शुक्रवार, 28 अगस्त, 2015 | 07:44 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
पीड़ित छात्र आंखों से बयां कर रही है अपनी बातें
नई दिल्ली, वरिष्ठ संवाददाता First Published:20-12-2012 11:34:45 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

चलती बस में सामूहिक दुष्कर्म की शिकार छात्र की बड़ी सजर्री के बाद गुरुवार दोपहर उसे होश आ गया है। हालांकि अब वह पहले की तरह कुछ लिखने की स्थिति में नहीं है। अपनी बातों को वह आंखों के इशारों से कहने की कोशिश कर रही है, जिसमें उसकी मां एक मध्यस्थ की भूमिका निभा रही है।

सफदरजंग अस्पताल में बुधवार को छात्र की बड़ी सजर्री हुई थी। इसके बाद गुरुवार को उसके हाथ-पांव में थोड़ी हरकत देखी गई। इलाज कर रहे डॉक्टरों की टीम के प्रमुख डॉ. सुनील जैन ने बताया, ‘उसकी आंखों की भाषा समझने के लिए आईसीयू में 24 घंटे डॉक्टरों की उपस्थिति अनिवार्य कर दी है। हालांकि पीड़िता की मां उसके इशारों में कही बात को समझकर डॉक्टरों को बता रही हैं।

छात्र का बेहतर इलाज करने के लिए एम्स ट्रामा सेंटर के विशेषज्ञों से भी बात की गई है।’ ट्रामा सेंटर के प्रभारी डॉ. एमसी मिश्र ने बताया कि फिलहाल छात्र के लिए एक हफ्ते का समय कठिन है। इसके बाद उसके विदेश में इलाज करने की बात पर विचार किया जा सकता है।


दिल्ली में तीन साल की मासूम का यौन उत्पीड़न
नई दिल्ली
दक्षिण-पश्चिम दिल्ली के सागरपुर थाना क्षेत्र में एक तीन साल की मासूम यौन उत्पीड़न का शिकार बनी। मासूम जिस प्ले स्कूल में पिछले एक साल से जा रही थी, वहां की संचालिका के पति प्रमोद को इस कृत्य के लिए गिरफ्तार कर लिया गया है। बच्ची के पेट में दर्द व उल्टी की शिकायत पर जांच के बाद मामले का खुलासा हुआ।

 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

जब पप्पू पहंचा परीक्षा देने...
अध्यापिका: परेशान क्यों हो?
पप्पू ने कोई जवाब नहीं दिया।
अध्यापिका: क्या हुआ, पेन भूल आये हो?
पप्पू फिर चुप।
अध्यापिका : रोल नंबर भूल गए हो?
अध्यापिका फिर से: हुआ क्या है, कुछ तो बताओ क्या भूल गए?
पप्पू गुस्से से: अरे! यहां मैं पर्ची गलत ले आया हूं और आपको पेन-पेंसिल की पड़ी है।