गुरुवार, 30 जुलाई, 2015 | 23:42 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    ना 'पाक' हरकतों से नहीं बाज आ रहा है पाकिस्तान, फिर किया सीजफायर का उल्लंघन, 1 जवान शहीद देश में केवल 17 व्यक्तियों पर 2.14 लाख करोड़ का कर बकाया  2022 तक आबादी में चीन को पीछे छोड़ देगा भारत  झारखंड में दिसंबर तक होगी 40 हजार शिक्षकों की नियुक्तियां महिन्द्रा सितंबर में पेश करेगी एसयूवी टीयूवी-300  नेपाल: भारी बारिश के बाद भूस्खलन, 13 महिलाओं समेत 33 की मौत, 20 से अधिक लापता पेट्रोल-डीजल के दामों में हो सकती है कटौती, 1 रुपये 50 पैसे तक घट सकते हैं दाम नागपुर की सेंट्रल जेल में 1984 के बाद पहली बार दी गई फांसी पढ़ें 1993 में हुए सीरियल बम ब्लास्ट से अब तक का घटनाक्रम निर्दोषों को आतंकी कहा जा रहा है, मैं धमाकों का जिम्मेदार नहीं: याकूब
सितार से चमकाए संगीत के सितारे
पद्मविभूषण पंडित बिरजू महाराज (शास्त्रीय नर्तक व कथक गुरु) First Published:12-12-2012 11:38:20 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

सुबह टीवी पर खबर देखी, तो एक बार यकीन ही नहीं हुआ। हम बार-बार आंखें मलकर देखने लगे। मगर, खबर सच थी। पंडित रविशंकर अब हमारे बीच में नहीं हैं, मगर उनकी कला हमेशा जिंदा रहेगी। वह एक महान सितारवादक होने के साथ-साथ संगीत के ऐसे गुरु थे, जो एक इशारे में ही बहुत कुछ समझा देते थे।    

पंडित रविशंकर मेरे चाचा पंडित शंभू महाराज व पंडित लाचू महाराज के मित्र थे। इस नाते भी मुङो उनका आशीर्वाद हमेशा मिलता रहा। मुङो उनके साथ स्टेज शो का मौका तो नहीं मिला, मगर उनके घर पर सितार के साथ तबला जरूर बजाया। वह बहुत खुश हुआ करते थे और कुछ समझाना होता, तो एक संकेत से ही समझा दिया करते थे। उन्होंने भारतीय संगीत को विदेशों में एक खास पहचान दी। सितारवादन को तो उस ऊंचाई तक पहुंचाया, जिसकी कल्पना करना भी मुश्किल था। अमेरिका में उनकी कला का ऐसा जादू चला कि सितार वहीं बनने व रिपेयर होने लगे हैं। उन्होंने देसी व विदेशी साजों को समझा, पढ़ा और जाना। वे सभी गुर उनके सितार वादन में मिलते हैं। ईश्वर को ऐसी बड़ी हस्तियों को और लंबा जीवन देना चाहिए।
प्रस्तुति- सुनीता तिवारी

 

 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingपे टीएम ने बीसीसीआई से 2019 तक प्रायोजन अधिकार खरीदे
पे टीएम के मालिक वन97 कम्युनिकेशंस ने आज भारत में अगले चार साल तक होने वाले घरेलू और अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैचों के अधिकार 203.28 करोड़ रूप में खरीद लिए।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड