मंगलवार, 28 जुलाई, 2015 | 19:00 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    CCTV में कैद हुए गुरदासपुर हमले के गुनहगार, AK-47 लिए सड़कों पर घूमते दिखे आतंकी साड़ी, शॉल, आम की कूटनीति बंद कर पाकिस्तान के खिलाफ इंदिरा जैसा साहस दिखाये PM मोदी 29 जुलाई से बाजार में आएगा माइक्रोसॉफ्ट ओएस विंडोज-10  पीएम मोदी ने दी कलाम को श्रद्धांजलि, बोले- भारत ने खोया अपना रत्न कलाम का अंतिम संस्कार रामेश्वरम में होगा, पीएम मोदी सहित कई हस्तियों के पहुंचने की संभावना अग्नि की सफलता का श्रेय कलाम ने इंदिरा की दूरदर्शिता को दिया था याकूब मामले पर सुप्रीम कोर्ट के जजों के बीच मतभेद, अब बड़ी बेंच में होगी सुनवाई सात दिवसीय राजकीय शोक की घोषणा लेकिन कोई छुटटी नहीं 7.0 तीव्रता वाले भूकंप के जबरदस्त झटकों से हिला इंडोनेशिया जानिए पंजाब के गुरदासपुर स्थित दीनानगर के बारे में कुछ खास बातें
धुले में गोलीबारी में मरने वालों की संख्या हुई चार
मुंबई, एजेंसी First Published:07-01-2013 02:28:34 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

धुले में पुलिस की गोलीबारी में मरने वालों की संख्या बढ़ कर चार हो गई है। पुलिस के अनुसार, दो समुदायों में हिंसक संघर्ष के बाद उत्तरी महाराष्ट्र के धुले शहर में स्थिति अब सामान्य है।

पुलिस ने बताया कि हिंसा में एक किशोर सहित चार लोगों की मौत हो गई और करीब 200 लोग घायल हुए हैं। सात घायलों की हालत गंभीर बताई जाती है।
   
पुलिस महानिदेशक कार्यालय में विशेष महानिरीक्षक देवेन भारती ने कहा 18 साल के एक लड़के सहित चार लोगों की जान जा चुकी है। धुले में स्थिति कल से नियंत्रण में है। कल शाम पुलिस ने माची बाजार इलाके में कर्फ्यू लगाया था। यहीं हिंसा हुई थी। कर्फ्यू आज भी जारी है और पुलिस का कहना है कि स्थिति का आकलन करने के बाद वह कर्फ्यू हटाने के बारे में फैसला करेगी।
   
धुले पुलिस ने संपत्ति नष्ट करने और लोक सेवकों को हिंसा रोकने के उनके दायित्व में बाधा पहुंचाने के आरोप में अज्ञात व्यक्तियों के खिलाफ मामला दर्ज किया है।
   
कल मामूली बात को लेकर दो समुदायों के सदस्यों के बीच संघर्ष शुरू हो गया और मच्छीबाजार तथा माधवपुरा इलाकों में तनाव फैल गया। माधवपुरा इलाके में हालात काबू में करने के लिए पुलिस ने गोली चलाई, जिसमें चार लोगों की मौत हो गई।
   
पुलिस के अनुसार, संघर्ष चार व्यक्तियों के एक समूह द्वारा एक होटल के बिल का भुगतान न करने पर शुरू हुआ। उन्होंने होटल के कर्मियों को पीटा और चले गए। कुछ देर बाद ये लोग अपने साथ कुछ और लोगों को लेकर आए और हिंसा शुरू हो गई।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingप्रतिबंध हटाने के लिए बीसीसीआई से संपर्क करूंगा: श्रीसंत
जब वह तिहाड़ जेल में था तो वह आत्महत्या के बारे में सोच रहा था लेकिन तेज गेंदबाज एस श्रीसंत को अब उम्मीद बंध गई है कि वह वापसी कर सकते हैं और खुद पर लगे प्रतिबंध को हटाने के लिये वह बीसीसीआई से संपर्क करेंगे।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड