सोमवार, 03 अगस्त, 2015 | 22:42 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    अगला बिहार विधानसभा चुनाव नहीं लड़ेंगी राबड़ी देवी कांवड़ यात्रा से बरेली के कई पंपों पर डीजल-पेट्रोल खत्‍म  आखिर यूं ही नहीं बनती 'बाहुबली', जानिए 10 बेहद खास राज  भारत से प्रभावित होकर अंग्रेजों ने ब्रिटेन में भी बसा दिया 'पटना'  तृणमूल ने दिखाई कांग्रेस के साथ एकजुटता, लोकसभा की कार्यवाही का पांच दिनों तक करेगी बहिष्कार 14 साल से पाकिस्तान में फंसी भारतीय लड़की को बजरंगी भाईजान की जरूरत श्रीलंका में जीत के लिए ये है कोहली का मास्टर प्लान राफेल नडाल ने जीता हैम्बर्ग ओपन खिताब चेल्सी बीते सत्र में ही ईपीएल खिताब का हकदार था: कोम्पेनी साध्वी प्राची को अस्पताल से डिस्चार्ज किए जाने पर हंगामा
78% ने माना, उनके साथ हुई है छेड़छाड़
नई दिल्ली, अभिजीत पटनायक First Published:01-01-2013 11:41:34 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

सामूहिक बलात्कार की घटना के बाद कई बार दिल्ली को रेप कैपिटल कहा जा रहा है,वास्तव में दिल्ली में महिलाओं के लिए सुरक्षित नहीं है। हिन्दुस्तान टाइम्स एक सर्वे में ये खुलासा हुआ है कि 78 फीसदी महिलाएं एक साल में कभी न कभी छेड़छाड़ का शिकार हुई हैं।

सर्वे में शामिल 18 से 25 साल के युवकों में 92 फीसदी ने ये माना है कि उनमें से सभी ने या फिर उनके दोस्तों ने सार्वजनिक स्थलों पर महिलाओं पर फब्ती जरूर कसी है। सर्वे में शामिल 50 फीसदी लोग मानते हैं कि महिलाएं अपने ड्रेस और व्यवहार से छेड़छाड़ की गतिविधियों को बुलावा देती हैं। 52 फीसदी लोग मानते हैं कि महिलाओं पर फब्ती कसना जायज है, हालांकि छेड़ना नहीं।

रिसर्च एजेंसी मार्स द्वारा हिन्दुस्तान टाइम्स के लिए किए गए सर्वे में पिछले हफ्ते 146 युवकों और 356 महिलाओं से बातचीत की गई जो खास तौर पर सार्वजनिक परिवहन से चलते हैं। सर्वे में बलात्कार पीड़ितों को न्याय के लिए फास्टट्रैक कोर्ट के गठन को अधिकांश लोग सही कदम मान रहे हैं।

वहीं सर्वे में काफी लोग मानते हैं बलात्कार जैसे अपराधों के लिए पुरुषों की मानसिकता भी काफी हद तक जिम्मेवार है। सर्वे में महिलाओं व पुरुषों के मानसिकता में काफी अंतर दिखा। 65% पुरुष मानते हैं कि यौन उत्पीड़न मामले अतिरंजित कर पेश किए जाते हैं जबकि महिलाएं इससे असहमत दिखीं।

 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingश्रीलंका में जीत के लिए ये है कोहली का मास्टर प्लान
टेस्ट कप्तान के तौर पर अपनी पहली संपूर्ण तीन मैचों की सीरीज के लिये श्रीलंका दौरे पर भारतीय टीम का नेतृत्व कर रहे विराट कोहली ने कहा है कि उनकी योजना श्रीलंका में पांच गेंदबाजों को उतारने की रहेगी।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

जब बीमार पड़ा संता...
जीतो बीमार पति से: जानवर के डॉक्टर को मिलो तब आराम मिलेगा!
संता: वो क्यों?
जीतो: रोज़ सुबह मुर्गे की तरह जल्दी उठ जाते हो, घोड़े की तरह भाग के ऑफिस जाते हो, गधे की तरह दिनभर काम करते हो, घर आकर परिवार पर कुत्ते की तरह भोंकते हो, और रात को खाकर भैंस की तरह सो जाते हो, बेचारा इंसानों का डॉक्टर आपका क्या इलाज करेगा?