बुधवार, 01 जुलाई, 2015 | 22:27 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    अब मोबाइल फोन से डायल हो सकेगा लैंडलाइन नंबर गोद से गिरी बच्ची, बचाने के लिए मां भी चलती ट्रेन से कूदी बलात्कार मामलों में कोई समझौता नहीं, औरत का शरीर उसके लिए मंदिर के समान होता है: सुप्रीम कोर्ट अब यूपी पुलिस 'चुड़ैल' को ढूंढेगी, जानिए क्या है पूरा मामला  खुलासा: एक रुपया तैयार करने का खर्च एक रुपये 14 पैसे दार्जिलिंग: भूस्‍खलन के कारण 38 लोगों की मौत, पीएम ने जताया शोक, 2-2 लाख रुपये मुआवजे का ऐलान यूनान ने किया डिफॉल्ट, नहीं चुकाया अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष का कर्ज विकी‍पीडिया पर नेहरू को मुस्लिम बताये जाने पर भड़की कांग्रेस, पूछा अब क्या कार्रवाई करेगी मोदी सरकार PHOTO: जब मंत्रीजी ने पकड़ी लेडी डॉक्टर की कॉलर और बोले... ललित मोदी के ट्वीट पर बवाल, भाजपा नहीं करेगी वरुण गांधी का बचाव
सितार से चमकाए संगीत के सितारे
पद्मविभूषण पंडित बिरजू महाराज (शास्त्रीय नर्तक व कथक गुरु) First Published:12-12-12 11:38 PM

सुबह टीवी पर खबर देखी, तो एक बार यकीन ही नहीं हुआ। हम बार-बार आंखें मलकर देखने लगे। मगर, खबर सच थी। पंडित रविशंकर अब हमारे बीच में नहीं हैं, मगर उनकी कला हमेशा जिंदा रहेगी। वह एक महान सितारवादक होने के साथ-साथ संगीत के ऐसे गुरु थे, जो एक इशारे में ही बहुत कुछ समझा देते थे।    

पंडित रविशंकर मेरे चाचा पंडित शंभू महाराज व पंडित लाचू महाराज के मित्र थे। इस नाते भी मुङो उनका आशीर्वाद हमेशा मिलता रहा। मुङो उनके साथ स्टेज शो का मौका तो नहीं मिला, मगर उनके घर पर सितार के साथ तबला जरूर बजाया। वह बहुत खुश हुआ करते थे और कुछ समझाना होता, तो एक संकेत से ही समझा दिया करते थे। उन्होंने भारतीय संगीत को विदेशों में एक खास पहचान दी। सितारवादन को तो उस ऊंचाई तक पहुंचाया, जिसकी कल्पना करना भी मुश्किल था। अमेरिका में उनकी कला का ऐसा जादू चला कि सितार वहीं बनने व रिपेयर होने लगे हैं। उन्होंने देसी व विदेशी साजों को समझा, पढ़ा और जाना। वे सभी गुर उनके सितार वादन में मिलते हैं। ईश्वर को ऐसी बड़ी हस्तियों को और लंबा जीवन देना चाहिए।
प्रस्तुति- सुनीता तिवारी

 

 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड