बुधवार, 08 जुलाई, 2015 | 03:36 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    VIDEO: शाहिद और मीरा विवाह के पवित्र बंधन में बंधे, देखिए दिलकश तस्वीरें कुमाऊं में भारी बारिश से 44 मार्ग बंद, केदार पैदल यात्रा भी नहीं हुई शुरू टर्किश एयरलाइंस के विमान को उड़ान की मंजूरी, कोई बम नहीं मिला दिल्ली छोड़कर जा रहा है 'चीकू', क्या आपको भी है खबर व्यापमं मामला: शिवराज पर बढ़ा दबाव, सीबीआई जांच को हुए तैयार गंगा का जलस्तर बढ़ा, बाढ़ का खतरा सदी की सबसे बड़ी फाइट जीतकर भी हार गए मेवेदर, जानिए कैसे बख्शे नहीं जाएंगे थाने में महिला को जलाकर मारने के दोषी: अखिलेश यादव PHOTO: धौनी के लिए प्रशंसक ने बनवाया खास केक, आप भी देखें गूगल अर्थ में जल्द दिखेगा भारत के शहरों का एरियल व्यू
कई राज्यों से जुड़े हैं कबूतरबाजी के तार
नई दिल्ली, अंकुर शर्मा First Published:07-12-12 11:31 PMLast Updated:07-12-12 11:33 PM

राजधानी के एयरपोर्ट पर सुरक्षा को धत्ता बताकर चलाए जा रहे कबूतरबाजी गिरोह के तार कई राज्यों से जुड़े हैं। ‘हिन्दुस्तान’ के इस सनसनीखेज खुलासे के बाद पुलिस ने शुक्रवार को मामला दर्ज कर एयर इंडिया के आरोपी अधिकारी राहुल रॉय को गिरफ्तार कर लिया। इमिग्रेशन में तैनात दिल्ली पुलिस के हेड कांस्टेबल संजीव कुमार को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। हालांकि, पुलिस इस पूरे मामले पर बात करने से बच रही है।

जांच में पता चला है कि एयरपोर्ट पर पकड़े गए सभी आठों लोग एक-दूसरे को पहले से नहीं जानते थे। ये अलग-अलग राज्यों से हैं और इन्हें गत तीन दिसंबर को दिल्ली बुलाया था। इस गिरोह के तार आंध्र प्रदेश के हैदराबाद व कर्नाटक के बेंगलुरु आदि से जुड़े होने की बात सामने आई है। अन्य राज्यों के एजेंट भी इस गिरोह की मदद से लोगों को विदेश भेजते थे।

जांच के लिए दिल्ली पुलिस की टीम आंध्र प्रदेश जाएगी। शिकायतकर्ता सिकनामेतला गणेश ने पुलिस को बताया कि गुरुवार को एयरपोर्ट पर दो पुलिसकर्मियों ने उनके बोर्डिंग पास छीन लिए थे। इसके बाद एयर इंडिया के अधिकारी राहुल रॉय और इमिग्रेशन के एक अधिकारी से बात करके उन्होंने पास वापस कर दिए।

गणेश के अनुसार, उनके एजेंट शेखर ने दिल्ली के एक व्यक्ति का फोन नंबर दिया था, जो उन्हें नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पर मिला। उसी ने एयरपोर्ट पर उन्हें हेड कांस्टेबल संजीव कुमार से मिलवाया। इसके बाद की औपचारिकता पूरी करने की जिम्मेदारी संजीव की थी। पकड़े गए लोगों ने विदेश जाने की तैयारी तीन महीने पहले ही शुरू कर दी थी।

 

 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड