शनिवार, 25 अक्टूबर, 2014 | 11:04 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    अमेरिकी स्कूल में गोलीबारी में दो की मौत, चार घायल पाकिस्तान ने फिर किया संघर्ष विराम का उल्लंघन हुदहुद से आई टी क्षेत्र को भारी क्षति हुई है :रेड्डी  मिस्र में आतंकी हमले में 31 सैनिकों की मौत गूगल के अधिकारी ने हवा में गोताखोरी का बनाया विश्व रिकॉर्ड  चीन सीमा पर 54 चौकियां बनाएगा भारत, 175 करोड़ के पैकेज की घोषणा  बर्धवान के बम थे बांग्लादेश के लिए: एनआईए नरेंद्र मोदी की चाय पार्टी में नहीं शामिल होंगे उद्धव ठाकरे भूपेंद्र सिंह हुड्डा की बढ़ सकती हैं मुश्किलें  कालेधन पर राम जेठमलानी ने बढ़ाई सरकार की मुश्किलें
मोदी की हैट्रिक, धूमल आउट
नई दिल्ली, विशेष संवाददाता First Published:20-12-12 11:35 PM

गुजरात विधानसभा चुनाव में मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने जीत की हैट्रिक बना दी है। वह लगातार तीसरी बार सत्ता की कमान संभालेंगे। हालांकि, राज्य में भाजपा की यह लगातार पांचवीं जीत है। वहीं, हिमाचल प्रदेश में प्रेम कुमार धूमल के दोबारा मुख्यमंत्री बनने के सपने धरे ही रह गए। राज्य में पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के नेतृत्व में कांग्रेस ने बहुमत के साथ विजय का परचम लहराया है।

गुजरात में भाजपा ने उम्मीद के मुताबिक, स्पष्ट बहुमत के साथ सत्ता पर कब्जा बनाए रखा है। हालांकि, वर्ष 2007 के मुकाबले इस बार उसे दो सीटों का नुकसान हुआ है। राज्य में विकास का नारा देने वाली भाजपा को शहरी और ग्रामीण, दोनों क्षेत्रों में लोगों का समर्थन मिला है। मोदी की इस जीत से केंद्र की राजनीति में उनकी अहम भूमिका की संभावनाएं भी बढ़ गई हैं।

जीत के बाद अहमदाबाद में पार्टी कार्यकर्ताओं की जश्न रैली में मोदी ने राज्य के लोगों का तहेदिल से शुक्रिया अदा किया। उन्होंने कहा कि जिन लोगों ने उन्हें वोट नहीं दिया, उन्हें संतुष्ट करने के लिए वह भविष्य में कड़ी मेहनत करेंगे।

वहीं, हिमाचल प्रदेश में भाजपा सत्ता बचाने में नाकाम रही। राज्य में वर्ष 1977 के बाद से हर पांच साल बाद सरकार बदलने की परंपरा चली आ रही है। पंजाब में इस साल के शुरू में हुए विधानसभा चुनावों में अकाली-भाजपा की तर्ज पर हिमाचल में भी भाजपा इस परंपरा को तोड़ना चाहती थी, लेकिन वह नाकाम रही। प्रदेश की जनता ने इस परंपरा को कायम रखते हुए बदलाव को चुना।

कांग्रेस ने प्रदेश अध्यक्ष वीरभद्र सिंह की अगुआई में चुनाव लड़ा, ऐसे में मुख्यमंत्री पद के लिए उन्हें प्रबल दावेदार माना जा रहा है। हालांकि, इसका अंतिम फैसला होना अभी बाकी है।
 
 
|
 
 
टिप्पणियाँ