रविवार, 26 अक्टूबर, 2014 | 10:40 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    शिक्षिका ने की थी गोलीबारी रोकने की कोशिश नांदेड-मनमाड पैसेजर ट्रेन के डिब्बे में आग,यात्री सुरक्षित दिल्ली के त्रिलोकपुरी में हिंसा के बाद बाजार बंद, लगाया गया कर्फ्यू मनोहर लाल खट्टर आज मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे, मोदी होंगे शामिल राजनाथ सोमवार को मुंबई में कर सकते हैं शिवसेना से वार्ता नरेंद्र मोदी ने सफाई और स्वच्छता पर दिया जोर मुंबई में मोदी से उद्धव के मिलने का कार्यक्रम नहीं था: शिवसेना  कांग्रेस ने विवादित लेख पर भाजपा की आलोचना की केन्द्र ने 80 हजार करोड़ की रक्षा परियोजनाओं को दी मंजूरी  कांग्रेस नेता शशि थरूर शामिल हुए स्वच्छता अभियान में
अमेरिकी मानवाधिकार मामला खारिज कराना चाहते हैं बादल
वाशिंगटन, एजेंसी First Published:28-12-12 03:36 PM
Image Loading

पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल अमेरिका की एक अदालत में उनके खिलाफ दायर मानवाधिकार हनन के एक मामले को खारिज कराना चाहते हैं। वह उन्हें अदालत की ओर से समन न मिलने के आधार पर मामला खारिज कराना चाहते हैं।

बादल के खिलाफ दायर इस मुकदमे को खारिज कराने के समर्थन में एटॉर्नी मिशेल जेकब्स ने कहा कि प्रतिवादी ने स्पष्ट और ठोस सबूत पेश किया है कि बादल का इसमें कोई लेना-देना नहीं है इसलिए मामले को खारिज किया जाना चाहिए।

इससे पहले अमेरिकी विदेश विभाग की डिप्लोमेटिक सिक्युरिटी सर्विस के दो स्पेशल एजेंट्स ने विस्कॉन्सिन संघीय अदालत से कहा था कि मानवाधिकार हनन के मामले में बादल को समन नहीं भेजे गए थे। इसके बाद बादल की ओर से मामला खारिज किए जाने की याचिका दाखिल की गई।

स्पेशल एजेंट्स ने अदालत में शपथ वक्तव्य दाखिल किए। अदालत में न्यूयार्क के सिख संगठन 'सिख फॉर जस्टिस' (एसएफजे) ने बादल के खिलाफ एक मामला दायर किया है, जिसमें कहा गया है कि उन्होंने पुलिस बल को आदेश दिया था जिसने कथित तौर पर पंजाब में सिखों को प्रताड़ित किया।

स्पेशल एजेंट्स मार्टिन ओ टूले व डेविड स्कारलेट के शपथ वक्तव्यों के मुताबिक नौ अगस्त, 2012 को बादल ओक क्रीक हाई स्कूल या ओक क्रीक, विस्कॉन्सिन में नहीं थे। दोनों एजेंट्स को अगस्त 2012 में बादल की सुरक्षा जानकारी लेने के लिए तैनात किया गया था।

बादल ओक क्रीक गुरुद्वारा गोलीबारी के कुछ समय बाद ही अमेरिका पहुंचे थे। एसएफजे के मुताबिक जब बादल को अमेरिकी अदालत से समन भेजे गए तब वह शाम 4.50 बजे मिलवॉकी के बोइल्टर सुपरस्टोर में थे।

वैसे एसएफजे ने कहा है कि वह बादल के खिलाफ मामला जारी रखने के प्रति सुनिश्चित है और उसने अमेरिकी संघीय अदालत द्वारा बादल के खिलाफ जारी समन हेग कन्वेंशन के तहत भारत भेज दिए हैं।
 
 
 
टिप्पणियाँ