गुरुवार, 24 जुलाई, 2014 | 01:51 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    ताइवान में विमान दुर्घटनाग्रस्त, 51 लोगों की मौत, सात घायल  दिमागी बुखार से बंगाल में अब तक 105 की मौत नक्सल क्षेत्रों में ट्रेनों को लेकर बढ़ेगी चौकसी  स्कूलों में मेल, फिमेल के बाद अब ट्रांसजेंडर भी राष्ट्रीय कर न्यायाधिकरण कानून में तमाम खामियां: कोर्ट  महाराष्ट्र चुनाव से पहले कांग्रेस ने की विदर्भ की मांग राष्ट्रीय कर न्यायाधिकरण कानून में तमाम खामियां: कोर्ट  जांच आयोगों की अवमानना नहीं हो सकती: सुप्रीम कोर्ट  विदेशी धन लेने के मामले में कांग्रेस पहुंची सुप्रीम कोर्ट  पता नहीं था कैंटीन कर्मचारी मुस्लिम है: शिवसेना सांसद
 
लॉबिंग तो भारत सरकार ने भी कराई
वॉशिंगटन, यशवंत राज
First Published:10-12-12 11:20 PM
 imageloadingई-मेल Image Loadingप्रिंट  टिप्पणियॉ: (0) अ+ अ-

भारत में एफडीआई लागू करने के लिए वॉलमार्ट द्वारा लॉबिंग पर भारी भरकम राशि खर्च करने पर हंगामा मचा है। लेकिन हकीकत तो यह है कि भारत की निजी कंपनियों ने ही नहीं बल्कि सरकार ने भी अमेरिकी प्रशासन में लॉबिंग पर मोटी राशि खर्च की है।

भारत सरकार ने 2012 के अंतिम तिमाही में बारबर ग्रिफिथ एंड रोजर्स एलएलसी से ‘अमेरिका-भारत द्विपक्षीय संबंधों पर’ अमेरिकी कांग्रेस, वाणिज्य विभाग, अमेरिकी व्यापार प्रतिनिधिमंडल में लॉबिंग कराई। इस पर 1.80 लाख डॉलर खर्च किए गए। परमाणु करार के दौरान तो भारत ने सबसे ज्यादा पैसे लॉबिंग पर खर्च किए। इस करार पर जितना विरोध भारत में हो रहा था, अमेरिका में भी उतना ही विरोध था।

वॉलमार्ट ने 2008 में अमेरिकी कांग्रेस और भारत और चीन के बड़े बाजार में निवेश सहित अन्य मुद्दों को लेकर सिर्फ अमेरिका में लॉबिंग पर 13.7 लाख डॉलर खर्च किए।

 
 imageloadingई-मेल Image Loadingप्रिंट  टिप्पणियॉ: (0) अ+ अ- share  स्टोरी का मूल्याकंन
 
टिप्पणियाँ
 

लाइवहिन्दुस्तान पर अन्य ख़बरें

आज का मौसम राशिफल
अपना शहर चुने  
धूपसूर्यादय
सूर्यास्त
नमी
 : 05:41 AM
 : 06:55 PM
 : 16 %
अधिकतम
तापमान
43°
.
|
न्यूनतम
तापमान
24°