शनिवार, 05 सितम्बर, 2015 | 11:13 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
जौनपुर जिला जेल में अलसुबह छापेमारी के बाद बवालहनीमून पर नेपाल गया बरेली का युवक मानव तस्करी में गिरफ्तारOROP को लेकर पूर्व सैनिक 11:30 बजे रक्षा मंत्री से करेंगे मुलाकातअमरोहा: सैदनगली थाना इलाके के गांव चकगुलाम अबिया में दो घरों में बदमाशों ने की लूटपाटउत्तराखंड: देहरादून में लालपुल पर डंपर और बाइक की टक्कर में बाइक सवार की मौतसहारनपुर जिले के देवबंद में भाजपा नेता के भाई की गोली मारकर हत्या
कोर्ट ने की पंजाब सरकार की आलोचना
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:29-03-2012 10:43:05 PMLast Updated:29-03-2012 11:29:10 PM
Image Loading

मौत की सजा का सामना कर रहे बलवंत सिंह राजोआना पर दया करने के लिए अभियान चलाने के लिए पंजाब सरकार की कार्रवाई की वस्तुत: निंदा करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को कहा कि उसे दिनदहाड़े एक मुख्यमंत्री की हत्या के मामले में दोषी ठहराया गया था।

न्यायमूर्ति जीएस सिंघवी और न्यायमूर्ति एसजे मुखोपाध्याय की पीठ ने कहा कि एक व्यक्ति को हत्या के आरोप में दोषी ठहराया गया है। मुख्यमंत्री की दिनदहाड़े हत्या की गई थी। ऐसे विरले उदाहरण हैं जहां आतंकवादी कृत्य के लिए दोषी ठहराए गए व्यक्ति को राजनैतिक समर्थन मिला है।

पीठ ने राजोआना की फांसी की सजा के विरोध में सिख संगठनों के आह्वान पर आहूत बंद के दौरान पंजाब में हुई हिंसक घटनाओं पर चिंता जताई। राजोआना को 31 अगस्त, 1995 को पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री बेअंत सिंह की हत्या के मामले में दोषी ठहराया गया था।

पीठ ने देविंदर पाल सिंह भुल्लर की याचिका पर सुनवाई करने के दौरान कहा कि विगत चार दिनों में जो कुछ भी हुआ वो सब बयां कर रहा है। अगर उचित चरण में फैसला किया गया होता तो सरकारी खजाने के करोड़ों रुपये बचाए जा सकते थे। यह सब नाटक है।

भुल्लर ने अपनी याचिका में अपनी मौत की सजा को आजीवन कारावास में तब्दील करने की प्रार्थना की है। भुल्लर ने कहा कि उसकी मौत की सजा को आजीवन कारावास में तब्दील कर दिया जाए क्योंकि उसकी दया याचिका पर फैसला करने में काफी विलंब हुआ है और उसकी मानसिक हालत ठीक नहीं है। उसने कहा कि फांसी के इंतजार में लंबे समय तक जेल में रखा जाना क्रूरता है और संविधान के अनुच्छेद 21 के तहत जीवन के मौलिक अधिकार का उल्लंघन है।

भुल्लर को 1995 में तब जर्मनी से निर्वासित कर दिया गया था जब उस देश में राजनैतिक शरण मांगने वाला उसका आवेदन खारिज कर दिया गया था। उच्चतम न्यायालय ने 26 मार्च 2002 को निचली अदालत द्वारा भुल्लर को सुनाई गई मौत की सजा और उच्च न्यायालय द्वारा इसे बरकरार रखे जाने के फैसले के खिलाफ दायर अपील को खारिज कर दिया था।

 

 

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड Others
 
Image Loading

अलार्म से नहीं खुलती संता की नींद
संता बंता से: 20 सालों में, आज पहली बार अलार्म से सुबह-सुबह मेरी नींद खुल गई।
बंता: क्यों, क्या तुम्हें अलार्म सुनाई नहीं देता था?
संता: नहीं आज सुबह मुझे जगाने के लिए मेरी बीवी ने अलार्म घड़ी फेंक कर सिर पर मारी।