रविवार, 26 अक्टूबर, 2014 | 11:28 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    आज मोदी की चाय पार्टी में शामिल हो सकते हैं शिवसेना सांसद शिक्षिका ने की थी गोलीबारी रोकने की कोशिश नांदेड-मनमाड पैसेजर ट्रेन के डिब्बे में आग,यात्री सुरक्षित दिल्ली के त्रिलोकपुरी में हिंसा के बाद बाजार बंद, लगाया गया कर्फ्यू मनोहर लाल खट्टर आज मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे, मोदी होंगे शामिल राजनाथ सोमवार को मुंबई में कर सकते हैं शिवसेना से वार्ता नरेंद्र मोदी ने सफाई और स्वच्छता पर दिया जोर मुंबई में मोदी से उद्धव के मिलने का कार्यक्रम नहीं था: शिवसेना  कांग्रेस ने विवादित लेख पर भाजपा की आलोचना की केन्द्र ने 80 हजार करोड़ की रक्षा परियोजनाओं को दी मंजूरी
प्रोन्नति में आरक्षण विधेयक पर चर्चा गुरुवार को: सरकार
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:19-12-12 09:24 PMLast Updated:20-12-12 08:32 AM
Image Loading

प्रोन्नति में आरक्षण विधेयक को लेकर बुधवार को लोकसभा में समाजवादी पार्टी (सपा) और कांग्रेस सदस्यों के बीच हाथापाई की नौबत आने के बाद प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्य मंत्री नारायणसामी ने कहा कि विधेयक पर गुरुवार को चर्चा होगी।

संविधान (में 117वां संशोधन) विधेयक, 2012 पेश करने से बाधित किए जाने के तत्काल बाद नारायणसामी ने कहा कि सरकार विधेयक को पारित कराने के लिए वचनबद्ध है और यह कहते हुए उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का बचाव किया कि उन्होंने हाथपाई की स्थिति बिगड़ने से बचा ली।

सपा सदस्य यशवीर सिंह ने लोकसभा में नारायणसामी से विधेयक की प्रति छीन ली और उसके बाद सोनिया गांधी खड़ी हुई और उन्होंने विधेयक की प्रति वापस लेने की कोशिश की।

नारायणसामी ने कहा, ''कांग्रेस अध्यक्ष ने हमारे लोगों को हाथापाई में शामिल होने से रोका।''

नारायणसामी ने कहा, ''सपा सदस्य ने विधेयक की प्रति छीनकर गलत किया। यह विशेषाधिकार का एक मामला है। मैड़ा (सोनिया गांधी) की प्रतिक्रिया से जाहिर होता है कि वह इस विधेयक के प्रति कितनी समर्पित हैं।''

घटना के बारे में जानकारी देते हुए नारायणसामी ने कहा कि जब यशवीर उनके पीछे कांग्रेस खेमे से होते हुए पहुंचे तो वह चकित रह गए।

नारायणसामी ने कहा, ''विधेयक पेश करने से पहले मैं प्रावधानों को पढ़ रहा था। सपा सदस्य कांग्रेस खेमे की तरफ से आए। मैं चकित रह गया। विधेयक की प्रति छीनने की उन्हें कोई जरूरत नहीं थी।''

उन्होंने कहा कि विधेयक पेश हो चुका है और अब यह लोकसभा की सम्पत्ति है, जिसपर गुरुवार को चर्चा होगी। गुरुवार शीतकालीन सत्र का अंतिम दिन है।

यह पूछे जाने पर कि क्या वह इस सदस्य के खिलाफ दंड की मांग करेंगे, नारायणसामी ने कहा कि उन्होंने लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार और संसदीय कार्य मंत्री कमलनाथ पर यह निर्णय छोड़ दिया है।
 
 
 
टिप्पणियाँ