सोमवार, 06 जुलाई, 2015 | 02:34 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    लालू की हैसियत महुआ रैली में उजागर, नीतीश को पक्का मारेंगे लंगड़ीः पासवान एयरइंडिया के यात्री ने की खाने में मक्खी की शिकायत  फेसबुक ने 15 साल बाद मां-बेटे को मिलाया  व्हाट्सएप मैसेज से बवाल कराने वाला बीए का छात्र मोहित गिरफ्तार मुरादाबाद: नदी में पलटी जुगाड़ नाव, आठ डूबे, सर्च ऑपरेशन जारी यूपी के रामपुर में दो भाईयों की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच में जुटी बिहार के हाजीपुर में भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद, छह गिरफ्तार झारखंड: चतरा के टंडवा में हाथियों ने कई घर तोड़े, खा गए धान बिहार में आंखों का अस्पताल बनाने के लिए इंडो-अमेरिकन्स का बड़ा कदम मुजफ्फरनगर के शुक्रताल में हजारों मछलियां मरीं, संत समाज बैठा धरने पर
तय समय से पहले लौटे अन्ना, कहा टीम में एकता
नयी दिल्ली, एजेंसी First Published:23-04-12 12:44 PMLast Updated:23-04-12 12:49 PM
Image Loading

मुस्लिम नेता के निष्कासन के बाद टीम अन्ना में दिखती नई दरार के बीच अन्ना हजारे ने कहा कि सूचना के लीक होने और योग गुरु रामदेव को लेकर समूह में कोई दरार नहीं है। अन्ना हजारे दो दिन बाद रालेगण लौटने वाले थे, लेकिन वह सोमवार को ही अपने गांव के लिए रवाना हो गए।

मुफ्ती शमीम काजमी के निष्कासन के बाद अपनी पहली प्रतिक्रिया में हजारे ने कहा कि इस मुद्दे से फर्क नहीं पड़ता। काजमी को उत्तर प्रदेश के नोएडा में कोर समिति की बैठक को कथित तौर पर रिकॉर्ड करते पाया गया था जिसके बाद उन्हें टीम से निष्कासित कर दिया गया।

काजमी ने दावा किया कि उन्होंने समूह के मुस्लिम विरोधी होने के कारण उसे छोड़ दिया। हजारे ने यह भी कहा कि भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन में रामदेव की भागीदारी को लेकर टीम में कोई मतभेद नहीं है।

उन्होंने कहा कि फिलहाल, एक महीने से ज्यादा, मैं महाराष्ट्र की यात्रा करूंगा। उन्हें काले धन के खिलाफ अभियान में हमारा समर्थन है और जन लोकपाल के मुद्दे पर हमें उनका। हम सब भ्रष्टाचार से निपटने के लिए साथ लड़ रहे हैं।

उन्होंने कहा कि पूरे देश की यात्रा के दौरान वह रामदेव जहां जहां मिलेंगे, मंच साझा करेंगे। हालांकि उन्होंने कहा कि संयुक्त दौरा नहीं होगा। रामदेव के खुद को ही सबकुछ समझने के रुख पर टीम अन्ना में बढते तनाव के बीच हजारे का यह बयान आया है।

योग गुरु के साथ जुड़ने को लेकर टीम अन्ना में बहस होती रही है और एक धड़े का मानना है कि रामदेव के खिलाफ आरोप लगे होने के कारण विश्वसनीयता का संकट है। रविवार को हुई बैठक में भी यह फैसला किया गया कि रामदेव के साथ संयुक्त अभियान नहीं किया जाएगा, लेकिन दोनों पक्ष एक दूसरे के भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन का समर्थन करेंगे।

 
 
 
अन्य खबरें
 
 
 
 
 
 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड