शुक्रवार, 31 अक्टूबर, 2014 | 00:27 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    नौकरानी की हत्या: धनंजय को जमानत, जागृति के रिकार्ड मांगे अमर सिंह के समाजवादी पार्टी में प्रवेश पर उठेगा पर्दा योगी आदित्य नाथ ने दी उमा भारती को चुनौती देश में मौजूद कालेधन पर रखें नजर : अरुण जेटली शिक्षा को लेकर मोदी सरकार पर आरएसएस का दबाव कोयला घोटाला: सीबीआई को और जांच की अनुमति सिख दंगा पीड़ितों के परिजनों को पांच लाख देगा केंद्र अपमान से आहत शिवसेना ने किया फडणवीस के शपथ ग्रहण का बहिष्कार सरकार का कटौती अभियान शुरू, प्रथम श्रेणी यात्रा पर प्रतिबंध बेटे की दस्तारबंदी के लिए बुखारी का शरीफ को न्यौता, मोदी को नहीं
पीड़िता ने पूछा- वो पकड़े गए या नहीं
नई दिल्ली, निशि भाट First Published:18-12-12 11:44 PM

रविवार की काली रात के बाद बलात्कारियों को फांसी की सजा देने के लिए उठ रही आवाज में एक कराह उस पीड़िता की भी शामिल है जो दर्द की इंतहा को अस्पताल के बिस्तर पर झेल रही है। सफदरजंग अस्पताल में सांसों की डोर को थामे रखने की जंग लड़ रही पीड़िता ने होश में आने पर पहला सवाल किया ‘वो पकड़े गए या नहीं।’

हैवानियत की हदों को पार कर देने वाली वारदात की शिकार छात्र बोलने से लाचार है। वह लिखकर अपने दर्द को बयां कर पा रही है। असहनीय पीड़ा को हर पल परास्त कर रही पीड़िता भी चाहती है कि कानून, इन दरिंदों को कड़ी से कड़ी सजा दे।

मंगलवार को होश में आने पर उसने दूसरी ख्वाहिश अपनी मां से मिलने की जताई। मां को देखते ही लगी आंसुओं की झड़ी ने इंसानियत पर लगे धब्बों की कहानी बयां कर दी। इसके बाद कागज के चंद टुकड़ों पर हाथों लिखी बातें पीड़िता के हौसले और जज्बे की मिशाल पेश करती है।

 

 
 
|
 
 
टिप्पणियाँ