गुरुवार, 02 जुलाई, 2015 | 18:03 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    रैना बोले कभी गलत कामों में शामिल नहीं रहा, ललित मोदी के खिलाफ करेंगे कानून कार्रवाई सात दिन बाद केदारनाथ यात्रा शुरू, बदरीनाथ अभी भी ठप एल्गिन चरसडी बंधे में दरार, 72 गांवों पर भयावह बाढ़ का खतरा किरण को पीएम ने किया सम्मानित, 5000 लोगों का बनाया डिजिटल लॉकर VIDEO: देखें रांची में अनूप चावला को कैसे मारी गई गोली  कमल किशोर भगत को हाईकोर्ट से मिली जमानत ब्रजघाट: गंगा में फंसे दिल्‍ली के परिवार को बचाया गया रिजिजू मामले को लेकर हरकत में आई सरकार, उड़ानों में देरी पर नागरिक उड्डयन मंत्रालय से मांगी रिपोर्ट 2 लाख करोड़ की अपनी जायदाद दान करने वाला है ये शख्स गांवों में हाईस्पीड ब्राडबैंड पहुंचाने की योजना को हाथोंहाथ ले रहे हैं राज्य
राष्ट्रपति ने अतबीर की दया याचिका पर किया फैसला
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:04-12-12 02:17 PM
Image Loading

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने यह शीर्ष पद संभालने के बाद पहली बार सजा कम करते हुए एक अभियुक्त अतबीर की मौत की सजा को आजीवन कारावास में बदल दिया।
    
एक सत्र न्यायालय ने अतबीर को 1996 में सौतेली मां, सौतेली बहन और सौतेले भाई की एक संपत्ति विवाद में हत्या करने के मामले में 2004 में मत्युदंड दिया था। उच्च न्यायालय और उच्चतम न्यायालय ने अगस्त 2010 में निचली अदालत के फैसले को बरकरार रखा था।
    
इस साल जून में गह मंत्रालय ने राष्ट्रपति को अतबीर की सजा आजीवन कारावास में बदलने की सिफारिश की थी। राष्ट्रपति कार्यालय की वेबसाइट द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार, राष्ट्रपति ने 15 नवंबर को इस दया याचिका का निबटारा करते हुए मौत की सजा को आजीवन कारावास में बदल दिया।
    
पांच नवंबर को राष्ट्रपति ने मोहम्मद अजमल कसाब को दया याचिका खारिज कर दी थी। कसाब को उच्चतम न्यायालय ने पिछले साल अगस्त में मुंबई आतंकी हमला मामले में मृत्युदंड दिया था। राष्ट्रपति भवन के अनुसार, मुखर्जी ने नौ दया याचिकाओं को विचार करने के लिए गह मंत्रालय के पास भेजा है।
    
इन याचिकाओं में संसद हमला मामले में दोषी करार अफजल गुरू की दया याचिका भी शामिल है। राष्ट्रपति के पास अब केवल साइबन्ना निंगप्पा नतिकार की दया याचिका लंबित है। उच्चतम न्यायालय ने पत्नी और बेटी की हत्या के मामले में 2005 में नतिकार को मौत की सजा सुनाई थी। गृह मंत्रालय ने राष्ट्रपति सचिवालय को पांच नवंबर को अपने सिफारिश भेजी है।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingरैना बोले कभी गलत कामों में शामिल नहीं रहा, ललित मोदी के खिलाफ करेंगे कानून कार्रवाई
एक व्यवसायी से रिश्वत लेने के ललित मोदी के आरोपों को खारिज करते हुए भारतीय क्रिकेटर सुरेश रैना ने आज कहा कि वह पूर्व आईपीएल आयुक्त के लिये कानूनी कार्रवाई करने पर विचार कर रहे हैं।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड