शनिवार, 01 नवम्बर, 2014 | 17:15 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    मथुरा में भाजपा युवा मोर्चा का पुलिस पर पथराव, कई जख्मी मुख्यमंत्री कार्यालय में बदलाव करना चाहते हैं फड़नवीस  चीन ने पूरा किया चांद से वापसी का पहला मिशन  आज चार राज्य मना रहे हैं स्थापना दिवस  जम्मू-कश्मीर में बदले जा सकते हैं मतदान केंद्र 'एक भारत, श्रेष्ठ भारत' का वीडियो यूट्यूब पर हिट दिग्विजय सिंह की सलाह, कांग्रेस की कमान अपने हाथ में लें राहुल गांधी 'दिल्ली को फिर केंद्र शासित बनाने की फिराक में भाजपा' जनता सब देख रही है, बीजेपी हल्के में न लेः उद्धव ठाकरे वर्जिन का अंतरिक्ष यान दुर्घटनाग्रस्त, पायलट की मौत
संसद में बेटे का पहला भाषण देखकर गदगद हुए राष्ट्रपति
शांतिनिकेतन, पश्चिम बंगाल, एजेंसी First Published:19-12-12 04:31 PM
Image Loading

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के लिए एक पिता के तौर यह गौरवांवित महसूस करने का पल था, जब उन्होंने बेटे को संसद में कंपनी विधेयक पर पहला भाषण देते हुए देखा।

अपने बेटे अभिजीत का लोकसभा में पहला भाषण पूरा होने पर मुखर्जी के चेहरे पर मुस्कान देखते ही बन रही थी। लोकसभा में कंपनी विधेयक मंगलवार को पारित हुआ।

राष्ट्रपति ने बांग्ला भाषा में कहा कि अच्छा बोला। सशक्त रूप से अपना नजरिया पेश किया। दो दिन के दौरे पर यहां आए राष्ट्रपति ने सदन की पूरी कार्यवाही देखी, जब अभिजीत ने शुद्ध लाभ की परिभाषा और कारपोरेट सामाजिक दायित्व के उद्देश्य की गणना के तरीके पर स्पष्टीकरण मांगा।

अभिजीत जंगीपुर सीट से सांसद चुने जाने से पहले सेल में महाप्रबंधक थे। लोकसभा ने बहुप्रतीक्षित संसोधनों के साथ कंपनी विधेयक 2011 को मंजूरी देते हुए लाभ कमाने वाली कंपनियों के लिए सीएसआर से संबंधित क्रियाकलाप पर खर्च करने को अनिवार्य कर दिया है।

 
 
 
टिप्पणियाँ