रविवार, 05 जुलाई, 2015 | 18:23 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    फेसबुक ने 15 साल बाद मां-बेटे को मिलाया  व्हाट्सएप मैसेज से बवाल कराने वाला बीए का छात्र मोहित गिरफ्तार मुरादाबाद: नदी में पलटी जुगाड़ नाव, आठ डूबे, सर्च ऑपरेशन जारी यूपी के रामपुर में दो भाईयों की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच में जुटी बिहार के हाजीपुर में भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद, छह गिरफ्तार झारखंड: चतरा के टंडवा में हाथियों ने कई घर तोड़े, खा गए धान बिहार में आंखों का अस्पताल बनाने के लिए इंडो-अमेरिकन्स का बड़ा कदम मुजफ्फरनगर के शुक्रताल में हजारों मछलियां मरीं, संत समाज बैठा धरने पर भागलपुर: नलों से निकला लाल पानी, लोगों ने बताया खून, लगाया जाम बेउर जेल में बाहुबली रीतलाल यादव के वार्ड में छापा, मोबाइल और सिम मिले
लॉंबिंग की जांच को तैयार सरकार
नई दिल्ली, विशेष संवाददाता First Published:11-12-12 11:19 PM

वॉलमार्ट द्वारा भारत सहित कई देशों में लॉबिंग पर 125 करोड़ रुपये खर्च करने के मामले में लगातार दूसरे दिन हंगामे के चलते लोकसभा की कार्यवाही ठप रही। सरकार मंगलवार को हालांकि मामले की जांच के लिए तैयार हो गई, लेकिन पेशकश ठुकराते हुए विपक्ष न्यायिक या जेपीसी से जांच कराने की मांग पर अड़ा रहा।

संसदीय कार्यमंत्री कमलनाथ ने लोकसभा में कहा, हमें मीडिया खबरों के जरिये वॉलमार्ट द्वारा लॉबिंग पर खर्च करने की जानकारी मिली है। इस मामले को सरकार चिंताजनक ढंग से देखती है और इसकी जांच कराने में कोई हिचक नहीं है। हम इस संबंध में आगे के कदमों की घोषणा सदन में करेंगे। इससे पहले, शून्यकाल के दौरान मामला उठाते हुए भाजपा के यशवंत सिन्हा ने कहा कि यह देश की इज्जत से जुड़ा है।

इसलिए 60 दिनों के भीतर इसकी न्यायिक या संयुक्त संसदीय समिति (जेपीसी) से जांच कराकर पता लगाना चाहिए कि वॉलमार्ट का पैसा किस किस ने खाया। सरकार तत्काल जांच की घोषणा करे और बताए कि पैसा खाने वालों के खिलाफ उसने क्या कार्रवाई की है?

 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड