मंगलवार, 28 जुलाई, 2015 | 15:52 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
मुरादाबाद: ज़िला अस्पताल में महिला बनी 'वीरू'। शोभा नाम की महिला पति से झगड़े के बाद पानी की टंकी पर चढ़ी। एक घंटे हंगामा के बाद उसे उतारा गया।बरेली: सियालदा एक्सप्रेस पर मुरादाबाद के मूढ़ा पांडे स्टेशन के पास पथराव, कई यात्री घायलमेरठ: एसएस के लिए बल्ले बनाने वाली फैक्ट्री में आग लगीझारखंड: जामताड़ा जिला के चितरंजन में कार की चपेट में आने से एक युवक की मौत हो गई। घटना के बाद आक्रोशित लोगों को कार को क्षतिग्रस्त कर दिया।बुलंदशहर: आठ बदमाशों ने पुजारी को बंधक बनाकर चांदी का मुकुट और 800 ग्राम चांदी के आभूषण लूटेबुलंदशहर: संपत्ति विवाद में बेटे को कुल्हाड़ी से काट डालाउत्तराखंड के सितारगंज में पाकिस्तानियों के आधार कार्ड बना डालेयूपी: रामपुर के मिलक इलाक़े में तनाव, फोर्स तैनातगोरखपुर: सेना में भर्ती के लिए दौड़ लगा रहे युवकों को पिकअप ने रौंदा, 2 की मौतकुशीनगर से मथुरा जा रही बस का संत कबीरनगर में एक्सीडेंट, 6 की मौतयूपी: संभल ज़िले के चंदौसी इलाक़े में अनियंत्रित ट्रक ने रेलवे का फाटक (36 बी) तोड़ा। मुरादाबाद-अलीगढ़ मार्ग पर लगा लम्बा जाम। क्रासिंग का बैरियर टूटने से लिंक एक्सप्रेस समेत कई ट्रेनें घंटों लेट। क्रासिंग पर चेन बाँधकर निकाला जा रहा है ट्रैफिक।याकूब के मामले में SC के जजों में मतभेद, एक ने डेथ वारंट रद्द किया, दूसरे ने कहा फांसी दो, मामला सीजेआई को रैफर, सुनवाई कल संभवगृह मंत्री की अध्यक्षता में पंजाब के आतंकी हमलों को लेकर बैठक होगीDCW चेयरपर्सन के बतौर स्वाति मालीवाल ने लिया चार्जइंडोनेशिया के पूर्वी प्रांत पापुआ में आज 7.0 तीव्रता वाले भूकंप के जबरदस्त झटके महसूस किये गएसात दिवसीय राजकीय शोक की घोषणा लेकिन कोई छुट्टी नहीं12 बजे तक दिल्ली पहुंचेगा कलाम का पार्थिव शरीर, कल ले जाया जाएगा रामेश्वरम
कलेक्टर के बदले आठ साथियों की रिहाई की मांग
रायपुर, एजेंसी First Published:22-04-2012 07:58:12 PMLast Updated:23-04-2012 01:43:45 AM
Image Loading

छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले से अपहृत जिलाधिकारी एलेक्स पाल मेनन को रिहा करने के बदले नक्सलियों के अपने आठ साथियों को छोड़ने और आपरेशन ग्रीनहंट बंद करने की मांग रखने की खबर है। नक्सलियों ने अपनी मांगें पूरी करने के लिए राज्य सरकार को 25 अप्रैल तक का समय दिया है।

राज्य के वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने बताया कि उन्हें जानकारी मिली है कि नक्सली नेताओं ने यहां के कुछ संवाददाताओं को अपना रिकार्ड किया हुआ बयान जारी कर अपनी मांगों से अवगत कराया है। अधिकारियों ने बताया कि प्राप्त जानकारी के अनुसार नक्सलियों ने जिलाधिकारी की रिहाई के बदले आपरेशन ग्रीनहंट बंद करने क्षेत्र में तैनात सुरक्षा कर्मियों को वापस बैरक में भेजने फर्जी मामलों में जेलों में बंद लोगों को रिहा करने और अपने आठ साथियों, मरकाम गोपन्ना उर्फ सत्यम रेड्डी, निर्मल अक्का उर्फ विजय लक्ष्मी, देवपाल चन्द्रशेखर रेडडी, शांतिप्रिय रेड्डी, मीना चौधरी, कोरसा सन्नी, मरकाम सन्नी और असित कुमार सेन की रिहाई की मांग की है।

नक्सलियों ने अपनी मांगों को पूरा करने के लिए सरकार को 25 अप्रैल तक का समय दिया है तथा इसके बाद वे जिलाधिकारी का फैसला जन अदालत में करेंगे।

नक्सलियों द्वारा रखी गई शर्तों को लेकर किए गए सवाल पर राज्य के नक्सल मामलों के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक रामनिवास ने बताया कि उन्हें ऐसी जानकारी मिली है कि कुछ संवाददाताओं को नक्सलियों ने अपना बयान उपलब्ध कराया है। हालांकि नक्सलियों ने अभी तक सरकार से सीधे संपर्क नहीं किया है।
    
उन्होंने बताया कि सरकार इस बात का पता लगा रही है कि ये मांगे वास्तव में  नक्सलियों ने रखी हैं या नहीं और जिलाधिकारी के अपहरण में नक्सलियों के किस समूह का हाथ है।

छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित सुकमा जिले के केरलापाल क्षेत्र के माझीपारा गांव में नक्सलियों ने शनिवार शाम सुकमा जिले के कलेक्टर तथा वर्ष 2006 बैच के भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी मेनन (32) का अपहरण कर लिया था तथा उनके दो अंगरक्षकों की गोली मार कर हत्या कर दी थी।

पुलिस अधिकारियों के मुताबिक राज्य में ग्राम सुराज अभियान के दौरान मेनन शनिवार को केरलापाल क्षेत्र के माझीपारा गांव में कार्यक्रम में शामिल होने गए थे। वहां वह एक किसान सभा ले रहे थे। इस दौरान लगभग 50 की संख्या में हथियारबंद नक्सली वहां पहुंचे और उनके दो गार्डों को गोली मार दी और उन्हें अगवा कर जंगल की ओर ले गए। इस दौरान सुकमा के एसडीएम एसके वैद्य और अन्य अधिकारी भी वहां मौजूद थे। नक्सलियों ने अन्य अधिकारियों को कोई नुकसान नहीं पहुंचाया।

इधर, जिलाधिकारी की पत्नी आशा एलेक्स ने नक्सलियों से अपने पति को सुरक्षित रिहा करने का अनुरोध किया है। उन्होंने कहा कि उनके पति की तबियत ठीक नहीं है और उनके पास दवा भी नहीं है। नक्सली मानवता के नाते उनके पति को सुरक्षित रिहा कर दें।

वहीं, राज्य में आईएएस एसोसिएशन, विभिन्न राजनीतिक दलों और नागरिकों ने मेनन की सुरक्षित रिहाई की मांग की है। मेनन के अपहरण के विरोध में आज सुकमा जिले में बंद की घोषणा की गई थी तथा छात्रों और आम लोगों ने शांति मार्च का भी आयोजन किया था।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingबीसीसीआई और श्रीसंत के बीच बात होनी चाहिए :गांगुली
पूर्व भारतीय क्रिकेट कप्तान और जस्टिस लोढा समिति की रिपोर्ट पर अध्ययन करने के लिए बने कार्य समूह के सदस्य सौरव गांगुली का मानना है कि बीसीसीआई और स्पॉट फिक्सिंग के आरोपों से बरी हुए क्रिकेटर एस श्रीसंत के बीच वार्ता होनी चाहिए।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड