शनिवार, 01 नवम्बर, 2014 | 08:47 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
विद्या प्रकाश ठाकुर ने भी राज्यमंत्री पद की शपथ लीदिलीप कांबले ने ली राज्यमंत्री पद की शपथविष्णु सावरा ने ली मंत्री पद की शपथपंकजा गोपीनाथ मुंडे ने ली मंत्री पद की शपथचंद्रकांत पाटिल ने ली मंत्री पद की शपथप्रकाश मंसूभाई मेहता ने ली मंत्री पद की शपथविनोद तावड़े ने मंत्री पद की शपथ लीसुधीर मुनघंटीवार ने मंत्री पद की शपथ लीएकनाथ खड़से ने मंत्री पद की शपथ लीदेवेंद्र फडणवीस ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली
प्रमोशन में आरक्षण: यूपी में कर्मचारियों की हड़ताल जारी
लखनऊ, एजेंसी First Published:14-12-12 10:28 PM
Image Loading

संसद में पेश किए गए प्रोन्नति में आरक्षण सम्बंधी विधेयक को लेकर उत्तर प्रदेश में सरकारी कर्मचारी दो गुटों में बंट गए हैं। आरक्षण का विरोध कर रहे करीब 18 लाख सरकारी कर्मचारियों की हड़ताल दूसरे दिन शुक्रवार को भी जारी रही। आरक्षण विरोधी लोगों ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) प्रदेश कार्यालय के बाहर प्रदर्शन भी किया।

सर्वजन हिताय संरक्षण समिति के बैनर तले सरकारी कर्मचारियों ने शुक्रवार को राजधानी लखनऊ सहित प्रदेश के लगभग सभी जिलों में धरना-प्रदर्शन का आयोजन किया। लखनऊ में विधानसभा के सामने मार्च कर रहे आरक्षण विरोधी कर्मचारियों और भाजपा कार्यकर्ताओं के बीच तीखी नोकझोंक हो गई।

आरक्षण विरोधी प्रदर्शनकारी विधानसभा के सामने से गुजर रहे थे। उसी दौरान भाजपा प्रदेश कार्यालय के सामने आते ही जुलूस में शामिल लोगों ने भाजपा नेताओं के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। जब कुछ भाजपा कार्यकर्ता बाहर निकले तब दोनों पक्षों के बीच तीखी नोकझोंक हो गई।

ज्ञात हो कि प्रोन्नति में आरक्षण सम्बंधी विधेयक पर भाजपा के नरम रवैये को लेकर आरक्षण विरोधी खेमे में काफी नाराजगी है, जिसका इजहार उन्होंने शुक्रवार को भाजपा प्रदेश कार्यालय पर किया।

इससे पहले विधेयक के विरोध में सरकारी कर्मचारी शुक्रवार सुबह से ही प्रदर्शन कर रहे थे। प्रदेश के गोरखपुर, लखनऊ, वाराणसी, इलाहाबाद आदि शहरों में कर्मचारियों ने दूसरे दिन भी धरना दिया।

कर्मचारियों ने चेतावनी दी है कि यदि सरकार ने इस विधेयक को वापस नहीं लिया तो आगे इस आंदोलन को और तेज किया जाएगा और आपातकालीन सेवाओं को भी प्रदर्शन के दायरे में लाया जाएगा।

सर्वजन हिताय संरक्षण समिति के अध्यक्ष शैलेंद्र दुबे ने कहा कि सरकार ने यदि समय रहते इस विधेयक को वापस नहीं लिया तो आगामी लोकसभा चुनाव में उसे गंभीर परिणाम भुगतने होंगे। यह विधेयक पूरी तरह से असंवैधानिक है, इसलिए इस पर चर्चा ही नहीं होनी चाहिए।

विरोध कर रहे कर्मचारियों की मांग है कि प्रोन्नति में आरक्षण सम्बंधी विधेयक वापस लिया जाए। जब तक इसे वापस नहीं लिया जाएगा, तब तक हड़ताल जारी रहेगी।

इस बीच प्रोन्नति में आरक्षण का समर्थन कर रही आरक्षण बचाओ संघर्ष समिति से जुड़े कर्मचारियों एवं पदाधिकारियों ने चार घंटे अधिक ड्यूटी करने का ऐलान किया है।

 
 
 
टिप्पणियाँ