शुक्रवार, 29 मई, 2015 | 13:37 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    26 लड़कियों से दुष्कर्म करने वाले टीचर को मौत की सजा रेडियोएक्टिव पदार्थ लीक होने से आईजीआई एअरपोर्ट पर अफरा तफरी स्पेलिंग बी प्रतियोगिता में फिर से भारतीयों का बोलबाला सरकारी नौकरी के मौके ही मौकेः 400 से ज्यादा दसवीं पास से लेकर इंजीनियर तक वैकेंसी 4.3 लाख साल पहले हुई थी पहली बार इंसान की हत्या VIDEO: देखिए जब सिख लड़के ने अंग्रेज छात्र को सिखाया सबक बिंद्रा ने रियो ओलंपिक के लिए क्वालीफाई किया मोदी का किया विरोध, तो छात्र संगठन पर IIT ने लगाया बैन देशभर में कहीं बारिश कहीं लू, अब तक 1826 लोगों की मौत पलमेरा के रोमन थिएटर में आईएस का नरसंहार
सितार से चमकाए संगीत के सितारे
पद्मविभूषण पंडित बिरजू महाराज (शास्त्रीय नर्तक व कथक गुरु) First Published:12-12-12 11:38 PM

सुबह टीवी पर खबर देखी, तो एक बार यकीन ही नहीं हुआ। हम बार-बार आंखें मलकर देखने लगे। मगर, खबर सच थी। पंडित रविशंकर अब हमारे बीच में नहीं हैं, मगर उनकी कला हमेशा जिंदा रहेगी। वह एक महान सितारवादक होने के साथ-साथ संगीत के ऐसे गुरु थे, जो एक इशारे में ही बहुत कुछ समझा देते थे।    

पंडित रविशंकर मेरे चाचा पंडित शंभू महाराज व पंडित लाचू महाराज के मित्र थे। इस नाते भी मुङो उनका आशीर्वाद हमेशा मिलता रहा। मुङो उनके साथ स्टेज शो का मौका तो नहीं मिला, मगर उनके घर पर सितार के साथ तबला जरूर बजाया। वह बहुत खुश हुआ करते थे और कुछ समझाना होता, तो एक संकेत से ही समझा दिया करते थे। उन्होंने भारतीय संगीत को विदेशों में एक खास पहचान दी। सितारवादन को तो उस ऊंचाई तक पहुंचाया, जिसकी कल्पना करना भी मुश्किल था। अमेरिका में उनकी कला का ऐसा जादू चला कि सितार वहीं बनने व रिपेयर होने लगे हैं। उन्होंने देसी व विदेशी साजों को समझा, पढ़ा और जाना। वे सभी गुर उनके सितार वादन में मिलते हैं। ईश्वर को ऐसी बड़ी हस्तियों को और लंबा जीवन देना चाहिए।
प्रस्तुति- सुनीता तिवारी

 

 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें
Image Loadingमूडी, पोटिंग, फ्लेमिंग या विटोरी हो सकते हैं टीम इंडिया के नए कोच
भारतीय टीम के पूर्व कोच डंकन फ्लेचर का कार्यकाल खत्म हो चुका है और बीसीसीआई अब एक नए कोच की तलाश में जुटी हुई है। टीम इंडिया का कोच बनना एक बड़ी चुनौती होती है।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड