रविवार, 05 जुलाई, 2015 | 18:51 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    फेसबुक ने 15 साल बाद मां-बेटे को मिलाया  व्हाट्सएप मैसेज से बवाल कराने वाला बीए का छात्र मोहित गिरफ्तार मुरादाबाद: नदी में पलटी जुगाड़ नाव, आठ डूबे, सर्च ऑपरेशन जारी यूपी के रामपुर में दो भाईयों की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच में जुटी बिहार के हाजीपुर में भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद, छह गिरफ्तार झारखंड: चतरा के टंडवा में हाथियों ने कई घर तोड़े, खा गए धान बिहार में आंखों का अस्पताल बनाने के लिए इंडो-अमेरिकन्स का बड़ा कदम मुजफ्फरनगर के शुक्रताल में हजारों मछलियां मरीं, संत समाज बैठा धरने पर भागलपुर: नलों से निकला लाल पानी, लोगों ने बताया खून, लगाया जाम बेउर जेल में बाहुबली रीतलाल यादव के वार्ड में छापा, मोबाइल और सिम मिले
प्रोन्नति में आरक्षण विधेयक पर चर्चा गुरुवार को: सरकार
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:19-12-12 09:24 PMLast Updated:20-12-12 08:32 AM
Image Loading

प्रोन्नति में आरक्षण विधेयक को लेकर बुधवार को लोकसभा में समाजवादी पार्टी (सपा) और कांग्रेस सदस्यों के बीच हाथापाई की नौबत आने के बाद प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्य मंत्री नारायणसामी ने कहा कि विधेयक पर गुरुवार को चर्चा होगी।

संविधान (में 117वां संशोधन) विधेयक, 2012 पेश करने से बाधित किए जाने के तत्काल बाद नारायणसामी ने कहा कि सरकार विधेयक को पारित कराने के लिए वचनबद्ध है और यह कहते हुए उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का बचाव किया कि उन्होंने हाथपाई की स्थिति बिगड़ने से बचा ली।

सपा सदस्य यशवीर सिंह ने लोकसभा में नारायणसामी से विधेयक की प्रति छीन ली और उसके बाद सोनिया गांधी खड़ी हुई और उन्होंने विधेयक की प्रति वापस लेने की कोशिश की।

नारायणसामी ने कहा, ''कांग्रेस अध्यक्ष ने हमारे लोगों को हाथापाई में शामिल होने से रोका।''

नारायणसामी ने कहा, ''सपा सदस्य ने विधेयक की प्रति छीनकर गलत किया। यह विशेषाधिकार का एक मामला है। मैड़ा (सोनिया गांधी) की प्रतिक्रिया से जाहिर होता है कि वह इस विधेयक के प्रति कितनी समर्पित हैं।''

घटना के बारे में जानकारी देते हुए नारायणसामी ने कहा कि जब यशवीर उनके पीछे कांग्रेस खेमे से होते हुए पहुंचे तो वह चकित रह गए।

नारायणसामी ने कहा, ''विधेयक पेश करने से पहले मैं प्रावधानों को पढ़ रहा था। सपा सदस्य कांग्रेस खेमे की तरफ से आए। मैं चकित रह गया। विधेयक की प्रति छीनने की उन्हें कोई जरूरत नहीं थी।''

उन्होंने कहा कि विधेयक पेश हो चुका है और अब यह लोकसभा की सम्पत्ति है, जिसपर गुरुवार को चर्चा होगी। गुरुवार शीतकालीन सत्र का अंतिम दिन है।

यह पूछे जाने पर कि क्या वह इस सदस्य के खिलाफ दंड की मांग करेंगे, नारायणसामी ने कहा कि उन्होंने लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार और संसदीय कार्य मंत्री कमलनाथ पर यह निर्णय छोड़ दिया है।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड