शुक्रवार, 31 अक्टूबर, 2014 | 11:44 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
2जी केस में ए राजा, कनिमोझी, शाहिद बलवा समेत 19 लोगों पर आरोप तयअदालत ने मामले में, द्रमुक अध्यक्ष एम करुणानिधि की पत्नी दयालु अम्माल के खिलाफ भी आरोप तय किएदिल्ली की अदालत ने कोयला ब्लॉक आवंटन घोटाला मामले में गुप्ता तथा 4 अन्य को जमानत दीअदालत ने आरोपियों को एक-एक लाख रुपये के निजी मुचलके और इतनी ही राशि की जमानत पर रिहा किया
तेलंगाना मुद्दे पर केंद्र की बैठक के नतीजे से असंतुष्ट हैं टीआरएस प्रमुख चंद्रशेखर
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:28-12-12 03:44 PMLast Updated:28-12-12 05:20 PM
Image Loading

केंद्र की ओर से तेलंगाना के मुद्दे पर बुलाई गई बैठक के नतीजे से असंतुष्ट टीआरएस प्रमुख के चंद्रशेखर राव ने आज इसे व्यर्थ की कवायद करार देते हुए पृथक तेलंगाना राज्य की मांग के प्रति सरकार के रवैये के विरोध में कल तेलंगाना बंद का ऐलान किया है।
   
पृथक तेलंगाना राज्य के लिए आंदोलन के प्र्वतकों में पहचान बनाने वाले राव ने कहा कि वह केंद्र सरकार की इस घोषणा से संतुष्ट नहीं हैं कि इस बारे में निर्णय एक महीने में लिया जायेगा।
   
तेलंगाना के मुद्दे पर गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे की अध्यक्षता में हुई बैठक के बाद टीआरएस प्रमुख ने संवाददाताओं से कहा कि केंद्र ने यह बात सौ से अधिक बार कही है। उन्होंने अपना वायदा पूरा नहीं किया। उन्होंने फिर तेलंगाना के लोगों को धोखा दिया।
   
तेलंगाना के मुद्दे पर केंद्र की ओर से बुलाई गई बैठक में आंध्रप्रदेश के सभी पंजीकत राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया, जिसमें सभी दल अपने रुख पर कायम रहे।
   
राव ने कहा कि यह स्वीकार्य नहीं है। हम बैठक के नतीजों से खुश नहीं हैं। सभी दल अपने रूख पर कायम हैं। बैठक में किसी ने कोई नई बात नहीं कही। उन्होंने कहा कि तेलंगाना बंद का समर्थन तेलंगाना संयुक्त कार्य समितियां कर रही हैं और आज शाम तक भविष्य की कार्यवाही के बारे में निर्णय किया जायेगा।
   
चंद्रशेखर राव अलग तेलंगाना राज्य के गठन के लिए चल रहे आंदोलन में 2001 से ही अग्रणी भूमिका निभाते रहे हैं और 2009 में उनकी अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल के बाद ही केंद्र सरकार ने घोषणा की कि वह पथक तेलंगाना राज्य के गठन की दिशा में कदम उठायेगी।
   
हालांकि गैर तेलंगाना क्षेत्र के लोगों के विरोध के कारण बदली परिस्थितियों में इस निर्णय को टाल दिया गया था। केंद्र सरकार ने आंध्रप्रदेश की स्थिति पर न्यायमूर्ति बी एन श्रीकृष्ण समिति का गठन किया। समिति ने निष्कर्ष निकाला कि संयुक्त आंध्रप्रदेश सर्वश्रेष्ठ संभव समाधान है। इसके बाद से इस विषय पर आगे कोई पहल नहीं हो पाई।

 
 
 
टिप्पणियाँ