गुरुवार, 03 सितम्बर, 2015 | 05:19 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
चेक के दस्तखत में चूक पर चलेगा केस
नई दिल्ली, एजेंसियां First Published:02-12-2012 11:22:35 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

अगर आप चेक पर हस्ताक्षर कर रहे हैं तो थोड़ा सावधान रहिए। आपका हस्ताक्षर वैसा ही होना चाहिए जैसा आपने बैंक में खाता खोलते समय किया था। सुप्रीम कोर्ट की नई व्यवस्था के मुताबिक किसी व्यक्ति द्वारा जारी चेक यदि इस आधार पर खारिज हो जाता है कि उसके दस्तखत बैंक के पास उपलब्ध हस्ताक्षर से नहीं मिले, तो उसके खिलाफ आपराधिक मामला चलाया जा सकता है।

सुप्रीम कोर्ट में न्यायमूर्ति टीएस ठाकुर और न्यायमूर्ति ज्ञान सुधा मिश्र की पीठ ने गुजरात उच्च न्यायालय के फैसले को खारिज करते हुए यह आदेश दिया। इससे पहले उच्च न्यायालय ने अपने फैसले में कहा था कि चेक के डिसऑनर होने के मामले में आपराधिक मामला तभी चलाया जा सकता है, जबकि चेक जारी करने वाले के खाते में पर्याप्त धनराशि न हो।

हस्ताक्षर न मिलने के मामले में आपराधिक मामला नहीं चलाया जा सकता। हाईकोर्ट के इस फैसले को पलटते हुए शीर्ष अदालत ने कहा कि हस्ताक्षर नहीं मिलने के मामलों में भी बैंक द्वारा चेक लौटाने पर खाताधारक को नोटिस दिया जा सकता है। साथ ही ऐसे मामले में चेक जारी करने वाले के खिलाफ आपराधिक प्रक्रिया शुरू की जा सकती है।

 

 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingश्रीलंका में 22 साल बाद भारत ने टेस्ट सीरीज जीती
भारतीय क्रिकेट टीम ने सिंहलीज स्पोर्ट्स क्लब मैदान पर जारी तीसरे टेस्ट मैच के पांचवें दिन श्रीलंका को 117 रनों से हराया। इस जीत के साथ भारत ने 22 साल बाद टेस्ट सीरीज पर कब्जा कर इतिहास रचा।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड Others
 
Image Loading

मैथ नहीं जानते
टीचर-सोनू, तुम्हारे पापा ने 10 प्रतिशत के सालाना ब्याज पर 5000 रुपए कर्ज लिए। वे एक साल बाद कर्ज वापस करते हैं, बताओ वह कुल कितने पैसे वापस करेंगे?
सोनू-कुछ भी नहीं।
टीचर (गुस्से में)-तुम मैथ नहीं जानते।
सोनू-सर, मैं तो मैथ जानता हूं, पर आप मेरे पिताजी को नहीं जानते