शुक्रवार, 28 अगस्त, 2015 | 05:43 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
शीना बोरा के इस्तीफे पर फर्जी साइनः राकेश मारिया।
सख्त होता कारोबारी माहौल सबसे बड़ी चुनौती: रतन टाटा
न्यूयार्क, एजेंसी First Published:08-01-2013 06:33:52 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

टाटा समूह के चेयरमैन पद से हाल ही में सेवानिवृत्त हुए रतन टाटा ने कहा कि 100 अरब डालर के इस समूह के नए चेयरमैन सायरस मिस्त्री के लिए मुश्किल होता कारोबारी माहौल से निपटना सबसे बड़ी चुनौती होगी। यह 1991 के संकट से ज्यादा जटिल है। उन्होंने टाइम पत्रिका को दिए साक्षात्कार में कहा बड़ी चुनौती यह है कि कारोबारी माहौल मुश्किल हो रहा है और यह 1991 के मुकाबले ज्यादा जटिल है। 1991 में उदारीकृत अर्थव्यवस्था में कम लोगों को सफल होने की उम्मीद थी।

टाटा 21 साल के कार्यकाल के बाद टाटा समूह के प्रमुख के पद से 28 दिसंबर को सेवानिवृत्त हुए। वह अपने उत्तराधिकारी के सामने सबसे बड़ी चुनौती के बारे में पूछे गए सवाल का जवाब दे रहे थे। यह पूछने पर कि क्या भ्रष्टाचार के कारण भारत में निवेशकों का विश्वास कम हो रहा है तो उन्होंने कहा कि कुछ समय तक यह हमारी चिंता का विषय रहा लेकिन उच्च वृद्धि दर और देश की संपन्नता ने इसे फीका कर दिया।

उन्होंने कहा कि इससे सत्ता और कारोबार की साठ-गांठ बढ़ी (क्रोनी कैपिटलिज्म) और हमारे जैसे लोग चिंतित रहे है कि इससे काम करने के समान मौके उस तरह नहीं मिलते जैसे मिलने चाहिए।
 टाटा समूह के दूरसंचार क्षेत्र में कथित अनियमितताओं में शामिल होने और टाटा के एक लाबिस्ट के जांच के घेरे में आने के बारे में पूछे गए सवाल के बारे में कहा कि जांच एजेंसियों ने न सिर्फ समूह को बरी किया बल्कि यह भी पाया कि उसे सभी दूरसंचार कंपनियों में सबसे कम फायदा मिला। उन्होंने कहा कि निश्चित तौर पर कुछ फोन कॉल टेप हुए थे लेकिन इसमें नुकसानदेह कुछ भी नहीं था।

टाटा ने कहा हमने कुछ भी गलत नहीं किया कुछ भी गैरकानूनी नहीं किया इसलिए मैंने कुछ भी अलग नहीं किया। सेवानिवृत्ति के अनुभव के बारे में पूछने पर टाटा ने कहा कि मुझे अच्छा लग रहा है। जहां तक मेरा सवाल है यह राहत की बात है।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

जब पप्पू पहंचा परीक्षा देने...
अध्यापिका: परेशान क्यों हो?
पप्पू ने कोई जवाब नहीं दिया।
अध्यापिका: क्या हुआ, पेन भूल आये हो?
पप्पू फिर चुप।
अध्यापिका : रोल नंबर भूल गए हो?
अध्यापिका फिर से: हुआ क्या है, कुछ तो बताओ क्या भूल गए?
पप्पू गुस्से से: अरे! यहां मैं पर्ची गलत ले आया हूं और आपको पेन-पेंसिल की पड़ी है।