सोमवार, 31 अगस्त, 2015 | 14:18 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
उत्तराखंड हाईकोर्ट ने अफसरों के बच्चों को सरकारी स्कूलों में पढ़ाने की याचिका खारिज की, हाईकोर्ट ने कहा कि याचिका में नहीं मिले सही आधार, सही आधार के साथ साथ नए सिरे से याचिका दायर की जा सकती है।केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री स्मृति ईरानी ने बोधगया IIM का किया उदघाटन, बिहार के शिक्षा मंत्री पीके शाही भी कार्यक्रम में थे मौजूद।झारखंड: बोकारो में दो राजस्व कर्मी घूस लेते पकड़ाए, पूछताछ के बाद दोनों को रांची ले जाया गया।उत्तराखंडः लक्सर के भोगपुर क्षेत्र में दीवार से टकराई कार, दो लोगों की मौत, टांडा गांव के रहने वाले थे दोनों मृतक।सुषमा स्वराज ने की बिहार के सीएम नीतीश कुमार से बात, विश्व हिंदी सम्मेलन में आने का किया अनुरोध।
बेटी के नाम कानून पर परिवार भी राजी
बलिया, हिन्दुस्तान टीम First Published:02-01-2013 11:27:39 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

बलात्कार के संबंध में बनने वाले कानून का नामकरण बेटी के नाम पर करने को लेकर पीड़ित परिवार को कोई ऐतराज नहीं है। एक दिन पहले केंद्रीय मंत्री शशि थरूर ने दिल्ली में सामूहिक बलात्कार का शिकार हुई लड़की का नाम सार्वजनिक किए जाने संबंधी बयान दिया था।

लड़की के पिता ने कहा- बेटी के नाम पर कानून बने और सख्ती से लागू हो ताकि हर बलात्कारी के दिल में खौफ पैदा हो। इसकी मिसाल देनी चाहिए सभी आरोपियों को फांसी पर लटकाकर। पिता ने शशि थरूर के ट्विट का समर्थन करत हुए कहा कि आधुनिक सोच में अब बेटियों को बदनामी का दकियानूस विचार हमें लड़ने की ताकत देने के बजाय कमजोर ही करेगा।

पिता के विचारों से लड़की की मां और दादा ने भी समर्थन जताते हुए कहा कि हम बिटिया का बलिदान व्यर्थ नहीं जाने देंगे। थरूर ने मंगलवार को ट्विटर एकाउंट पर कहा था- पीड़िता का नाम गुप्त रखने से कौन सा हित सध रहा है। यदि पीड़िता के माता-पिता को आपत्ति न हो तो बलात्कार विरोधी संशोधित कानून का नाम लड़की के नाम पर रखा जाना चाहिए।

 

 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingरोहित का अर्धशतक, भारत को 243 रन की बढत
श्रीलंका के खिलाफ तीसरे और आखिरी क्रिकेट टेस्ट में भारत ने चौथे दिन लंच तक पांच विकेट पर 132 रन बना लिये, जिससे उसकी कुल बढत 243 रन की हो गई।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

सीसीटीवी कैमरों का जमाना है...
पिता: एक समय था, जब मैं 10 रुपए में किराना, दूध, सब्जी और नाश्ता ले आता था..
बेटा: अब संभव नहीं है, पापा अब वहां सीसीटीवी कैमरे लगे होते हैं।