सोमवार, 06 जुलाई, 2015 | 12:43 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    रांची: NRI को किया अगवा, पैसे लूटे, मारपीट कर फेंका देहरादून में 14 घंटे से लगातार हो रही है बारिश, जनता परेशान बरसात के पानी में खेल रहे थे तीन दोस्त, करंट लगने से हुई मौत झारखंड के लातेहार में अनियंत्रित ट्रक घर में घुसा, जीप भी पलटी अनिश्चित भविष्य की ओर यूनान, अंतरराष्ट्रीय दानदाताओं की शर्तें ठुकराई  व्यापमं: महिला सब इंस्पेक्टर की संदिग्ध मौत, पुलिस ने कहा आत्महत्या मोदी 6 देशों के दौरे पर रवाना, ब्रिक्स बैठक में लेंगे हिस्सा शिखर पर पहुंचने के बावजूद सिविल सेवा में महिलाओं की हिस्सेदारी कम दिल्ली में झमाझम बारिश, लोगों को मिली गर्मी से राहत आयुध फैक्टरियों में 67 हजार पदों को भरने की प्रक्रिया जल्द होगी शुरू
पांच पैसे प्रतिदिन से ज्यादा लेट फीस लेना गैरकानूनी
नई दिल्ली, प्रभात कुमार First Published:07-12-12 01:33 PM

फीस जमा करने में देरी पर राजधानी के निजी स्कूल छात्रों से प्रतिदिन पांच पैसे से अधिक जुर्माना वसूल नहीं कर सकते हैं। दिल्ली शिक्षा निदेशालय ने हाईकोर्ट में हलफनामा दायर कर नियमों का हवाला देते हुए यह बात कही है।

जस्टिस जी.एस. सिस्तानी की अदालत में दाखिल हलफनामे में कहा गया है कि दिल्ली स्कूल शिक्षा अधिनियम-1973 का नियम-166 सभी गैर सहायता प्राप्त निजी स्कूलों पर लागू होता है। इसके तहत फीस में देरी पर प्रतिदिन पांच पैसे से अधिक जुर्माना वसूलना गैरकानूनी है। 

दरअसल, रामजस स्कूल के एक छात्र के पिता राकेश यादव ने लेट फीस के नाम पर दस रुपये प्रतिदिन के हिसाब से 800 रुपये जुर्माना वसूलने के खिलाफ हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी। उन्होंने नियमों का हवाला देते हुए वसूले गए पैसे को वापस कराने का आग्रह किया था।

इस पर कोर्ट ने पिछले आदेश के अनुरूप तर्कसंगत फैसला नहीं करने के लिए उपशिक्षा निदेशक के.एस. यादव की खिंचाई की और निदेशालय पर दस हजार रुपये जुर्माना भी लगाया। साथ ही कोर्ट ने इस मामले में निदेशालय को एक महीने के भीतर तर्कसंगत आदेश पारित करने का निर्देश दिया है।

ऐसे कटती है जेब
आम तौर पर स्कूलों में फीस जमा करने की अंतिम तिथि 10 होती है
इसके बाद शुरू में दस रुपये और फिर दिनों के हिसाब से जुर्माना है

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड