रविवार, 05 जुलाई, 2015 | 18:23 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    फेसबुक ने 15 साल बाद मां-बेटे को मिलाया  व्हाट्सएप मैसेज से बवाल कराने वाला बीए का छात्र मोहित गिरफ्तार मुरादाबाद: नदी में पलटी जुगाड़ नाव, आठ डूबे, सर्च ऑपरेशन जारी यूपी के रामपुर में दो भाईयों की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच में जुटी बिहार के हाजीपुर में भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद, छह गिरफ्तार झारखंड: चतरा के टंडवा में हाथियों ने कई घर तोड़े, खा गए धान बिहार में आंखों का अस्पताल बनाने के लिए इंडो-अमेरिकन्स का बड़ा कदम मुजफ्फरनगर के शुक्रताल में हजारों मछलियां मरीं, संत समाज बैठा धरने पर भागलपुर: नलों से निकला लाल पानी, लोगों ने बताया खून, लगाया जाम बेउर जेल में बाहुबली रीतलाल यादव के वार्ड में छापा, मोबाइल और सिम मिले
इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनें पूरी तरह से छेड़छाड़रोधी: सरकार
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:17-12-12 06:24 PMLast Updated:17-12-12 06:26 PM
Image Loading

सरकार ने सोमवार को कहा कि मतदान के लिए उपयोग की जाने वाली इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों कि किसी तरह की छेड़छाड़ किए जाने की कोई गुंजाइश नहीं है। कानून मंत्री अश्विनी कुमार ने राज्यसभा को बताया कि विभिन्न राजनीतिक दलों और संगठनों ने इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों के साथ छेड़छाड़ की आशंका को लेकर शिकायतें की थीं। इन शिकायतों की निर्वाचन आयोग ने जांच की और पाया कि शिकायतें गलत तथा बेबुनियाद हैं। उन्होंने बताया कि जांच से यह साफ हो गया कि इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनें छेड़छाड़ रोधी हैं।

कुमार ने वीरेंद्र प्रसाद वैश्य के प्रश्न के लिखित उत्तर में बताया कि आयोग ने राजनीतिक दलों के अनुरोध पर इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन निर्माताओं मैसर्स भारत इलेक्ट्रॉनिक लिमिटेड और मैसर्स इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड ऑफ इंडिया कारपोरेशन से पारदर्शिता सुनिश्चित करने के लिए वोटर वेरीफिएबल पेपर ऑडिट ट्रायल (वीवीपीएटी) विकसित करने को कहा है। इस पर काम जारी है।

 

 
 
 
अन्य खबरें
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड