सोमवार, 06 जुलाई, 2015 | 10:36 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    आयुध फैक्टरियों में 67 हजार पदों को भरने की प्रक्रिया जल्द होगी शुरू दिल्ली: सवा सौ साल पुराना जर्जर पुल अब बनेगा ऐतिहासिक विरासत खुशखबरी: वेस्ट यूपी में 500 जगहों को वाईफाई करेगा बीएसएनएल यूपी: चलती गाड़ी में छात्रा के साथ रेप के बाद रेलवे स्टेशन पर फेंका पहले दिया संवेदनहीन बयान, अब पत्रकार अक्षय के घर जाएंगे कैलाश विजयवर्गीय पत्रकार अक्षय के विसरा जांच एम्स में होगी, परिवार की मांग मंजूर अक्षय की मौत स्वाभाविक नहीं, व्यापमं गिरोह ने की हत्या: भूरिया पाकिस्तान ने किया संघर्षविराम का उल्लंघन, बीएसएफ जवान शहीद लालू की हैसियत महुआ रैली में उजागर, नीतीश को पक्का मारेंगे लंगड़ीः पासवान एयरइंडिया के यात्री ने की खाने में मक्खी की शिकायत
मुकदमा तेजी से पूरा होना चाहिए: प्रधान न्यायाधीश
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:02-01-13 09:20 PMLast Updated:02-01-13 11:38 PM
Image Loading

महिलाओं के खिलाफ यौन अपराध के मामलों से निपटने के लिए बुधवार को यहां एक त्वरित अदालत का उद्घाटन करने के बाद भारत के प्रधान न्यायाधीश अलतमस कबीर ने दिल्ली में 23 वर्षीय छात्रा के साथ गत 16 दिसंबर को चलती बस में सामूहिक बलात्कार की घटना के मामले में तेजी से मुकदमा पूरा किये जाने की वकालत की।

इस जघन्य वारदात के खिलाफ सामने आये जनता के रोष को जायज ठहराते हुए प्रधान न्यायाधीश ने कहा कि अगर वाहनों के शीशों से काली फिल्म हटाने को लेकर उच्चतम न्यायालय के दिशानिर्देशों का पालन किया गया होता तो इस घटना से बचा जा सकता था।

उन्होंने कहा कि यह जानकार अच्छा लगता है कि 16 दिसंबर की जघन्य घटना के बाद लोगों ने महिलाओं के खिलाफ अपराध पर आवाज उठाना शुरू कर दिया है।

प्रधान न्यायाधीश ने उम्मीद जताई कि यहां साकेत जिला अदालत परिसर में त्वरित अदालत में काम बहुत जल्दी शुरू होगा। बहरहाल उन्होंने कहा कि आरोप़ प्रत्यारोप से बचना चाहिए।

न्यायमूर्ति कबीर ने कहा कि आरोप़ प्रत्यारोप से कुछ हासिल नहीं होगा। हमें समस्या की जड़ में जाना है। यह मामला जनता की नजरों में है और इस मामले में जल्दी से जल्दी फैसला आना चाहिए।

प्रधान न्यायाधीश ने लोगों की इस प्रतिक्रिया को खतरनाक कहा कि आरोपियों को जनता के हवाले कर दिया जाए। उन्होंने कहा कि लोगों की प्रतिक्रिया है कि आरोपियों पर मुकदमा नहीं चलाएं। उन्हें हमें सौप दें, हम उनसे निपटेंगे। उन्हें फांसी पर लटका दो।

न्यायमूर्ति कबीर ने कहा कि खासतौर पर महिलाओं के खिलाफ अपराधों के मामलों से निपटने के लिए त्वरित अदालत न केवल जरूरत है, बल्कि स्वागत योग्य भी है और सरकार भी इस तरह के मामलों में त्वरित अदालतों की जरूरत को लेकर जागरूक हो गयी है।उन्होंने कहा कि वह प्रशासन के साथ अपने स्तर पर यथासंभव प्रयास करेंगे कि अदालत के समक्ष मामला आने से पहले के उसके हिस्से का जल्दी से जल्दी निपटारा हो।

न्यायमूर्ति कबीर ने कहा कि दिल्ली के अलग अलग भागों में चार अन्य त्वरित अदालतें शुरू होंगी। दिल्ली उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश डी मुरुगसेन ने कहा कि त्वरित अदालतों के लिए न्यायिक अधिकारियों को चिन्हित कर लिया गया है और यथासंभव मामलों को दिन प्रतिदिन के आधार पर लिया जाएगा।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड