सोमवार, 06 जुलाई, 2015 | 23:29 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    चीन ने विज्ञापन में दिखाई भारतीय शहरों में गंदगी  VIDEO: आकाशवाणी दिल्ली परिसर में सिपाही पर गोलीबारी कुंआरी मां बन सकती है बच्चे की अभिभावक  देश की आवाज बनेगी रांची की टुंपा स्पाइसजेट ऑफर: अब सिर्फ 1899 रुपये में लें हवाई यात्रा का मजा  पीएम नरेंद्र मोदी पहुंचे उज्बेकिस्तान, ब्रिक्स बैठक में लेंगे हिस्सा झारखंड: खूंटी के अड़की में युवक की हत्या पलामू के चैनपुर में लुटेरों ने युवक को गोली मारी, गंभीर रांची ITI के लापता छात्र का शव रामगढ़ से बरामद व्यापमं घोटाला: ट्रेनी SI की मिली लाश, कांग्रेस ने की सीएम शिवराज को बर्खास्त करने की मांग
मलिक ने गुमराह किया: शिंदे
नई दिल्ली, विशेष संवाददाता First Published:17-12-12 11:37 PM

केंद्र सरकार ने पाकिस्तान के सबसे बड़े झूठ को बेनकाब करते हुए कहा है कि लश्कर-ए-तैयबा के सरगना व मुंबई हमले के षड्यंत्रकारी हाफिज सईद को इस मामले में कभी गिरफ्तार ही नहीं किया गया। जबकि पाकिस्तान के गृह मंत्री भारत यात्रा के दौरान यह दावा करते रहे कि सईद को तीन बार मुंबई हमले में गिरफ्तार किया गया, लेकिन सबूतों के अभाव में वह छूट गया। मगर, इस नए खुलासे से पाकिस्तान की असलियत अब दुनिया के सामने आ गई है।

गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे ने पाकिस्तान के गृह मंत्री रहमान मलिक के भारत दौरे पर सोमवार को संसद में दिए बयान में यह खुलासा किया। उन्होंने कहा कि गत शुक्रवार को हुई बातचीत के दौरान मलिक ने उनसे कहा कि वह सईद की गिरफ्तारी के संदर्भ में दस्तावेज अपने साथ लेकर आए हैं। शिंदे के कहने पर मलिक ने उन्हें सईद की वर्ष 2002 और 2009 में की गई गिरफ्तारी से संबंधित दस्तावेज उपलब्ध कराए। 

गृह मंत्री ने कहा कि इन दस्तावेजों की जब जांच की गई तो पता चला कि दोनों मामलों में सईद की गिरफ्तारी 26./11 मुंबई हमले की बजाय अन्य कारणों से हुई थी।  शिंदे ने कहा कि वह सिर्फ यही कह सकते हैं कि इस बारे में मलिक को वहां के अधिकारियों ने गलत जानकारी दी। गृह मंत्री ने सदन में मलिक से विभिन्न मुद्दों पर हुई बातचीत का ब्योरा भी रखा।

 

 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें