बुधवार, 22 अक्टूबर, 2014 | 03:07 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
बलात्कार की सजा 30 साल कैद हो: युवती के पिता
बलिया, एजेंसी First Published:07-01-13 05:01 PM

दिल्ली सामूहिक बलात्कार कांड की शिकार हुई लड़की के पिता ने किसी भी अभियुक्त को सरकारी गवाह बनाये जाने का विरोध करते हुए कहा है कि बलात्कार के आरोप में 14 साल के लडकों को भी वयस्क माना जाना चाहिये। उन्होंने कहा कि बलात्कार की सजा को सात साल की कैद से बढ़ाकर 30 साल कर दिया जाना चाहिये।

लड़की के पिता ने यहां कहा कि बलात्कार के मामलों में 14 साल के आरोपी को भी वयस्क माना जाना चाहिये, क्योंकि दुराचार के ज्यादातर मामलों में 14 वर्ष के लड़के भी शामिल पाये जा रहे हैं।
उन्होंने कहा कि बलात्कार किसी लड़की की नैतिक रूप से हत्या करने जैसा अपराध है, लिहाजा इसकी सजा को सात साल से बढ़ाकर 30 वर्ष किया जाना चाहिये।

उन्होंने अपनी बेटी के साथ हुई दरिंदगी के दो आरोपियों को सरकारी गवाह बनाने की बात पर सख्त नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि अभियुक्त फांसी की सजा से बचने के लिये यह हथकंडा अपना रहे हैं।

उन्होंने ने कहा कि उनकी बेटी के गुनहगार खुद को मौत की सजा से बचाने के लिये सरकारी गवाह बनने की पेशकश कर रहे हैं। साथ ही वे जनता की सहानुभूति हासिल करने के वास्ते कह रहे हैं कि वे आत्महत्या कर लेंगे।
 
 
 
टिप्पणियाँ