बुधवार, 05 अगस्त, 2015 | 17:58 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
दुमका की मयुराक्षी नदी में नहाने के दौरान 6 बच्चे डूबे। 2 के शव निकाले गए। अन्य की तलाश जारी है।पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेटर वसीम अकरम पर हमला, गाड़ी पर की गई फायरिंग, बाल-बाल बचे अकरम।
बिना ऑक्सीजन गईं चार जानें
नई दिल्ली, वरिष्ठ संवाददाता First Published:04-12-2012 11:37:33 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

कश्मीरी गेट स्थित सुश्रुत ट्रॉमा सेंटर में मंगलवार को चार मरीज अव्यवस्था की भेंट चढ़ गए। सभी आईसीयू में ऑक्सीजन पर थे और अचानक सिलेंडर खाली हो गया। आलम यह है कि अस्पताल प्रबंधन लापरवाही का ठीकरा ऑक्सीजन सिलेंडर मुहैया कराने वाली कंपनी के सिर फोड़कर पल्ला झाड़ रहा है। अस्पताल के अतिरिक्त चिकित्सा अधीक्षक की शिकायत पर देर रात को मामला दर्ज किया गया। साथ ही, जांच समिति भी गठित की गई है।

मृतकों में 36 वर्षीय रेहाना, 35 वर्षीय राजकुमारी, 23 वर्षीय जावेद की पहचान हो गई है, जबकि एक की शिनाख्त नहीं हुई है। रेहाना, जावेद और अज्ञात शख्स को सड़क हादसे में गंभीर रूप से घायल होने पर, जबकि राजकुमारी को जहरीला पदार्थ खाने के बाद वेंटिलेटर पर रखा गया था। इनके साथ विक्रम भी वेंटिलेटर पर था। बागपत में सड़क हादसे की शिकार रेहाना के सिर का ऑपरेशन हुआ था और वह रविवार को भर्ती हुई थी। स्वरूप नगर की राजकुमारी को 30 नवंबर, जबकि जावेद (कश्मीरी गेट)व अज्ञात (सदर बाजार) को 3 दिसंबर को भर्ती किया गया था। मंगलवार सुबह 6.40 बजे आईसीयू की आपातकालीन घंटी बजी तो डॉक्टर और नर्स भागकर वहां पहुंचे तो देखा पांचों मरीजों को सांस लेने में दिक्कत हो रही है। ऑक्सीजन सिलेंडर खाली देख डॉक्टरों ने डय़ूटी पर तैनात अमित को बुलाया। लेकिन जब तक उसने सिलेंडर बदला, चारों की मौत हो चुकी थी। जैसे-तैसे विक्रम को बचाया गया, लेकिन उसकी भी हालत नाजुक बनी हुई है।

 

 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

संता बंता और अलार्म

संता बंता से - 20 सालों में, आज पहली बार अलार्म से सुबह सुबह मेरी नींद खुल गई।

बंता - क्यों, क्या तुम्हें अलार्म सुनाई नहीं देता था?

संता - नहीं आज सुबह मुझे जगाने के लिए मेरी बीवी ने अलार्म घड़ी फेंक कर सिर पर मारी।