बुधवार, 26 नवम्बर, 2014 | 08:25 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    झारखंड में पहले चरण में लगभग 62 फीसदी मतदान  जम्मू-कश्मीर में आतंक को वोटरों का मुंहतोड़ जवाब, रिकार्ड 70 फीसदी मतदान  राज्यसभा चुनाव: बीरेंद्र सिंह, सुरेश प्रभु ने पर्चा भरा डीडीए हाउसिंग योजना का ड्रॉ जारी, घर का सपना साकार अस्थिर सरकारों ने किया झारखंड का बेड़ा गर्क: मोदी नेपाल में आज से शुरू होगा दक्षेस शिखर सम्मेलन  दक्षिण एशिया में शांति, विकास के लिए सहयोग करेगा भारत काले धन पर तृणमूल का संसद परिसर में धरना प्रदर्शन 'कोयला घोटाले में मनमोहन से क्यों नहीं हुई पूछताछ' दो राज्यों में प्रथम चरण के चुनाव की पल-पल की खबर
चोट से हुई थी कांस्टेबल तोमर की मौत: पोस्टमार्टम रिपोर्ट
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:26-12-12 06:00 PMLast Updated:26-12-12 07:36 PM
Image Loading

दिल्ली पुलिस के कांस्टेबल सुभाष तोमर की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में बुधवार को खुलासा हुआ है कि उनकी मौत किसी कुंद चीज से सीने और गर्दन पर लगी चोटों के कारण दिल का दौरा पड़ने से हुई थी।

कांस्टेबल की मौत के कारण को लेकर पैदा आशंकाओं के बीच पोस्टमार्टम रिपोर्ट ने दिल्ली पुलिस को बड़ी राहत दी है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट राममनोहर लोहिया अस्पताल के चिकित्सकीय अधीक्षक डॉक्टर टीएस सिद्धू के इस बयान विपरीत है कि कुछ मामूली चोटों के अलावा तोमर को कोई बड़ी बाहरी चोट नहीं थी और न ही कोई गंभीर अंदरूनी चोट थी।

रिपोर्ट में कहा गया कि 47 वर्षीय तोमर के बायीं ओर की तीसरी, चौथी और पांचवीं पसली टूटी हुई थी और कई जगहों से हल्का रक्तस्राव है। पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल द्वारा गठित मेडिकल बोर्ड ने मौत के कारण के बारे में कहा कि संभवत: किसी कुंद चीज से सीने और गर्दन पर लगी चोटों के कारण दिल का दौरा पड़ने से मौत हुई।

सूत्रों ने कहा कि कोशिकाओं में रक्त का बहाव मौजूद था और शरीर पर किसी कुंद चीज से हुए जोरदार प्रहार से गर्दन की मांसपेशियों तथा अन्य चोटें लगीं। रिपोर्ट के बारे में अतिरिक्त पुलिस आयुक्त (नई दिल्ली) केसी द्विवेदी ने कहा कि यह पाया गया कि उनके सीने, गर्दन और पैरों पर चोटें थीं, जिसके कारण उन्हें दिल का दौरा पड़ा और उनकी मौत हुई।

द्विवेदी ने कहा कि उन्हें काफी चोटें लगी थीं। उनकी पसलियां टूटी हुई थीं। इन चोटों के कारण उनकी स्थिति बिगड़ी और फिर उन्हें दिल का दौरा पड़ा। गौरतलब है कि तोमर की मौत पर विवाद उस समय पैदा हुआ था जब एक लड़की सहित दो चश्मदीद गवाहों ने दावा किया था कि तोमर पर हमला नहीं किया गया और वह रविवार को इंडिया गेट पर प्रदर्शनकारियों का पीछा करते हुए उनके सामने जमीन पर गिर पड़े थे।

यह पूछे जाने पर कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद क्या पुलिस राममनोहर लोहिया अस्पताल के डॉक्टरों के खिलाफ कार्रवाई शुरू करेगी, द्विवेदी ने कहा कि वह इस संबंध में कोई टिप्पणी नहीं कर सकते क्योंकि जांच अपराध शाखा के पास है। उन्होंने कहा कि मैं डॉक्टरों या चश्मदीद गवाहों के बयानों पर टिप्पणी नहीं कर सकता।

 

 
 
 
टिप्पणियाँ