रविवार, 05 जुलाई, 2015 | 20:32 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    लालू की हैसियत महुआ रैली में उजागर, नीतीश को पक्का मारेंगे लंगड़ीः पासवान एयरइंडिया के यात्री ने की खाने में मक्खी की शिकायत  फेसबुक ने 15 साल बाद मां-बेटे को मिलाया  व्हाट्सएप मैसेज से बवाल कराने वाला बीए का छात्र मोहित गिरफ्तार मुरादाबाद: नदी में पलटी जुगाड़ नाव, आठ डूबे, सर्च ऑपरेशन जारी यूपी के रामपुर में दो भाईयों की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच में जुटी बिहार के हाजीपुर में भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद, छह गिरफ्तार झारखंड: चतरा के टंडवा में हाथियों ने कई घर तोड़े, खा गए धान बिहार में आंखों का अस्पताल बनाने के लिए इंडो-अमेरिकन्स का बड़ा कदम मुजफ्फरनगर के शुक्रताल में हजारों मछलियां मरीं, संत समाज बैठा धरने पर
48 घंटे में 10 मंजिला भवन तैयार
मोहाली, First Published:01-12-12 07:43 PM

48 घंटे में 10 मंजिला भवन खड़ाकर यहां एक कारोबारी ने शनिवार को एक अनोखा कारनामा कर दिखाया।

पंजाब के उप मुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल ने दो दिनों पहले ही इस भवन का शिलान्यास किया था और शनिवार को लाल और भूरे रंग का 10 मंजिला भवन 'इंस्टाकॉम' मोहाली के एक औद्योगिक खंड पर खड़ा है।

भवन निर्माण गुरुवार को 4.30 बजे शाम में शुरू हुआ। शुक्रवार शाम तक सात मंजिल तैयार थे।

48 घंटे की समय सीमा पूरा होने तक पूरा भवन तैयार था हालांकि इंजीनियर खिड़कियों में सीसे लगाने तथा अन्य आंतरिक सज्जा का काम कर रहे थे।

सामग्री का निर्माण एक नजदीकी कारखाने में दो महीने से हो रहा था। भवन निर्माण में 200 टन से अधिक इस्पात लग रहा है। भवन निर्माण में पहले से तैयार संरचना वाली सामग्रियों का इस्तेमाल किया गया।

सिनर्जी थ्रिसलिंगटन आधारभूत संरचना कम्पनी के एक अधिकारी ने निर्माण स्थल पर आईएएनएस से कहा, ''हमारी कोशिश 48 घंटे में 10 मंजिला भवन खड़ा करने की थी। हम यह साबित करना चाहते थे कि यह हो सकता है। यह लक्ष्य 48 घंटे के भीतर हासिल हो गया। कुछ आखिरी फिनिशिंग के काम रह गए हैं। यह सिर्फ एक नमूना संरचना है।''

1,000 करोड़ रुपये की आधारभूत संरचना कम्पनी के प्रमुख उद्यमी हरपाल सिंह ने दावा किया था कि 48 घंटे में 10 मंजिला भवन तैयार हो जाएगा।

चण्डीगढ़ के जेडब्ल्यू मेरियट होटल के मालिक हरपाल सिंह ने यहां कहा था, ''यह 48 घंटे में तैयार होने वाला देश में अपनी तरह का पहला भवन होगा। भवन के नक्शे को भूकम्प के जोन पांच क्षेत्र के लिए मंजूर किया गया है, जो सबसे खतरनाक क्षेत्र माना जाता है।''

गुरुवार को सिर्फ छह घंटे में तीन मंजिल तैयार हो चुकी थी।

निर्माण कार्य में 200 से अधिक कुशल श्रमिक लगे। भवन में हालांकि ईंट और रेत का इस्तेमाल नहीं हुआ है।

 
 
 
|
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड