रविवार, 26 अक्टूबर, 2014 | 09:53 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    दिल्ली के त्रिलोकपुरी में हिंसा के बाद बाजार बंद, लगाया गया कर्फ्यू मनोहर लाल खट्टर आज मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे, मोदी होंगे शामिल राजनाथ सोमवार को मुंबई में कर सकते हैं शिवसेना से वार्ता नरेंद्र मोदी ने सफाई और स्वच्छता पर दिया जोर मुंबई में मोदी से उद्धव के मिलने का कार्यक्रम नहीं था: शिवसेना  कांग्रेस ने विवादित लेख पर भाजपा की आलोचना की केन्द्र ने 80 हजार करोड़ की रक्षा परियोजनाओं को दी मंजूरी  कांग्रेस नेता शशि थरूर शामिल हुए स्वच्छता अभियान में हेलमेट के बगैर स्कूटर चला कर विवाद में आए गडकरी  नस्ली घटनाओं पर राज्यों को सलाह देगा गृह मंत्रालय: रिजिजू
राजग को बहुमत मिलने पर भाजपा का होगा पीएम: रविशंकर
भोपाल, एजेंसी First Published:15-12-12 07:45 PM
Image Loading

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय मुख्य प्रवक्ता रविशंकर प्रसाद ने कहा कि राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) को बहुमत मिलने पर भाजपा का प्रधानमंत्री होगा, क्योंकि भाजपा गठबंधन का सबसे बड़ा दल है।

भाजपा की मध्य प्रदेश इकाई के अध्यक्ष के निर्वाचन के लिए निर्वाचन पदाधिकारी बनकर आए प्रसाद ने शनिवार को संवददाताओं से चर्चा के दौरान कहा कि भाजपा की ओर से प्रधानमंत्री कौन होगा इसका फैसला पार्टी करेगी। पाकिस्तान के गृह मंत्री रहमान मलिक के भारत दौरे के दौरान बाबरी विध्वंस मामले को लेकर दिए गए बयान पर भाजपा ने सख्त आपत्ति दर्ज कराई है। प्रसाद ने कहा कि मलिक ने बाबरी मामले पर बयान देकर करोड़ों हिंदुओं की भावनाओं को आहत किया है, मगर भारत सरकार चुप है।

रामजन्म भूमि को लेकर उच्च न्यायालय के फैसले का जिक्र करते हुए प्रसाद ने कहा कि फैसले में कहा गया है कि मुस्लिम समाज अपने पक्ष को साबित नहीं कर पाया है, लिहाजा यह वही स्थान है जिसे हिंदू रामलला का जन्मस्थान मानते हैं।

प्रसाद ने रहमान मलिक द्वारा मुम्बई हमले के आरोपी हाफिज सईद को लेकर दिए गए बयान पर भी नाराजगी जताई है। उन्होंने कहा कि सईद का नाम उस व्यक्ति ने लिया था जिसे मुम्बई में फांसी हो चुकी है और मलिक कहते हैं कि सईद के खिलाफ  सबूत नहीं है।

खुदरा बाजार में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) को प्रसाद ने देश व खुदरा व्यापारी विरोधी करार दिया। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार के इस फैसले से पांच करोड़ व्यापारी और लगभग 25 करोड़ लोग प्रभावित होंगे। सरकार ने यह फैसला विदेशी दवाब में लिया है। एफडीआई के प्रस्ताव को सरकार ने भले ही जोड़-तोड़कर पारित करा लिया हो, मगर उसकी नैतिक हार हुई है।
 
 
 
टिप्पणियाँ