गुरुवार, 30 अक्टूबर, 2014 | 23:48 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    नौकरानी की हत्या: धनंजय को जमानत, जागृति के रिकार्ड मांगे अमर सिंह के समाजवादी पार्टी में प्रवेश पर उठेगा पर्दा योगी आदित्य नाथ ने दी उमा भारती को चुनौती देश में मौजूद कालेधन पर रखें नजर : अरुण जेटली शिक्षा को लेकर मोदी सरकार पर आरएसएस का दबाव कोयला घोटाला: सीबीआई को और जांच की अनुमति सिख दंगा पीड़ितों के परिजनों को पांच लाख देगा केंद्र अपमान से आहत शिवसेना ने किया फडणवीस के शपथ ग्रहण का बहिष्कार सरकार का कटौती अभियान शुरू, प्रथम श्रेणी यात्रा पर प्रतिबंध बेटे की दस्तारबंदी के लिए बुखारी का शरीफ को न्यौता, मोदी को नहीं
RBI की मध्यतिमाही मौद्रिक नीति समीक्षा में ये है खास...
मुंबई, एजेंसी First Published:18-12-12 01:28 PMLast Updated:18-12-12 01:36 PM
Image Loading

बैंकों और उद्योग जगत की उम्मीदों को झटका देते हुये रिजर्व बैंक ने आज मौद्रिक नीति की मध्य तिमाही समीक्षा में नीतिगत ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया। रिजर्व बैंक की मध्य तिमाही मौद्रिक नीति समीक्षा की मुख्य बातें इस प्रकार हैं:

- रिजर्व बैंक ने रेपो दर और नकद आरक्षित अनुपात (सीआरआर) अपरिवर्तित रखा।

- आरबीआई ने कहा कि वैश्विक अर्थव्यवस्था में स्थिरता आने के कुछ संकेत मिले हैं किंतु स्थिति अब भी नाजुक बनी हुई है।

- देश में, आर्थिक हालात में सुधार के कुछ आरंभिक संकेत मिले हैं, यद्यपि वृद्धि दर हाल के रुझान से काफी नीचे है।

- सरकार द्वारा हाल ही में किए गए नीतिगत उपायों एवं और सुधारों से कारोबारी धारणा को प्रोत्साहित करने, निवेश माहौल सुधारने में मदद मिलनी चाहिए।

- मुद्रास्फीति का दबाव नरम पड़ रहा है, लेकिन खाद्य एवं जिंसों की उंची कीमतों से जोखिम बना हुआ है।

- आरबीआई ने कहा कि वह वृद्धि दर मुद्रास्फीति संबंधी उभरती स्थितियों पर पैनी नजर रखे हुए हैं।

- रिजर्व बैंक 2012-13 के लिए वृद्धि दर एवं मुद्रास्फीति की संभावनाओं पर अपना नया आकलन जनवरी में पेश करेगा।

- मुद्रास्फीति का दबाव घटने के साथ मौद्रिक नीति के रुख में बदलाव लाना है और अब से वृद्धि दर के समक्ष खड़ी चुनौतियों से निपटना है।

 
 
 
टिप्पणियाँ