शनिवार, 20 दिसम्बर, 2014 | 16:20 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
हिन्दुस्तान: जामताडा में 71 प्रतिशत और नाला विधानसभा क्षेञ में 74 प्रतिशत मतदान की सूचनाजम्मू कश्मीर में 3 बजे तक 55% मतदानइंडिया टुडे और सिसेरो का एग्जिट पोल: झारखंड में बीजेपी को बहुमत के आसारझारखंड में पहली बार बहुमत की सरकार के आसारझारखंड में कांग्रेस को 16 % प्रतिशत वोट मिलने का अनुमानझारखंड में जेएमएम को 20 % प्रतिशत वोट मिलने का अनुमानझारखंड में बीजेपी को 36% प्रतिशत वोट मिलने का अनुमानकांग्रेस को 7-11, बीजेपी 41-49, जेएमएम 15-19, अन्य 8-12 सीटों पर जीत मिलने की संभावनाझारखंड में पहली बार बहुमत की सरकार बनने के आसारअगर आपको धर्मांतरण से एतराज है तो धर्मांतरण के खिलाफ संसद में कानून लाइए: मोहन भागवतझारखंड विधानसभा के पांचवें और आखिरी चरण के मतदान का समय खत्म हो गया है।झारखंड विधानसभा के पांचवें और आखिरी चरण का मतदान खत्म होने में बस 10 मिनट बाकी हैं। 'हिन्दुस्तान' आपसे अपील करता है कि आप भी अपने मताधिकार का प्रयोग करें।झारखंड : लिट्टीपाड़ा विधानसभा क्षेत्र के पांच बूथों पर दोपहर 1 बजे तक 80 प्रतिशत से अधिक मतदान हुआजम्मू: बिशनाह चुनाव क्षेत्र में मतदान केन्द्र संख्या 27 में कुल 640 वोटर हैं और मतदान के पहले घंटे में 72 प्रतिशत मतदान हो चुका है।जम्मू: बानी में 15.22 प्रतिशत, हरीनगर 15.02 प्रतिशत, बिशनाह में 14 प्रतिशत, मारह 12 प्रतिशत, कठुआ में 11.71 प्रतिशत, बशोली में 11 प्रतिशत, बिल्लावर में 10.25 प्रतिशत और गांधीनगर एवं जम्मू पूर्व में 10 प्रतिशत मतदान हुआ है।जम्मू: जम्मू पश्चिम और नौशेरा में नौ-नौ प्रतिशत और डरहाल में 8.50 प्रतिशत एवं कालकोट में 7.15 प्रतिशत मतदान हुआ है।जम्मू: जम्मू जिले के गांधीनगर विधानसभा में केंद्रीय विद्यालय में तीन मतदान केंद्र बनाए गए हैं। इस केंद्र पर पहले आधे घंटे में लगभग 50 मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया।जम्मू: गांधीनगर इलाके एक पोलिंग स्टेशन पर निर्वाचन अधिकारियों ने मतदाताओं के लिए चाय की व्यवस्था भी की है।जम्मू: कठुआ जिले में सीमवर्ती निर्वाचन क्षेत्र हीरानगर में महिला मतदाताओं की संख्या, पुरुष मतदाताओं से अधिक रही। कठुआ जिले के दूर-दराज के बानी और बिलावर निर्वाचन क्षेत्रों में मतदान प्रक्रिया की शुरुआत धीमी रही।जम्मू: राजौरी जिले की राजौरी, दारहल, कालकोट और नौशेरा में भी सुबह के समय मतदान प्रक्रिया सुस्त रही।झारखंड: दोपहर 1 बजे तक जामताड़ा-57, नाला-56, बोरियो-45, राजमहल-43, बरहेट-47, पाकुड़-61, लिट्टीपाड़ा-59, महेशपुर-58, दुमका-44, जामा-56, जरमुंडी-57, शिकारीपाड़ा-60, सारठ-59, पोड़ैयाहाट-56, गोड्डा-47, महगामा-48 प्रतिशत मतदान हुआ
गैंगरेप पीड़िता की मौत पर शांतिपूर्ण प्रदर्शन
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:29-12-12 08:52 PMLast Updated:30-12-12 02:46 PM
Image Loading

दिल्ली में गैंगरेप की शिकार युवती की शनिवार तड़के सिंगापुर के अस्पताल में मौत होने के बाद सैकड़ों लोग जंतर-मंतर पर शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे हैं और दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा देने की मांग कर रहे हैं।

राष्ट्रीय राजधानी में अन्य स्थानों पर भारी संख्या में पुलिस बलों को तैनात किया गया है ताकि विरोध प्रदर्शन को शांतिपूर्ण बनाये रखना सुनिश्चित किया जा सके। इसके साथ ही इंडिया गेट के आसपास स्थित दिल्ली मेट्रो के 10 स्टेशनों को भी एहितयात के तौर पर बंद कर दिया गया।

दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने गह मंत्री सुशील कुमार शिंदे से प्रतिबंध हटाने और लोगों को शांतिपूर्ण ढंग से प्रदर्शन करने देने की इजाजत देने का आग्रह किया है। इस सीरीज में एक प्रदर्शन जेएनयू के छात्र भी कर रहे हैं। जेएनयू छात्रों ने विश्वविदयालय परिसर से मुनरिक बस स्टाप तक मार्च किया जहां 16 दिसंबर को कथित तौर छह लोगों ने 23 वर्षीय युवती के साथ सामूहिक बालात्कार किया था।

दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित को उस समय लोगों की नाराजगी का सामना करना पड़ा जब वह जंतर मंतर पर आयोजित शोक समारोह में हिस्सा लेने पहुंची। लोगों की नाराजगी के कारण उन्हें तुरंत जंतर मंतर से वापस लौटने को मजबूर होना पड़ा।

छात्रों ने घोषणा की है कि वे नव वर्ष के दौरान इस स्थान पर (मुनिरका) रात में पहरेदारी करेंगे। इन छात्रों ने यौन अपराध करने वालों को दंडित करने के लिए सख्त कानून बनाने की मांग की। वाम दलों की ओर से माकपा पोलित ब्यूरो सदस्य बृंदा करात के नेतृत्व में मंडी हाउस से जंतर मंतर तक शांति मार्च निकाला गया। बृंदा ने कहा कि जवाबदेही तय किए जाने की जरूरत है। जब तक हम ऐसा नहीं करेंगे तब तक ऐसी घटनाएं बार बार होंगी।

राजनीतिकों की ओर से महिलाओं पर होने वाली टिप्पणियों के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि यह लोगों की मानसिकता को दर्शाता है और इनके खिलाफ संसद में कार्रवाई की जानी चाहिए। जंतर मंतर पर सुबह दस बजे से ही लोगों के आने का सिलसिला शुरू हो गया था। वे सभी शांति से बैठे थे। इन लोगों ने मृतका को श्रद्धांजलि दी। आम आदमी पार्टी के नेता अरविन्द केजरीवाल, मनीष सिसौदिया और कुमार विश्वास भी प्रदर्शनकारियों के साथ धरने पर बैठे। उनके समर्थक मुंह पर काली पट्टी बांधे हुए थे।

केजरीवाल ने ट्वीट किया कि उसका निधन हम सभी के लिए शर्म की बात है। आइये प्रण करें कि हम उसकी कुर्बानी व्यर्थ नहीं जाने देंगे। प्रदर्शनकारियों ने इंडिया गेट और रायसीना हिल पर जबर्दस्त सुरक्षा इंतजामात के खिलाफ नारेबाजी की। एक प्रदर्शनकारी ने कहा कि सरकार किसी के निधन पर शोक भी नहीं व्यक्त करने दे रही है। यह संवेदनहीनता है। यह पूरी तरह नाकाबंदी है। मेट्रो स्टेशन तक बंद कर दिए गए हैं।

सामाजिक कार्यकर्ता और पूर्व आईपीएस अधिकारी किरन बेदी ने कहा कि हर पुलिसकर्मी को प्रार्थना करनी चाहिए और महिलाओं के खिलाफ अपराधों से निपटने में सामूहिक विफलता के लिए जनता से माफी मांगनी चाहिए। केजरीवाल ने सवाल किया कि क्या हम उस छात्रा की मौत के लिए जिम्मेदार नहीं हैं क्या हम ऐसा कुछ कर सकते हैं कि देश की आधी आबादी हमारे बीच सुरक्षित महसूस कर सके।

आम आदमी पार्टी ने अपने बयान में कहा कि इस घटना में मृत लड़की साहस के साथ महिलाओं की असुरक्षा का भी प्रतीक बन गई है। उन्होंने कहा कि यह राष्ट्रीय दुख का विषय है। यह राष्ट्रीय शर्म का भी विषय है। एक राष्ट्र के तौर पर हम ऐसी स्थितियां प्रदान करने में विफल रहे हैं जिससे महिलाएं इज्जत के साथ सामान्य जीवन व्यतीत कर सके। पार्टी ने कहा कि हम महिलाओं के प्रति सम्मान और समानता की संस्कति का विकास करने में विफल रहे हैं। हमें नए वर्ष पर महिलाओं के प्रति किसी तरह की हिंसा नहीं होने देने का संकल्प लेना चाहिए।

 
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड