शनिवार, 01 अगस्त, 2015 | 02:56 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    बिना सब्सिडी वाला एलपीजी सिलेंडर 23 रुपये 50 पैसे हुआ सस्ता, पेट्रोल और डीजल के दाम भी घटे लीबिया में आतंकी संगठन IS के चंगुल से 2 भारतीय रिहा, बाकी 2 को छुड़ाने की कोशिश जारी याकूब के जनाजे में शामिल लोगों को त्रिपुरा के गवर्नर ने बताया आतंकी उपभोक्ताओं को रुलाने लगा प्याज, खुदरा भाव 50 रुपये पहुंचा  कांग्रेस MLA उस्मान मजीद बोले, मुंबई बम ब्लास्ट के आरोपी टाइगर मेमन से कई बार की मुलाकात FTII छात्रों को राहुल गांधी का समर्थन, राहुल ने कहा, अपनी इच्छा छात्रों पर ना थोपे सरकार राज्यसभा में विपक्षी दलों ने किया हंगामा, कार्यवाही हुई बाधित लोकसभा में विपक्ष ने लगाए सरकार के खिलाफ नारे, भाजपा सांसद भी नहीं रहे पीछे हाईकोर्ट के आदेश पर मानसून सत्र में बैठेंगे ये चार विधायक अमेरिकी लड़की के साथ छेड़खानी करने वाला टैक्सी चालक गिरफ्तार
गैरकानूनी तरीके से दवाओं का परीक्षण तबाही ला रहा है: सुप्रीम कोर्ट
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:03-01-2013 03:27:10 PMLast Updated:03-01-2013 03:40:19 PM
Image Loading

उच्चतम न्यायालय ने बहुराष्ट्रीय कंपनियों की बगैर परीक्षण वाली दवाओं के गैरकानूनी तरीके से लोगों पर किए जा रहे परीक्षणों को रोकने में विफल रहने के लिए केन्द्र सरकार की आज तीखी आलोचना की और कहा कि इस तरह के परीक्षण देश में तबाही ला रहे हैं और इस वजह से अनेक नागरिकों की मौत हो रही है।
     
न्यायमूर्ति आर एम लोढा और न्यायमूर्ति अनिल आर दवे की खंडपीठ ने आज अपने अंतरिम आदेश में कहा कि देश में सभी क्लीनिकल परीक्षण केन्द्र सरकार के स्वास्थ्य सचिव की निगरानी में ही किये जायेंगे।
     
न्यायाधीधों ने कहा कि इस मसले पर सरकार गहरी नींद में सो रही है और वह गैरकानूनी तरीके से क्लीनिकल परीक्षण करने वाली बहुराष्ट्रीय कंपनियों के इस धंधे को रोकने के लिये समुचित तंत्र स्थापित करने में विफल हो गई है।
     
न्यायाधीशों ने कहा कि आपको देश के नागरिकों के स्वास्थ्य की रक्षा करनी है। यह आपका कर्तव्य है। मौतों पर अंकुश लगना चाहिए और गैरकानूनी परीक्षण बंद होने चाहिए। न्यायालय ने कहा कि सरकार को इस पर तत्काल नियंत्रण लगाना चाहिए।
     
न्यायालय ने सरकार को उस समय आड़े हाथ लिया जब उसने यह दलील दी कि इस मसले पर गौर करने के लिए कई समितियां गठित की गयी हैं और वह इनके सुक्षाव मिलने के बाद न्यायालय को सूचित करेगी।
     
इस पर न्यायाधीशों ने कहा, आप न्यायालय के पास तो वापस आ सकते हैं लेकिन उन व्यक्तियों का क्या होगा जो इस तरह के क्लीनिकल परीक्षणों में अपनी जान गंवा चुके होंगे। इस तरह से जान गंवाने वाले व्यक्ति तो वापस नहीं आ सकते हैं।

न्यायाधीशों ने कहा कि किसी समिति या आयोग का गठन करना बहुत आसान है। यह तो सिर्फ लोगों का ध्यान बांटने के लिये किया जाता है। महत्वपूर्ण मुद्दों से ध्यान बांटने का यह सबसे अच्छा तरीका है।

न्यायालय ने कहा कि सरकार का हलफनामा उसके पहले के आदेश के अनुरूप नहीं है। न्यायालय ने यह भी कहा कि सरकार उसके सवालों का जवाब देने से कतरा रही है।
    
शीर्ष अदालत ने गत वर्ष आठ अक्टूबर को विभिन्न कंपनियों की दवाओं के मनुष्यों पर कथित रूप से किये जा रहे परीक्षणों के बारे में केन्द्र और राज्य सरकारों से जवाब तलब किये थे। न्यायालय ने केन्द्र सरकार से ऐसे परीक्षणों के कारण होने वाली मौतों,यदि कोई हो, और इसके दुष्प्रभावों तथा पीडिम्त या उनके परिवार को दिये गये मुआवजे ,यदि दिया गया हो, के बारे में विवरण मांगा था।
    
न्यायालय ने यह निर्देश स्वास्थ्य अधिकार मंच नामक गैर सरकारी संगठन की जनहित याचिका पर दिया था। इस याचिका में आरोप लगाया गया था कि देश में बड़े पैमाने पर विभिन्न दवा कंपनियां भारतीय नागरिकों पर दवाओं के परीक्षण कर रही हैं।
    
न्यायालय ने इस याचिका पर कोई विस्तृत आदेश देने की बजाय पहले ऐसे परीक्षणों के बारे में केन्द्र सरकार से जवाब तलब किया था।

 
 
 
अन्य खबरें
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingटीम इंडिया के कोच बनने के इच्छुक स्टुअर्ट लॉ
भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड आगामी दक्षिण अफ्रीकी दौरे से पहले टीम इंडिया के नये कोच को चुनने को लेकर पूरी तरह आश्वस्त है और इसी बीच पूर्व ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी तथा ऑस्ट्रेलिया-ए के सहायक कोच स्टुअर्ट लॉ ने इस जिम्मेदारी भरे पद को संभालने के लिए अपनी ओर से इच्छा जाहिर की है।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड