शनिवार, 25 अक्टूबर, 2014 | 09:45 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    चीन सीमा पर 54 चौकियां बनाएगा भारत, 175 करोड़ के पैकेज की घोषणा  बर्धवान के बम थे बांग्लादेश के लिए: एनआईए नरेंद्र मोदी की चाय पार्टी में नहीं शामिल होंगे उद्धव ठाकरे भूपेंद्र सिंह हुड्डा की बढ़ सकती हैं मुश्किलें  कालेधन पर राम जेठमलानी ने बढ़ाई सरकार की मुश्किलें जमशेदपुर से लश्कर का आतंकवादी गिरफ्तार  कोई गैर गांधी भी बन सकता है कांग्रेस अध्यक्ष: चिदंबरम भाजपा के साथ सरकार के लिए उद्धव बहुत उत्सुक: अठावले रांची : एंथ्रेक्स ने ली सात लोगों की जान, 8 गंभीर हालत में भर्ती भारत-पाक तनाव के लिये भारत जिम्मेदार : बिलावल भुट्टो
रविशंकर ने मास्क पहनकर दी थी आखिरी प्रस्तुति
कोलकाता, एजेंसी First Published:12-12-12 03:09 PM
Image Loading

मशहूर सितार वादक पंडित रविशंकर ने गत चार नवंबर को अमेरिका में लांग बीच स्थित कैलीफोर्निया स्टे्ट यूनीवर्सिटी में अपनी आखिरी सार्वजनिक प्रस्तुति ऑक्सीजन मास्क पहनकर दी थी, क्योंकि उन्हें सांस लेने में दिक्कत हो रही थी।

रविशंकर के एक समय सचिव रहे उनके नजदीकी सहयोगी रबीन पॉल ने कहा कि पंडितजी ने यूनीवर्सिटी स्थित पर्फार्मिंग आर्ट सेंटर में चुनिंदा दर्शकों के समक्ष अपनी आखिरी प्रस्तुति ऑक्सीजन मास्क पहनकर अपनी बेटी के साथ दी थी। मशहूर सितारवादक का बुधवार को अमेरिका के सान दियागो स्थित एक अस्पताल में निधन हो गया।

पॉल ने कहा कि पंडितजी सांस की गंभीर परेशानी के बावजूद प्रस्तुति के लिए इनकार नहीं कर पाए। इसलिए उन्हें प्रस्तुति देने के लिए ऑक्सीजन मास्क का इस्तेमाल करना पड़ा। कैलीफोर्निया में आयोजित होने वाले उनके कार्यक्रम को इससे पहले उनकी अस्वस्थता के चलते तीन बार स्थगित किया जा चुका था। उन्होंने भारत रत्न पुरस्कार से सम्मानित रविशंकर के साथ गत नवंबर में हुई आखिरी बातचीत याद करते हुए कहा कि अपने नजदीकी लोगों से मुलाकात के लिए पंडितजी की इस सर्दियों में भारत विशेष रूप से कोलकाता आने की इच्छा थी।

पॉल ने कहा कि उन्होंने मुझे फोन किया और कोलकाता में अपने मित्रों तथा परिचितों से मुलाकात करने के लिए भारत आने की इच्छा जताई। पॉल के अनुसार रविशंकर ने यहां उन कलाकारों के साथ एक कार्यक्रम आयोजित करने के प्रस्ताव का समर्थन किया, जो उनसे बहुत नजदीकी रूप से जुड़े हुए थे। ऐसे कलाकारों में शास्त्रीय गायक समरेश चौधरी और जाने-माने सितारवादक कार्तिक शेषाद्रि शामिल हैं।

उन्होंने कहा कि पंडितजी ने मुझसे ऐसा कार्यक्रम आयोजित करने को कहा था, जिसमें वह उपस्थित रहेंगे, लेकिन वह इस बात को लेकर आश्वस्त नहीं थे कि वह उसमें प्रस्तुति दे पाएंगे या नहीं।
 
 
 
टिप्पणियाँ