने सभी छह आरोपियों का मुकदमा नहीं लड़ने का ऐलान कर रखा है। अगर ऐसा होता है कि तो आरोपियों को कानूनी प्रावधान के मुताबिक पैरवी के लिए सरकारी वकील मुहैया कराया जाएगा।

 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड