मंगलवार, 04 अगस्त, 2015 | 06:52 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    अगला बिहार विधानसभा चुनाव नहीं लड़ेंगी राबड़ी देवी कांवड़ यात्रा से बरेली के कई पंपों पर डीजल-पेट्रोल खत्‍म  आखिर यूं ही नहीं बनती 'बाहुबली', जानिए 10 बेहद खास राज  भारत से प्रभावित होकर अंग्रेजों ने ब्रिटेन में भी बसा दिया 'पटना'  तृणमूल ने दिखाई कांग्रेस के साथ एकजुटता, लोकसभा की कार्यवाही का पांच दिनों तक करेगी बहिष्कार 14 साल से पाकिस्तान में फंसी भारतीय लड़की को बजरंगी भाईजान की जरूरत श्रीलंका में जीत के लिए ये है कोहली का मास्टर प्लान राफेल नडाल ने जीता हैम्बर्ग ओपन खिताब चेल्सी बीते सत्र में ही ईपीएल खिताब का हकदार था: कोम्पेनी साध्वी प्राची को अस्पताल से डिस्चार्ज किए जाने पर हंगामा
FDI पर अपनी जिद छोड़े यूपीए सरकार: भाजपा
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:27-11-2012 12:17:54 PMLast Updated:27-11-2012 01:00:46 PM
Image Loading

बहु ब्रांड खुदरा क्षेत्र में एफडीआई के मुद्दे पर मत विभाजन के प्रावधान के तहत चर्चा कराने की मांग पर अड़ी भाजपा ने मंगलवार को सरकार से जिद छोड़ने और संसद में सुचारू रूप से कामकाज चलाने का मार्ग प्रशस्त करने की मांग की।
   
आज भाजपा संसदीय पार्टी की बैठक में एफडीआई के मुद्दे पर कल सर्वदलीय पार्टी की बैठक एवं कुछ अन्य विषयों पर चर्चा हुई। बैठक के बाद भाजपा प्रवक्ता सैयद शाहनवाज हुसैन ने संवाददाताओं से कहा कि बहु ब्रांड खुदरा क्षेत्र में एफडीआई के मुद्दे पर सरकार अपने आश्वासन पर कायम नहीं रही और अपने वायदे के मुताबिक सभी पक्षों से चर्चा नहीं की।

इसको देखते हुए सदन की राय मत विभाजन के जरिये ही जानी जा सकती है। पार्टी इस रूख पर कायम है कि एफडीआई पर नियम 184 के तहत चर्चा करायी जाए जिसमें मत विभाजन का प्रावधान है।
   
उन्होंने कहा कि सरकार जब तक नियम 184 के तहत चर्चा नहीं कराती है तब तक संसद नहीं चलने की जिम्मेदारी सरकार की मानी जायेगी। सरकार को जिद छोड़नी चाहिए और संसद सुचारू रूप से चलाने का मार्ग प्रशस्त करना चाहिए।
   
भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि सरकार को सत्ता का मद छोड़ना चाहिए और विपक्ष की मांग मान लेनी चाहिए। भाजपा और राजग मत विभाजन के तहत चर्चा से कम कुछ भी स्वीकार करने को तैयार नहीं है।
   
मुख्य विपक्षी पार्टी ने संकेत दिया कि भाजपा और उसके सहयोगी तब तक संसद में कामकाज नहीं होने देंगे जब तक सरकार मत विभाजन के प्रावधान के तहत चर्चा कराने की उनकी मांग को नहीं मान लेती है।
   
भाजपा संसदीय पार्टी ने वालमार्ट के भारत में दुकान खोलने की अनुमति देने के बदले रिश्वत की मांग संबंधी आरोपों पर भी चर्चा की। बैठक के दौरान अविरल गंगा, निर्मल गंगा अभियान के बारे में चर्चा की गई। गंगा नदी के प्रवाह वाले इलाकों के सांसदों को दो दिसंबर को मानव श्रृंखला के दौरान उपस्थित रहने को कहा गया है।
   
बहु ब्रांड खुदरा क्षेत्र में एफडीआई के मुद्दे पर हंगामे के कारण शीतकालीन सत्र में संसद के दोनों सदनों में लगातार चौथे दिन प्रश्नकाल नहीं हो सका। भाजपा नीत राजग और वामदल मत विभाजन के प्रावधान के तहत चर्चा कराने की मांग पर अड़े है।
    
गौरतलब है कि कल लोकसभा में विपक्ष की नेता सुषमा स्वराज ने कहा था कि अब गेंद सरकार के पाले में है और संसद की कार्यवाही सुचारू रूप से चलाने का रास्ता उसे ही निकालना है।
   
कल सर्वदलीय बैठक के बाद लोकसभा में विपक्ष की नेता सुषमा स्वराज ने कहा था कि हमारी पार्टी मत विभाजन के प्रावधान के तहत चर्चा कराने पर अडिग है और इस पर समझौते का सवाल ही नहीं है। यह चर्चा लोकसभा में नियम 184 के तहत और राज्यसभा में नियम 168 के तहत करायी जाए।
   
उन्होंने कहा था कि मतविभाजन के प्रावधान के तहत होने वाली चर्चा में ही राय व्यक्त की जा सकती है। यह पूछे जाने पर कि क्या भाजपा संसद की कार्यवाही नहीं चलने देगी, उन्होंने कहा था, जब मैं कह रही हूं कि समझौते का सवाल नहीं है, तो इसका कुछ मतलब होता है।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingश्रीलंका में जीत के लिए ये है कोहली का मास्टर प्लान
टेस्ट कप्तान के तौर पर अपनी पहली संपूर्ण तीन मैचों की सीरीज के लिये श्रीलंका दौरे पर भारतीय टीम का नेतृत्व कर रहे विराट कोहली ने कहा है कि उनकी योजना श्रीलंका में पांच गेंदबाजों को उतारने की रहेगी।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

जब बीमार पड़ा संता...
जीतो बीमार पति से: जानवर के डॉक्टर को मिलो तब आराम मिलेगा!
संता: वो क्यों?
जीतो: रोज़ सुबह मुर्गे की तरह जल्दी उठ जाते हो, घोड़े की तरह भाग के ऑफिस जाते हो, गधे की तरह दिनभर काम करते हो, घर आकर परिवार पर कुत्ते की तरह भोंकते हो, और रात को खाकर भैंस की तरह सो जाते हो, बेचारा इंसानों का डॉक्टर आपका क्या इलाज करेगा?