शनिवार, 05 सितम्बर, 2015 | 13:17 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
मेरठ: दोस्तों के साथ आये युवा व्यापारी की चाकुओं से गोदकर हत्यारक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर, अमित शाह से मिलने पहुंचे। 2.30 बजे रक्षा मंत्रालय की प्रेस कांफ्रेंस, OROP की घोषणा संभवउत्तराखंड: पिथौरागढ़ में शिक्षकों ने सम्मान समारोह का बहिष्कार कर सड़क पर भीख मांगी, चार माह से वेतन नहीं मिलने से नाराज हैं जूनियर हाईस्कूलों के शिक्षकहरियाणा के फरीदाबाद में 6 सितंबर से शुरु होगी मेट्रो, पीएम मोदी करेंगे उद्घाटन, सीएम खट्टर ने की प्रेस कांफ्रेंस
RBI की मध्यतिमाही मौद्रिक नीति समीक्षा में ये है खास...
मुंबई, एजेंसी First Published:18-12-2012 01:28:49 PMLast Updated:18-12-2012 01:36:47 PM
Image Loading

बैंकों और उद्योग जगत की उम्मीदों को झटका देते हुये रिजर्व बैंक ने आज मौद्रिक नीति की मध्य तिमाही समीक्षा में नीतिगत ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया। रिजर्व बैंक की मध्य तिमाही मौद्रिक नीति समीक्षा की मुख्य बातें इस प्रकार हैं:

- रिजर्व बैंक ने रेपो दर और नकद आरक्षित अनुपात (सीआरआर) अपरिवर्तित रखा।

- आरबीआई ने कहा कि वैश्विक अर्थव्यवस्था में स्थिरता आने के कुछ संकेत मिले हैं किंतु स्थिति अब भी नाजुक बनी हुई है।

- देश में, आर्थिक हालात में सुधार के कुछ आरंभिक संकेत मिले हैं, यद्यपि वृद्धि दर हाल के रुझान से काफी नीचे है।

- सरकार द्वारा हाल ही में किए गए नीतिगत उपायों एवं और सुधारों से कारोबारी धारणा को प्रोत्साहित करने, निवेश माहौल सुधारने में मदद मिलनी चाहिए।

- मुद्रास्फीति का दबाव नरम पड़ रहा है, लेकिन खाद्य एवं जिंसों की उंची कीमतों से जोखिम बना हुआ है।

- आरबीआई ने कहा कि वह वृद्धि दर मुद्रास्फीति संबंधी उभरती स्थितियों पर पैनी नजर रखे हुए हैं।

- रिजर्व बैंक 2012-13 के लिए वृद्धि दर एवं मुद्रास्फीति की संभावनाओं पर अपना नया आकलन जनवरी में पेश करेगा।

- मुद्रास्फीति का दबाव घटने के साथ मौद्रिक नीति के रुख में बदलाव लाना है और अब से वृद्धि दर के समक्ष खड़ी चुनौतियों से निपटना है।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingटीचर्स डे पर तेंदुलकर ने आचरेकर सर को ऐसे किया 'सलाम'
मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर के नाम इंटरनेशनल क्रिकेट के बल्लेबाजी के लगभग सभी बड़े रिकॉर्ड्स दर्ज हैं। तेंदुलकर को क्रिकेट के भगवान तक का दर्जा दिया गया है, लेकिन इन सबके पीछे एक इंसान का सबसे बड़ा योगदान रहा है, तेंदुलकर के गुरु रमाकांत आचरेकर।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड Others
 
Image Loading

अलार्म से नहीं खुलती संता की नींद
संता बंता से: 20 सालों में, आज पहली बार अलार्म से सुबह-सुबह मेरी नींद खुल गई।
बंता: क्यों, क्या तुम्हें अलार्म सुनाई नहीं देता था?
संता: नहीं आज सुबह मुझे जगाने के लिए मेरी बीवी ने अलार्म घड़ी फेंक कर सिर पर मारी।