शनिवार, 22 नवम्बर, 2014 | 14:16 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
मुलायम : गरीबों को भी ऐसा सम्मान देंगेआज से कई योजनाओं की शुरुआत। विधवाओं का रोजगार देना है : मुलायममुलायम सिंह ने अपने 75वें जन्मदिन पर कहा, जिंदगी का सबसे बड़ा सम्मान मिलामोदी : देखते ही देखते हिन्दुस्तान की रौनक बदल जायेगीस्किल इंडिया, डिजिटल इंडिया का काम कश्मीर से शुरू होगा : मोदीमोदी : जम्मू कश्मीर को किसी परिवार के यहां गिरवी नहीं रखा जायेगाजम्मू कश्मीर के सपने किसी के आश्रित नहीं होंगे : मोदीमोदी : आपके प्यार को विकास करके लौटाऊंगापूर्ण बहुमत की सरकार बनानी है : मोदीमोदी : जम्मू कश्मीर के लोगों दोनों परिवारों का सज़ा दोगे तभी वो सुधरेंगेसारी दुनिया को कश्मीर का नज़ारा दिखाना है : मोदीमोदी : बिना भेद-भाव के सबका साथ, सबका विकास के नारे के साथ चलेंगेराजनीति को संप्रदाय से मत जोड़िये, कश्मीरी कश्मीरी होता है : मोदीमोदी : पैसों की कभी कमी नहीं होने देंगेकच्छ का विकास हुआ, कश्मीर का भी होगा : मोदीकश्मीर में जब भी आया नई योजनायें लेकर आया :मोदीमोदी :चेनाब पास में है लेकिन पीने का पानी नहीं मिलता, इसके लिये कौन जिम्मेदार हैअकेले जम्मू-कश्मीर की ताकत से पूरे देश का अंधेरा मिट सकता है :मोदीमोदी :वादियों में फिर शूटिंग कराऊंगा, यहां के लोगों को रोज़गार मिलना चाहियेआपके दुख को बांटने के लिये बिना सोचे एक पल में आ गया :मोदीमोदी : कश्मीर में दो परिवारों की 5-5 सालों में माल लूटने की मिलीभगत हैसिर्फ दो ही परिवार का राज चलेगा क्या, यहां के नौजवानों में नूर नहीं है क्या : मोदीमोदी : गुजरात से हर महीने कई सैलानी कश्मीर आते हैं, यहां इमानदारी का माहौल हैपीएम बनने के बाद जुलाई से हर रोज़ कश्मार आ रहा हूं : मोदीमोदी : बहुत हो चुका भाई-बहनों कब तक लोगों को परेशान होते देखेंगेजम्मू कश्मीर के लोग विकास की बात सुनना चाहते हैं : मोदीमोदी : बीते 10 साल में कश्मीर की हालत खराब हुई हैअटल जी के काम को पूरा करूंगा : मोदीकश्मीर पहुंचे पीएम नरेंद्र मोदी, कहा कश्मीर के साथ मेरा लगाव है
आरोपी नेताओं का निलंबन आदेश नहीं दिया जा सकता: SC
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:04-01-13 03:09 PMLast Updated:04-01-13 05:39 PM
Image Loading

उच्चतम न्यायालय ने महिलाओं के खिलाफ अपराधों के लिए आरोपपत्र में आरोपी सांसदों और विधायकों को अयोग्य घोषित करने की मांग संबंधी अनुरोध पर सुनवाई से शुक्रवार को इनकार कर दिया, लेकिन बलात्कार मामलों की त्वरित अदालत में सुनवाई तथा महिलाओं की सुरक्षा के लिए कानूनों के कार्यान्वयन के मुद्दे पर गौर करने के लिए सहमत हो गया।
   
राजधानी में 16 दिसंबर की रात चलती बस में हुई सामूहिक बलात्कार की घटना के बाद दायर दो जनहित याचिकाओं पर न्यायालय सुनवाई कर रहा था। न्यायालय ने कहा कि वह सीमित मुद्दों पर सरकार को केवल नोटिस जारी कर सकता है, क्योंकि याचिकाओं में किए गए कुछ अनुरोध उसके अधिकार क्षेत्र से बाहर हैं।
   
न्यायमूर्ति के एस राधाकृष्णन और न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा की पीठ ने कहा सांसदों और विधायकों की अयोग्यता का मुद्दा हमारे अधिकार क्षेत्र में नहीं है। याचिकाओं में न्यायालय से अनुरोध किया गया था कि वह उन सांसदों और विधायकों के निलंबन के लिए आदेश दे जो महिलाओं के खिलाफ अपराध के सिलसिले में दायर आरोपपत्रों में आरोपी हैं।
   
सुनवाई के दौरान न्यायाधीशों ने कहा कि याचिकाकर्ताओं को इस बात को भी आधार बनाना चाहिए था कि यदि ऐसे मामलों में समुचित जांच नहीं की जाती है तो इसे जांच अधिकारी की ओर से किया गया कदाचार माना जाए।
   
न्यायालय ने सरकार से कहा कि महिलाओं के खिलाफ अपराध और बलात्कार से संबंधित कानूनों की समीक्षा के लिये गठित न्यायमूर्ति जे एस वर्मा समिति की कार्यशर्तों से उसे अवगत कराये। आपराधिक मामलों में आरोपी राजनीतिज्ञों की अयोग्यता के बारे में तर्क दिए जाने पर न्यायाधीशों ने कहा कि व्यक्ति की हैसियत पर ध्यान दिए बिना मामले की सुनवाई त्वरित अदालत में की जानी चाहिए।
   
पीठ को बताया गया कि देश में 4835 सांसदों और विधायकों में से 1448 के खिलाफ आपराधिक मामले चल रहे हैं। बहरहाल, पीठ ने कहा कि फिलहाल उसने सीमित मुद्दों पर जनहित याचिका की सुनवाई करने का फैसला किया है। त्वरित अदालतों और अतिरिक्त न्यायाधीशों की जरूरत पर सहमति जताते हुए पीठ ने कहा न्यायाधीशों के कई पद रिक्त हैं और कई अदालतों की स्थापना की जानी है।
   
जिन याचिकाओं पर पीठ ने यह व्यवस्था दी वह याचिकाएं सेवानिवृत्त महिला आईएएस अधिकारी प्रोमिला शंकर और अधिवक्ता तथा सामाजिक कार्यकर्ता ओमिका दुबे ने दायर की थी।
   
शंकर ने अपनी याचिका में महिलाओं के खिलाफ अपराध के लिए आरोपपत्र में आरोपित सांसदों और विधायकों के निलंबन की मांग के साथ यह भी कहा था कि महिलाओं और बच्चों के खिलाफ बलात्कार और अपराध के मामलों की जांच महिला पुलिस अधिकारी से कराने और ऐसे मुकदमों की सुनवाई महिला न्यायाधीश द्वारा की जानी चाहिए।
   
उन्होंने यह भी कहा था कि महिलाओं की सुरक्षा के उददेश्य से वर्तमान कानूनों के प्रभावी कार्यान्वयन के लिए कोई प्रयास नहीं किए जा रहे हैं। दुबे ने महिलाओं के खिलाफ अपराध के मामलों के निपटारे के लिए अतिरिक्त न्यायाधीशों की नियुक्ति के लिए तथा बलात्कार पीतिड़ को क्षतिपूर्ति राशि अनिवार्य रूप से दिए जाने का अनुरोध किया था।
   
उन्होंने प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया को महिलाओं के अश्लील चित्रों का प्रसारण रोकने के लिए आदेश देने की मांग भी की थी। इसके अलावा दुबे ने रेडलाइट इलाकों का मुद्दा भी उठाया, जहां लड़कियों को देह व्यापार करने के लिए बाध्य किया जाता है।
   
यह जनहित याचिकाएं दिल्ली में गत 16 दिसंबर की रात 23 वर्षीय एक छात्रा के साथ सामूहिक बलात्कार और दरिंदगी की घटना होने के बाद दायर की गई थीं। इस छात्रा की 29 दिसंबर को सिंगापुर के अस्पताल में मौत हो गई थी।

 
 
 
टिप्पणियाँ