शनिवार, 04 जुलाई, 2015 | 01:49 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    फिल्म देखने से पहले पढ़ें 'गुड्डू रंगीला' का रिव्यू फिल्म रिव्यू: टर्मिनेटर जेनेसिस पूर्व रॉ प्रमुख के खुलासे के बाद सरकार पर हमलावर हुई कांग्रेस, PM से की माफी की मांग झारखंड: मेदिनीनगर के हुसैनाबाद में ओझा-गुणी की हत्या हजारीबाग के पदमा में दो गुटों में भिड़ंत, आधा दर्जन घायल गुमला में बाइक के साथ नदी में गिरा सरकारी कर्मी, मौत हेमा मालिनी के ड्राइवर को कुछ ही घंटों में मिली जमानत, बच्ची की मौत से हेमा दुखी झारखंड के चाईबासा में रिश्वत लेते दारोगा रंगे हाथ गिरफ्तार झारखंड: हजारीबाग में पिता ने अबोध बेटी को पटक कर मार डाला जमशेदपुर में स्कूल वाहन चालक हड़ताल पर, अभिभावक परेशान
पीड़िता ने पूछा- वो पकड़े गए या नहीं
नई दिल्ली, निशि भाट First Published:18-12-12 11:44 PM

रविवार की काली रात के बाद बलात्कारियों को फांसी की सजा देने के लिए उठ रही आवाज में एक कराह उस पीड़िता की भी शामिल है जो दर्द की इंतहा को अस्पताल के बिस्तर पर झेल रही है। सफदरजंग अस्पताल में सांसों की डोर को थामे रखने की जंग लड़ रही पीड़िता ने होश में आने पर पहला सवाल किया ‘वो पकड़े गए या नहीं।’

हैवानियत की हदों को पार कर देने वाली वारदात की शिकार छात्र बोलने से लाचार है। वह लिखकर अपने दर्द को बयां कर पा रही है। असहनीय पीड़ा को हर पल परास्त कर रही पीड़िता भी चाहती है कि कानून, इन दरिंदों को कड़ी से कड़ी सजा दे।

मंगलवार को होश में आने पर उसने दूसरी ख्वाहिश अपनी मां से मिलने की जताई। मां को देखते ही लगी आंसुओं की झड़ी ने इंसानियत पर लगे धब्बों की कहानी बयां कर दी। इसके बाद कागज के चंद टुकड़ों पर हाथों लिखी बातें पीड़िता के हौसले और जज्बे की मिशाल पेश करती है।

 

 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड