शुक्रवार, 31 अक्टूबर, 2014 | 00:24 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    नौकरानी की हत्या: धनंजय को जमानत, जागृति के रिकार्ड मांगे अमर सिंह के समाजवादी पार्टी में प्रवेश पर उठेगा पर्दा योगी आदित्य नाथ ने दी उमा भारती को चुनौती देश में मौजूद कालेधन पर रखें नजर : अरुण जेटली शिक्षा को लेकर मोदी सरकार पर आरएसएस का दबाव कोयला घोटाला: सीबीआई को और जांच की अनुमति सिख दंगा पीड़ितों के परिजनों को पांच लाख देगा केंद्र अपमान से आहत शिवसेना ने किया फडणवीस के शपथ ग्रहण का बहिष्कार सरकार का कटौती अभियान शुरू, प्रथम श्रेणी यात्रा पर प्रतिबंध बेटे की दस्तारबंदी के लिए बुखारी का शरीफ को न्यौता, मोदी को नहीं
बिना ऑक्सीजन गईं चार जानें
नई दिल्ली, वरिष्ठ संवाददाता First Published:04-12-12 11:37 PM

कश्मीरी गेट स्थित सुश्रुत ट्रॉमा सेंटर में मंगलवार को चार मरीज अव्यवस्था की भेंट चढ़ गए। सभी आईसीयू में ऑक्सीजन पर थे और अचानक सिलेंडर खाली हो गया। आलम यह है कि अस्पताल प्रबंधन लापरवाही का ठीकरा ऑक्सीजन सिलेंडर मुहैया कराने वाली कंपनी के सिर फोड़कर पल्ला झाड़ रहा है। अस्पताल के अतिरिक्त चिकित्सा अधीक्षक की शिकायत पर देर रात को मामला दर्ज किया गया। साथ ही, जांच समिति भी गठित की गई है।

मृतकों में 36 वर्षीय रेहाना, 35 वर्षीय राजकुमारी, 23 वर्षीय जावेद की पहचान हो गई है, जबकि एक की शिनाख्त नहीं हुई है। रेहाना, जावेद और अज्ञात शख्स को सड़क हादसे में गंभीर रूप से घायल होने पर, जबकि राजकुमारी को जहरीला पदार्थ खाने के बाद वेंटिलेटर पर रखा गया था। इनके साथ विक्रम भी वेंटिलेटर पर था। बागपत में सड़क हादसे की शिकार रेहाना के सिर का ऑपरेशन हुआ था और वह रविवार को भर्ती हुई थी। स्वरूप नगर की राजकुमारी को 30 नवंबर, जबकि जावेद (कश्मीरी गेट)व अज्ञात (सदर बाजार) को 3 दिसंबर को भर्ती किया गया था। मंगलवार सुबह 6.40 बजे आईसीयू की आपातकालीन घंटी बजी तो डॉक्टर और नर्स भागकर वहां पहुंचे तो देखा पांचों मरीजों को सांस लेने में दिक्कत हो रही है। ऑक्सीजन सिलेंडर खाली देख डॉक्टरों ने डय़ूटी पर तैनात अमित को बुलाया। लेकिन जब तक उसने सिलेंडर बदला, चारों की मौत हो चुकी थी। जैसे-तैसे विक्रम को बचाया गया, लेकिन उसकी भी हालत नाजुक बनी हुई है।

 

 
 
|
 
 
टिप्पणियाँ