शनिवार, 29 अगस्त, 2015 | 08:34 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
उत्तर प्रदेश: अमरोहा में उझारी के भीम नगर में बेटे को लगा करंट, बचाने पहुंची मां की मौत, बेटे को चिपकता देख मां बचाने आई थी, करेंट से बेटा तो बच गया जबकि मां की मौत हो गई।
श्रीनगर में दंगे के बाद फिर से लगाई गई निषेधाज्ञा
श्रीनगर, एजेंसी First Published:01-12-2012 02:09:42 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

श्रीनगर में फिर से हुए गुटीय संघर्ष के बाद पुलिस ने शनिवार को कई हिस्सों में निषेधाज्ञा लगा दी, जबकि शहर के बाकी हिस्सों में स्थिति सामान्य रही।
    
पुलिस प्रवक्ता ने कहा कि नगर के नौ थाना क्षेत्रों से तीन दिन पुराने कर्फ्यू को हटाने के घंटों बाद प्रतिद्वंद्वी समुदायों के सदस्य हावल इलाके में एकत्रित हुए और पुलिसकर्मियों पर पथराव करना शुरू कर दिया। उन्होंने कहा कि प्रभावित इलाकों में फिर से निषेधाज्ञा लागू कर दी गई है लेकिन अभी तक कर्फ्यू नहीं लगाया गया है।
    
उन्होंने कहा कि अभी तक संघर्ष में किसी के घायल होने की खबर नहीं है। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक गुटों के बीच दंगे के बाद दोनों समुदायों ने पुलिस के दूसरे समुदाय से मिलीभगत के आरोप लगाए। दंगे बुधवार को भड़के थे, जिसके बाद श्रीनगर के जिलाधिकारी ने नौ थाना क्षेत्रों में कर्फ्यू लगा दिए थे।
    
इससे पहले पूरे श्रीनगर से तीन दिनों से लगाए गए कर्फ्यू हटाने के बाद शहर में जनजीवन सामान्य हो गया। पुलिस प्रवक्ता ने कहा कि श्रीनगर शहर के सभी नौ थाना क्षेत्रों से कर्फ्यू हटा लिया गया है क्योंकि बुधवार को निषेधाज्ञा लगाने के बाद से स्थिति सामान्य थी।
    
नौहट्टा, एम़ आऱ गंज, सफकदल, खानयार, रेनावारी, निगीन, लाल बाजार, जादीबाल और परीमपुरा थाने में बुधवार को कर्फ्यू लगा दिया गया था। शहर के हावल इलाके में गुटों के बीच संघर्ष छिड़ने के बाद कर्फ्यू लगाया गया था।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingबारिश ने धोया पहले दिन का खेल, भारत 50/2
भारत और श्रीलंका के बीच तीसरे और आखिरी क्रिकेट टेस्ट के पहले दिन शुक्रवार को बारिश के कारण दो सत्र से अधिक का खेल नहीं हो सका जबकि भारत ने पहली पारी में दो विकेट पर 50 रन बनाए।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

जब जय की हुई जमकर पिटाई...
वीरू (जय से): कल तुझे मेरे मोहल्ले के दस लड़कों ने बहुत बुरी तरह पीटा। फिर तूने क्या किया?
जय: मैंने उन सभी से कहा कि कि अगर हिम्मत है, तो अकेले-अकेले आओ।
वीरू: फिर क्या हुआ?
जय: होना क्या था, उसके बाद उन सबने एक-एक करके फिर से मुझे पीटा।