शुक्रवार, 31 अक्टूबर, 2014 | 22:39 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
विद्या प्रकाश ठाकुर ने भी राज्यमंत्री पद की शपथ लीदिलीप कांबले ने ली राज्यमंत्री पद की शपथविष्णु सावरा ने ली मंत्री पद की शपथपंकजा गोपीनाथ मुंडे ने ली मंत्री पद की शपथचंद्रकांत पाटिल ने ली मंत्री पद की शपथप्रकाश मंसूभाई मेहता ने ली मंत्री पद की शपथविनोद तावड़े ने मंत्री पद की शपथ लीसुधीर मुनघंटीवार ने मंत्री पद की शपथ लीएकनाथ खड़से ने मंत्री पद की शपथ लीदेवेंद्र फडणवीस ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली
टीम इंडिया भगवान भरोसे
कोलकाता, एजेंसियां First Published:08-12-12 11:32 PM

कोलकाता के ईडन गार्डन में शनिवार को इंग्लैंड के खिलाफ तीसरे टेस्ट मैच के चौथे दिन टीम इंडिया के सलामी बल्लेबाज विरेन्दर सहवाग की बेबाक टिप्पणी ने मानो हर हिन्दुस्तानी के जज्बातों को बयां कर दिया। सहवाग ने कहा कि अब कोई चमत्कार ही भारत को बचा सकता है।

हम बस यह उम्मीद ही कर सकते हैं कि कल कुछ हो और हम टेस्ट मैच ड्रॉ कराने में सफल रहें। अब सिर्फ भगवान का ही भरोसा है। कोलकाता टेस्ट में 239 रनों पर नौ विकेट गंवाकर भारत लगभग हार की दहलीज तक पहुंच गया है।

निचले क्रम के बल्लेबाज आर. अश्विन नाबाद 83 रनों के साथ उम्मीद की एक आखिरी किरण की तरह चमचमा रहे हैं। उन्होंने न केवल टीम को पारी की हार से बचा लिया, बल्कि चौथे दिन खेल खत्म होने का दाग भी नहीं लगने दिया। गौरतलब है कि रविवार को चौथे टेस्ट मैच के लिए टीम का चयन होना है। इसमें कोलकाता टेस्ट में खराब प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ियों पर गाज गिर सकती है।

मैच के चौथे दिन 509/6 के स्कोर से शुरू हुई इंग्लैंड की शेष बल्लेबाजी को भारतीय गेंदबाजों ने कुछ ही मिनटों में समेट दिया। मेहमान टीम ने 523 रनों पर सभी विकेट खोने के साथ 207 रनों की बढ़त हासिल की। भारतीय सलामी बल्लेबाज गंभीर-सहवाग ने टीम को अच्छी शुरुआत देते हुए लंच से पहले तक 21 ओवर में 86 रन बनाए। लेकिन लंच के बाद स्पिन गेंदबाज स्वान की पहली ही गेंद पर सहवाग (49) चकमा खाकर बोल्ड हो गए। इसके बाद टीम के सभी मुख्य छह अन्य बल्लेबाज 69 रन ही जोड़ पाए।

भारत का स्कोर एक समय सात विकेट पर 155 रन था, लेकिन सुबह के सत्र में अच्छी गेंदबाजी कर दो विकेट झटकने वाले अश्विन ने विकेट पर मानों खूंटा गाड़ दिया। अश्विन ने सधी बल्लेबाजी करते हुए टीम को पारी की हार से बचाया।

 
 
|
 
 
टिप्पणियाँ