शुक्रवार, 28 अगस्त, 2015 | 18:13 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
पाकिस्तान के विदेश सचिव ने भारतीय उच्चायुक्त को तलब किया, संघर्ष विराम उल्लंघन के खिलाफ विरोध दर्ज कराया।
‘आम आदमी’ के साथ नहीं हैं अन्ना हजारे
नई दिल्ली, एजेंसियां First Published:07-12-2012 01:51:12 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

बोले- अरविंद केजरीवाल सत्ता के लालची हो गए हैं, अब मैं उनकी पार्टी को वोट नहीं दे सकता
महज पांच दिन पहले तक अरविंद केजरीवाल की पार्टी को समर्थन देने की बात करने वाले अन्ना अब उबल पड़े हैं। अन्ना ने गुरुवार को साफ कहा कि अरविंद सत्ता के लालची हो गए हैं और अब मैं उनकी ‘आम आदमी पार्टी’ को वोट नहीं दे सकता।

एक समाचार चैनल के कार्यक्रम में हजारे ने आरोप लगाया कि अरविंद की पार्टी भी दूसरी पार्टियों की तरह धन के जरिए सत्ता के रास्ते पर जा रही है। केजरीवाल की नीयत पर संदेह जाहिर करते हुए हजारे ने कहा, पहले मैं सोचा करता था कि अरविंद निस्वार्थ सेवा में हैं। लेकिन केजरीवाल की राजनीतिक महत्वाकांक्षा के कारण ही रिश्तों में दरार आई। हजारे ने कहा, व्यवस्था परिवर्तन के लिए स्वतंत्रता के बाद पहली बार आंदोलन चल रहा था। पर उस समय मुझे नहीं पता कि उनके दिमाग में पार्टी बनाने का विचार कैसे आया। अन्ना ने कहा, अगर केजरीवाल के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोप लगते हैं तो उसके खिलाफ भी आंदोलन करूंगा।

अन्ना के बदले सुर
06 मार्च 2012 (दिल्ली)

मैंने सोचा था कि मैं आम आदमी पार्टी के लिए मतदान करुंगा पर अब ऐसा करना मुश्किल है।

01 दिसंबर 2012 (भुवनेश्वर)
सिर्फ उन्हीं उम्मीदवारों का प्रचार करुंगा जिन्हें केजरीवाल खड़ा करेंगे।

क्या बोले थे अरविंद
30 सितंबर 2012
पार्टी बनाने का फैसला मेरा नहीं बल्कि अन्ना का ही था। लेकिन बाद में अपने फैसले से वह खुद पीछे हट गए। मैं धर्म संकट में फंस गया हूं। एक तरफ मेरा देश है दूसरी तरफ अन्ना, मैँ किसे चुनूं?

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingबारिश ने धोया पहले दिन का खेल, भारत 50/2
भारत और श्रीलंका के बीच तीसरे और आखिरी क्रिकेट टेस्ट के पहले दिन शुक्रवार को बारिश के कारण दो सत्र से अधिक का खेल नहीं हो सका जबकि भारत ने पहली पारी में दो विकेट पर 50 रन बनाए।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

जब जय की हुई जमकर पिटाई...
वीरू (जय से): कल तुझे मेरे मोहल्ले के दस लड़कों ने बहुत बुरी तरह पीटा। फिर तूने क्या किया?
जय: मैंने उन सभी से कहा कि कि अगर हिम्मत है, तो अकेले-अकेले आओ।
वीरू: फिर क्या हुआ?
जय: होना क्या था, उसके बाद उन सबने एक-एक करके फिर से मुझे पीटा।