शुक्रवार, 03 जुलाई, 2015 | 16:29 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    पूर्व रॉ प्रमुख के खुलासे के बाद सरकार पर हमलावर हुई कांग्रेस, PM से की माफी की मांग झारखंड: मेदिनीनगर के हुसैनाबाद में ओझा-गुणी की हत्या हजारीबाग के पदमा में दो गुटों में भिड़ंत, आधा दर्जन घायल गुमला में बाइक के साथ नदी में गिरा सरकारी कर्मी, मौत सर्जरी के बाद हेमामालिनी की हालत ठीक, वसुंधरा राजे ने की मुलाकात झारखंड के चाईबासा में रिश्वत लेते दारोगा रंगे हाथ गिरफ्तार झारखंड: हजारीबाग में पिता ने अबोध बेटी को पटक कर मार डाला जमशेदपुर में स्कूल वाहन चालक हड़ताल पर, अभिभावक परेशान झारखंड: सीएम ने राज्य के सबसे लंबे पुल की आधारशिला रखी यूपी के रायबरेली में सड़क हादसा, 9 लोगों की मौत
राजग को बहुमत मिलने पर भाजपा का होगा पीएम: रविशंकर
भोपाल, एजेंसी First Published:15-12-12 07:45 PM
Image Loading

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय मुख्य प्रवक्ता रविशंकर प्रसाद ने कहा कि राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) को बहुमत मिलने पर भाजपा का प्रधानमंत्री होगा, क्योंकि भाजपा गठबंधन का सबसे बड़ा दल है।

भाजपा की मध्य प्रदेश इकाई के अध्यक्ष के निर्वाचन के लिए निर्वाचन पदाधिकारी बनकर आए प्रसाद ने शनिवार को संवददाताओं से चर्चा के दौरान कहा कि भाजपा की ओर से प्रधानमंत्री कौन होगा इसका फैसला पार्टी करेगी। पाकिस्तान के गृह मंत्री रहमान मलिक के भारत दौरे के दौरान बाबरी विध्वंस मामले को लेकर दिए गए बयान पर भाजपा ने सख्त आपत्ति दर्ज कराई है। प्रसाद ने कहा कि मलिक ने बाबरी मामले पर बयान देकर करोड़ों हिंदुओं की भावनाओं को आहत किया है, मगर भारत सरकार चुप है।

रामजन्म भूमि को लेकर उच्च न्यायालय के फैसले का जिक्र करते हुए प्रसाद ने कहा कि फैसले में कहा गया है कि मुस्लिम समाज अपने पक्ष को साबित नहीं कर पाया है, लिहाजा यह वही स्थान है जिसे हिंदू रामलला का जन्मस्थान मानते हैं।

प्रसाद ने रहमान मलिक द्वारा मुम्बई हमले के आरोपी हाफिज सईद को लेकर दिए गए बयान पर भी नाराजगी जताई है। उन्होंने कहा कि सईद का नाम उस व्यक्ति ने लिया था जिसे मुम्बई में फांसी हो चुकी है और मलिक कहते हैं कि सईद के खिलाफ  सबूत नहीं है।

खुदरा बाजार में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) को प्रसाद ने देश व खुदरा व्यापारी विरोधी करार दिया। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार के इस फैसले से पांच करोड़ व्यापारी और लगभग 25 करोड़ लोग प्रभावित होंगे। सरकार ने यह फैसला विदेशी दवाब में लिया है। एफडीआई के प्रस्ताव को सरकार ने भले ही जोड़-तोड़कर पारित करा लिया हो, मगर उसकी नैतिक हार हुई है।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड