रविवार, 26 अक्टूबर, 2014 | 05:50 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    राजनाथ सोमवार को मुंबई में कर सकते हैं शिवसेना से वार्ता नरेंद्र मोदी ने सफाई और स्वच्छता पर दिया जोर मुंबई में मोदी से उद्धव के मिलने का कार्यक्रम नहीं था: शिवसेना  कांग्रेस ने विवादित लेख पर भाजपा की आलोचना की केन्द्र ने 80 हजार करोड़ की रक्षा परियोजनाओं को दी मंजूरी  कांग्रेस नेता शशि थरूर शामिल हुए स्वच्छता अभियान में हेलमेट के बगैर स्कूटर चला कर विवाद में आए गडकरी  नस्ली घटनाओं पर राज्यों को सलाह देगा गृह मंत्रालय: रिजिजू अश्विका कपूर को फिल्मों के लिए ग्रीन ऑस्कर अवार्ड जम्मू-कश्मीर और झारखंड में पांच चरणों में मतदान की घोषणा
बेटी के नाम कानून पर परिवार भी राजी
बलिया, हिन्दुस्तान टीम First Published:02-01-13 11:27 PM

बलात्कार के संबंध में बनने वाले कानून का नामकरण बेटी के नाम पर करने को लेकर पीड़ित परिवार को कोई ऐतराज नहीं है। एक दिन पहले केंद्रीय मंत्री शशि थरूर ने दिल्ली में सामूहिक बलात्कार का शिकार हुई लड़की का नाम सार्वजनिक किए जाने संबंधी बयान दिया था।

लड़की के पिता ने कहा- बेटी के नाम पर कानून बने और सख्ती से लागू हो ताकि हर बलात्कारी के दिल में खौफ पैदा हो। इसकी मिसाल देनी चाहिए सभी आरोपियों को फांसी पर लटकाकर। पिता ने शशि थरूर के ट्विट का समर्थन करत हुए कहा कि आधुनिक सोच में अब बेटियों को बदनामी का दकियानूस विचार हमें लड़ने की ताकत देने के बजाय कमजोर ही करेगा।

पिता के विचारों से लड़की की मां और दादा ने भी समर्थन जताते हुए कहा कि हम बिटिया का बलिदान व्यर्थ नहीं जाने देंगे। थरूर ने मंगलवार को ट्विटर एकाउंट पर कहा था- पीड़िता का नाम गुप्त रखने से कौन सा हित सध रहा है। यदि पीड़िता के माता-पिता को आपत्ति न हो तो बलात्कार विरोधी संशोधित कानून का नाम लड़की के नाम पर रखा जाना चाहिए।

 
 
 
|
 
 
टिप्पणियाँ