बुधवार, 27 मई, 2015 | 07:12 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    दिल्ली विधानसभा: विशेष सत्र में हंगामा, बीजेपी विधायक को बाहर निकाला  यूपी: गर्मी का कहर जारी, राहत के आसार नहीं इस रेस्टोरेंट में आने वालों को बनना पड़ता है कैदी प्रतापगढ़ में रोडवेज के कैशियर की हत्या कर साढ़े सात लाख की लूट  सलमान को दुबई जाने के लिए कोर्ट से मिली अनुमति वसीम रिजवी शिया वक्फ बोर्ड के फिर चेयरमैन साहित्यिक चोरी के आरोप में 'पीके' के निर्माताओं को नोटिस 9 अधिकारियों के तबादले के बाद एलजी से मिले केजरीवाल  कांग्रेस के दस साल पर भारी भाजपा का एक साल: स्मृति दुनिया कर रही हरमन की तारीफ, किसी ने भेजा कार्ड तो किसी ने फर्नीचर
अखिलेश सरकार के 54% मंत्रियों पर आपराधिक मामले
लखनऊ, एजेंसी First Published:23-12-12 09:06 PMLast Updated:23-12-12 09:38 PM
Image Loading

उत्तर प्रदेश में कानून एवं व्यवस्था की स्थिति मजबूत करने को अपनी सर्वोच्च प्राथमिकता बताने वाली अखिलेश यादव सरकार में शामिल 54 प्रतिशत मंत्रियों के विरुद्ध गंभीर आपराधिक मामले दर्ज हैं।

यह खुलासा आज यहां चुनाव में सुधार के लिए जन जागरण अभियान में लगे एसोसिएशन फार डेमोक्रेटिक रिफार्म्स और नेशनल इलेक्शन वाच ने किया है।

एडीआर के संस्थापक सदस्य त्रिलोचन शास्त्री और इलेक्शन वाच के प्रदेश संयोजक संजय सिंह ने आज यहां संवाद्दाताओं से बातचीत में कहा कि विधानसभा चुनाव में नामांकन पत्रों के साथ दाखिल हलफनामे की पड़ताल से पता चला है कि अखिलेश यादव सरकार में शामिल 48 में से 26 मंत्रियों ने स्वयं ही अपने विरुद्ध विभिन्न आपराधिक मामले दर्ज रहे होने की बात की है। उनमें से नौ के विरुद्ध बलात्कार, हत्या, हत्या का प्रयास, अपहरण और डकैती जैसे मामले शामिल हैं।

उन्होंने बताया कि अमरोहा से सपा विधायक और अखिलेश यादव सरकार में वस्त्र उद्योग राज्यमंत्री महबूब अली ने अपने वरुद्ध हत्या, अपहरण और डकैती सहित सर्वाधिक 15 आपराधिक मामले दर्ज होने की बात स्वीकार की है, जबकि रसद आपूर्ति मंत्री रघुराज प्रताप सिंह ने आठ और ग्राम्य विकास राज्यमंत्री अरविंद सिंह गोप ने अपने विरुद्ध तीन आपराधिक मामले दर्ज होने की बात जाहिर की है।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
Image Loadingधौनी से कप्तानी के गुर सीखे : होल्डर
वेस्टइंडीज की वनडे टीम के युवा कप्तान जैसन होल्डर को लगता है कि चेन्नई सुपरकिंग्स के साथ बिताये गये दिनों में उन्हें किसी और से नहीं बल्कि भारत के सीमित ओवरों की टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धौनी से कप्तानी के गुर सीखने को मिले थे।