शनिवार, 01 नवम्बर, 2014 | 17:54 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    मथुरा में भाजपा युवा मोर्चा का पुलिस पर पथराव, दर्जनों जख्मी मुख्यमंत्री कार्यालय में बदलाव करना चाहते हैं फड़नवीस  चीन ने पूरा किया चांद से वापसी का पहला मिशन  आज चार राज्य मना रहे हैं स्थापना दिवस  जम्मू-कश्मीर में बदले जा सकते हैं मतदान केंद्र 'एक भारत, श्रेष्ठ भारत' का वीडियो यूट्यूब पर हिट दिग्विजय सिंह की सलाह, कांग्रेस की कमान अपने हाथ में लें राहुल गांधी 'दिल्ली को फिर केंद्र शासित बनाने की फिराक में भाजपा' जनता सब देख रही है, बीजेपी हल्के में न लेः उद्धव ठाकरे वर्जिन का अंतरिक्ष यान दुर्घटनाग्रस्त, पायलट की मौत
नौ दिन के बाद टूटी सरकार की नींद
नई दिल्ली, विशेष संवाददाता First Published:24-12-12 11:17 PM

सामूहिक बलात्कार की घटना के नौ दिन बाद लोगों के लगातार आंदोलन और आक्रोश देख सोमवार को सरकार नींद से जागी। केंद्र सरकार ने कभी दिल्ली पुलिस क्लीन चिट दी थी लेकिन अब चार पुलिस अफसरों पर गाज गिर गई है। केंद्र एवं दिल्ली सरकार ने महिलाओं की सुरक्षा एवं दोषियों को सख्त सजा दिलाने के लिए कई और कदम उठाए हैं, वहीं आंदोलनकारियों से संयम बरतने की भावुक अपील भी की है।

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने सोमवार को एक बार फिर राष्ट्र के नाम संदेश जारी कर कहा कि लोग धैर्य का परिचय दें। दिल्ली के उपराज्यपाल तेजेंद्र खन्ना अमेरिका यात्रा बीच में छोड़कर दिल्ली लौटे और लापरवाही बरतने वाले पुलिस अफसरों पर कार्रवाई का ऐलान किया। वहीं दिल्ली पुलिस ने सोमवार को इंडिया गेट के आसपास किलेबंदी कर प्रदर्शनकारियों को फटकने नहीं दिया।

उधर, गैंगरेप में दिल्ली पुलिस सात दिनों में फास्ट ट्रैक कोर्ट में चार्जशीट दाखिल करेगी।  इस बीच, महिलाओं के खिलाफ अपराधों से जुड़े कानूनों को कड़ा बनाने के लिए गठित जस्टिस जेएस वर्मा आयोग ने काम शुरू कर दिया और लोगों से पांच जनवरी तक सुझाव मांगे हैं। दिल्ली पुलिस में महिला उत्पीड़न से जुड़ी शिकायतें सुनने को सुधीर यादव को विशेष पुलिस आयुक्त नियुक्त किया है।

 
 
|
 
 
टिप्पणियाँ