शुक्रवार, 28 नवम्बर, 2014 | 17:41 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
हल्द्वानी में मुख्यमंत्री के काफिले पर पथराव
जश्न नहीं, जागा देश
नई दिल्ली, हिन्दुस्तान टीम First Published:31-12-12 11:19 PM

नए साल के स्वागत में इस बार जश्न नहीं दिखा, बलात्कार पीड़ित लड़की की मौत के बाद सारा देश महिलाओं पर जुल्म करने वाले दरिंदों को कड़ी सजा दिलाने के लिए जागरूक दिखा। नव वर्ष की पूर्व संध्या पर भी कठोर कानून की मांग को लेकर लोगों का प्रदर्शन जारी रहा।

केंद्रीय गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे सभी राजनीतिक दलों को पत्र लिख कर बलात्कार की सजा को लेकर कानून में बदलाव के लिए सुझाव देने को कहा है। शिंदे ने सभी दलों से अपने सुझाव जस्टिस वर्मा कमेटी को भेजने की सलाह दी है। पीड़िता की मौत से दुखी राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने नए साल में जश्न नहीं मनाने का ऐलान किया है।

सोनिया ने लोगों से कहा है कि वे बधाई देने उनके आवास पर न आएं। वहीं सेना के तीनों अंगों के अधिकारी और रक्षा मंत्री भी नए साल का जश्न नहीं मनाएंगे। वहीं दिल्ली पुलिस ने पीड़ित परिवार को न्याय दिलाने के लिए आरोपियों के खिलाफ चाजर्शीट तैयार कर ली है।

30 गवाहों और 1000 पन्नों का आरोप पत्र तीन जनवरी को दाखिल किया जाएगा। वहीं, जंतर-मंतर और देश के अन्य हिस्सों में लोगों का कठोर कानून की मांग को लेकर प्रदर्शन जारी रहा। प्रदर्शनकारियों ने नए साल में भी अपना संघर्ष जारी रखने का ऐलान किया।

जंतर-मंतर पर भूख हड़ताल पर बैठे दो युवकों में से एक ने इनमें से एक बाबूसिंह ने कहा, ‘जब तक पीड़िता को न्याय नहीं मिल जाता या फास्ट ट्रैक का गठन नहीं हो जाता, हम भूख हड़ताल जारी रखेंगे।’ उधर, महिला सुरक्षा को लेकर नए साल के स्वागत में मुंबई के पब और बार के बाहर व पार्किंग में सुरक्षा बढ़ा दी गई है। इन जगहों पर सुरक्षा गार्डों, पुरुष एवं महिला बाउंसरों को तैनात किया गया है।

 
 
|
 
 
टिप्पणियाँ