रविवार, 24 मई, 2015 | 08:36 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    व्हाट्सएप और चिट्ठी लिख मोदी को मारने की धमकी, पुलिस की नींद उड़ी दिल्ली: आप और एलजी की जंग तेज, केजरीवाल ने विधानसभा का आपात सत्र बुलाया मुद्रास्फीति पर जेटली कर रहे हैं बड़बोलापन: कांग्रेस  लू ने ली तेलंगाना और आंध्रप्रदेश में 153 लोगों की जान  यौन उत्पीड़न मामले में पचौरी को टेरी ने माना दोषी अगले एक साल में पाकिस्तान से परमाणु हथियार खरीद सकता है ISIS रामपुर में लेखपाल हड़ताल पर इस कंपनी ने चार कर्मचारियों को तोहफे में दी कार जयललिता फिर मुख्यमंत्री बनी, पन्नीरसेल्वम फिर नंबर 2 तो इस वजह से आडवाणी को बीजेपी नेताओं ने नहीं बुलाया
विकास का लाभ वंचितों को भी मिले: राष्ट्रपति
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:15-12-12 09:24 PM
Image Loading

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने कहा कि उच्च आर्थिक विकास दर का लाभ जब तक गरीबी रेखा के नीचे (बीपीएल) जीवन यापन कर रहे कमजोर वर्ग के लोगों तक नहीं पहुंचेगा तब तक इसका कोई अर्थ नहीं है।

प्रणब ने शनिवार को उत्तर भारत के मुख्यमंत्रियों के सेमिनार में कहा, ‘हमने देश के लिए जो उच्च आर्थिक विकास दर प्राप्त की है उसका तब कोई अर्थ नहीं जब तक कि उसका लाभ हमारे समाज के कमजोर तबकों तक न पहुंचे।’ इस सम्मेलन में छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह, हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल, उत्तराखंड के मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा और बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी उपस्थित थे।

इस सम्मेलन का आयोजन पीएचडी चैम्बर ऑफ कॉमर्स एंड इडस्ट्री ने किया था, जिसका शीर्षक ‘रिफ्युलिंग ग्रोथ’ था। राष्ट्रपति ने कहा, ‘जब हमारी 30 फीसदी जनसंख्या बीपीएल में आती है, 26 फीसदी लोग अशिक्षित हैं तब समन्वित केवल नारा नहीं रह सकता बल्कि जरूरी उद्देश्य बन जाता है।’

प्रणब ने रोजगार सृजन में विनिर्माण क्षेत्र के महत्व पर बल देते हुए कहा, ‘विनिर्माण क्षेत्र की वृद्धि दर वर्ष 2009-10 में 9.7 फीसदी थी जो 2010-11 में 7.6 फीसदी और 2011-12 में घटकर 2.5 फीसदी रह गई।’ देश में विनिर्माण क्षेत्र के सकल घरेलू उत्पाद के विकास दर में हिस्सेदारी 16 फीसदी पर राष्ट्रपति ने कहा कि एशिया की अन्य अर्थव्यवस्थाओं थाईलैंड, दक्षिण कोरिया, चीन और मलेशिया में यह 25 से 34 फीसदी तक है।

राष्ट्रपति ने तमिलनाडु, गुजरात, महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश एवं उत्तर प्रदेश का उदाहरण देते हुए उत्तर भारत के राज्यों से सकल घरेलू उत्पाद में हिस्सेदारी बढ़ाने पर जोर दिया। उन्होंने कहा, ‘देश के उत्तरी राज्यों का विकास देश के विकास के लिए जरूरी है और इसलिए यहां उपस्थित मुख्यमंत्रियों को इस चुनौती को स्वीकार करना चाहिए।’ राष्ट्रपति ने पूर्वी भारत के लिए दूसरी हरित क्रांति का आह्वान करते हुए कृषि क्षेत्र में चार फीसदी की वृद्दि दर की आवश्यकता जताई।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
Image Loadingआईपीएल 8: ‘महामुकाबले’ के लिये तैयार धोनी और रोहित
खेल, रोमांच, मनोरंजन और मालामाल करने वाले दुनिया के सबसे लोकप्रिय दनादन क्रिकेट टूर्नामेंट इंडियन प्रीमियर लीग में छठी बार फाइनल में पहुंची चेन्नई सुपरकिंग्स और पूर्व चैंपियन मुंबई इंडियन्स रविवार को ऐतिहासिक ईडन गार्डन मैदान पर पूरे दमखम के साथ आठवें संस्करण का खिताब पाने के लिये उतरेंगे।