बुधवार, 29 जुलाई, 2015 | 03:18 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    भारत को लौटाया जाए कोहिनूर हीरा: कीथ वाज  याकूब की फांसी की सजा बदलने के लिए महाराष्ट्र के मुस्लिम विधायकों ने राष्ट्रपति से की अपील हो जाइए तैयार अब स्पाइसजेट सिर्फ 999 रुपये में कराएगी हवाई सफर कलाम के सम्मान में संसद दो दिनों के लिए स्थगित, मंत्रिमंडल ने शोक जताया बढ़ चला बिहार कार्यक्रम को हाईकोर्ट का झटका, ऑडियो-विडियो प्रदर्शन पर रोक CCTV में कैद हुए गुरदासपुर हमले के गुनहगार, AK-47 लिए सड़कों पर घूमते दिखे आतंकी साड़ी, शॉल, आम की कूटनीति बंद कर पाकिस्तान के खिलाफ इंदिरा जैसा साहस दिखाये PM मोदी 29 जुलाई से बाजार में आएगा माइक्रोसॉफ्ट ओएस विंडोज-10, करें डाउनलोड पीएम मोदी ने दी कलाम को श्रद्धांजलि, बोले- भारत ने खोया अपना रत्न कलाम का अंतिम संस्कार रामेश्वरम में होगा, पीएम मोदी सहित कई हस्तियों के पहुंचने की संभावना
प्रमोशन में आरक्षण: यूपी में कर्मचारियों की हड़ताल जारी
लखनऊ, एजेंसी First Published:14-12-2012 10:28:20 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM
Image Loading

संसद में पेश किए गए प्रोन्नति में आरक्षण सम्बंधी विधेयक को लेकर उत्तर प्रदेश में सरकारी कर्मचारी दो गुटों में बंट गए हैं। आरक्षण का विरोध कर रहे करीब 18 लाख सरकारी कर्मचारियों की हड़ताल दूसरे दिन शुक्रवार को भी जारी रही। आरक्षण विरोधी लोगों ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) प्रदेश कार्यालय के बाहर प्रदर्शन भी किया।

सर्वजन हिताय संरक्षण समिति के बैनर तले सरकारी कर्मचारियों ने शुक्रवार को राजधानी लखनऊ सहित प्रदेश के लगभग सभी जिलों में धरना-प्रदर्शन का आयोजन किया। लखनऊ में विधानसभा के सामने मार्च कर रहे आरक्षण विरोधी कर्मचारियों और भाजपा कार्यकर्ताओं के बीच तीखी नोकझोंक हो गई।

आरक्षण विरोधी प्रदर्शनकारी विधानसभा के सामने से गुजर रहे थे। उसी दौरान भाजपा प्रदेश कार्यालय के सामने आते ही जुलूस में शामिल लोगों ने भाजपा नेताओं के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। जब कुछ भाजपा कार्यकर्ता बाहर निकले तब दोनों पक्षों के बीच तीखी नोकझोंक हो गई।

ज्ञात हो कि प्रोन्नति में आरक्षण सम्बंधी विधेयक पर भाजपा के नरम रवैये को लेकर आरक्षण विरोधी खेमे में काफी नाराजगी है, जिसका इजहार उन्होंने शुक्रवार को भाजपा प्रदेश कार्यालय पर किया।

इससे पहले विधेयक के विरोध में सरकारी कर्मचारी शुक्रवार सुबह से ही प्रदर्शन कर रहे थे। प्रदेश के गोरखपुर, लखनऊ, वाराणसी, इलाहाबाद आदि शहरों में कर्मचारियों ने दूसरे दिन भी धरना दिया।

कर्मचारियों ने चेतावनी दी है कि यदि सरकार ने इस विधेयक को वापस नहीं लिया तो आगे इस आंदोलन को और तेज किया जाएगा और आपातकालीन सेवाओं को भी प्रदर्शन के दायरे में लाया जाएगा।

सर्वजन हिताय संरक्षण समिति के अध्यक्ष शैलेंद्र दुबे ने कहा कि सरकार ने यदि समय रहते इस विधेयक को वापस नहीं लिया तो आगामी लोकसभा चुनाव में उसे गंभीर परिणाम भुगतने होंगे। यह विधेयक पूरी तरह से असंवैधानिक है, इसलिए इस पर चर्चा ही नहीं होनी चाहिए।

विरोध कर रहे कर्मचारियों की मांग है कि प्रोन्नति में आरक्षण सम्बंधी विधेयक वापस लिया जाए। जब तक इसे वापस नहीं लिया जाएगा, तब तक हड़ताल जारी रहेगी।

इस बीच प्रोन्नति में आरक्षण का समर्थन कर रही आरक्षण बचाओ संघर्ष समिति से जुड़े कर्मचारियों एवं पदाधिकारियों ने चार घंटे अधिक ड्यूटी करने का ऐलान किया है।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingप्रतिबंध हटाने के लिए बीसीसीआई से संपर्क करूंगा: श्रीसंत
जब वह तिहाड़ जेल में था तो वह आत्महत्या के बारे में सोच रहा था लेकिन तेज गेंदबाज एस श्रीसंत को अब उम्मीद बंध गई है कि वह वापसी कर सकते हैं और खुद पर लगे प्रतिबंध को हटाने के लिये वह बीसीसीआई से संपर्क करेंगे।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड