रविवार, 05 जुलाई, 2015 | 00:32 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    यूपीएससी में बेटियों ने बाजी मारी, दिल्ली की इरा ने टॉप किया, लड़कों में बिहार का सुहर्ष अव्वल इलाहाबाद जंक्शन पर पटरी से उतरी मालगाड़ी, परिचालन ठप मुजफ्फरनगर: सड़क हादसे में दो बच्चों की मौत के बाद जमकर हुआ बवाल झारखंड: पटरी से उतरी मालगाड़ी, दो मरे, चार ट्रेनें रद्द अनूप चावला की हालत बिगड़ी, एयर एंबुलेंस से भेजा मेदांता अनंत विक्रम सिंह गिरफ्तार, अमेठी में भारी पुलिसबल तैनात आतंकी भटकल ने जेल से किया पत्नी को फोन, बताई गुप्त योजना, मचा हडकंप माफिया डॉन दाउद इब्राहिम ने लंदन में रामजेठमलानी को किया था फोन, सरेंडर करने की बात कही थी हेमा मालिनी को मिली अस्पताल से छुटटी, बेटी ईशा के साथ पहुंचीं मुंबई अब विश्वविद्यालयों में कोर्स का दस फीसदी ऑनलाइन पढ़ सकेंगे छात्र
पाकिस्तानी न्यायिक आयोग जनवरी के अंत तक भारत आएगा
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:01-01-13 08:53 PMLast Updated:01-01-13 10:04 PM
Image Loading

मुंबई हमले के चार गवाहों से जिरह करने के लिए पाकिस्तानी न्यायिक आयोग के जनवरी के अंत तक भारत आने की उम्मीद है। गृह मंत्रालय एक दो दिन में बंबई उच्च न्यायालय का रुख कर पाकिस्तानी आयोग के दौरे के लिए अदालत की इजाजत लेगी। दूसरे पाकिस्तानी न्यायिक आयोग के मुंबई दौरे के बारे में इस्लामाबाद में 25 दिसंबर को एक समझौते को अंतिम रूप दिया गया था। इससे पहले जटिल तकनीकी और कानूनी मुद्दों पर चार सदस्यीय भारतीय प्रतिनिधिमंडल और पाकिस्तानी अधिकारियों के बीच कई दौर की वार्ता हुई थी।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि गृह मंत्रालय मुंबई हमला मामले में पाकिस्तानी आयोग के दौरे और चार गवाहों से उसके जिरह किये जाने के बारे में बंबई उच्च न्यायालय की इजाजत लेने के लिए एक दो दिन में अदालत का रूख करेगी। गवाहों में मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट राम विजय सावंत वाघले, मुख्य जांच अधिकारी रमेश महाले और सरकारी अस्पताल नायर एंड जेजे हॉस्पिटल के दो चिकित्सक शामिल हैं। इन दो चिकित्सकों ने इस हमले में मारे गए नौ आतंकवादियों के शव का परीक्षण किया था। वहीं, वाघले ने अजमल कसाब का इकबालिया बयान दर्ज किया था।

मुंबई हमला मामले को रावलपिंडी की एक अदालत में तार्किक निष्कर्ष तक पहुंचाने के लिए चारों गवाहों के साथ आयोग की जिरह आवश्यक है। लश्कर ए तैयबा के ऑपरेशन कमांडर जकीउर रहमान लखवी सहित सात आतंकवादियों को नवंबर 2008 के इस हमले की साजिश रचने, धन मुहैया कराने और हमले को अंजाम देने के सिलिसले में आरोपित किया गया है।

बंबई उच्च न्यायालय की इजाजत मिल जाने पर नई दिल्ली इस बात से पाकिस्तान को अवगत करा देगा। इसके बाद पाकिस्तान की सरकार वहां की अदालत को इस बारे में सूचना देगी। भारतीय दल ने इस सिलसिले में पाकिस्तान की यात्रा के दौरान वहां के अधिकारियों से यह आश्वासन लिया था कि दूसरे न्यायिक आयोग की रिपोर्ट को आतंकवाद निरोधक अदालत सरसरी तौर पर देखकर ही खारिज नहीं कर देगी। इस हमले के मामले में रावलपिंडी की अदालत में सात लोगों के खिलाफ मुकदमा चल रहा है।

गौरतलब है कि मार्च 2012 में भारत के दौरे पर आए पाकिस्तानी आयोग ने जो जानकारियां जुटाई थी उसे आतंकवाद निरोधक अदालत ने खारिज कर दिया था क्योंकि आयोग के सदस्यों को भारतीय गवाहों से जिरह करने की इजाजत नहीं दी गई थी। बहरहाल, विभिन्न तकनीकी एवं कानूनी मुद्दों के चलते पाकिस्तानी संदिग्धों के खिलाफ अदालती कार्यवाही में थोड़ी सी या नहीं के बराबर प्रगति हुई है।

 
 
 
अन्य खबरें
 
 
 
 
 
 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingमैकलम ने खेली 158 रन की रिकॉर्ड पारी
न्यूजीलैंड के कप्तान ब्रैंडन मैकलम ने इंग्लिश ट्वेंटी 20 ब्लास्ट प्रतियोगिता में अपनी काउंटी टीम वॉरविकशायर के लिए मात्र 64 गेंदों में नाबाद 158 रन का ताबड़तोड़ स्कोर बनाने के साथ एक अनोखा रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया है।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड