शनिवार, 05 सितम्बर, 2015 | 21:47 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
नीतीश के जनता दरबार में आत्महत्या की कोशिश
पटना, एजेंसी First Published:07-01-2013 10:41:00 PMLast Updated:00-00-0000 12:00:00 AM

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के 'जनता दरबार में मुख्यमंत्री' कार्यक्रम के दौरान सोमवार को एक विकलांग छात्रा ने अपनी मांगें नहीं पूरी होती देख अपने हाथ की नस काटकर आत्महत्या करने की कोशिश की। एक पुलिस अधिकारी की तत्परता के कारण हालांकि छात्रा नस तो नहीं काट सकी, लेकिन ब्लेड से उसकी हथेली में जख्म हो गया।

पुलिस के एक अधिकारी के अनुसार, जब मुख्यमंत्री लोगों की शिकायतों का निपटारा कर रहे थे उसी दौरान बाढ़ क्षेत्र से आई एक विकलांग युवती सरोजनी कुमारी भी अपना आवेदन देकर कम्प्यूटर प्रशिक्षण और स्नातक की पढ़ाई पूरी करने का खर्च वहन करने की मांग लेकर आई। 

मुख्यमंत्री ने युवती को कई प्रकार से समझाया, लेकिन जब उसे अपनी मांग पूरी होते नहीं दिखी तो उसने ब्लेड से अपने हाथ का नस काटने की कोशिश की, लेकिन वहां खड़े सुरक्षाकर्मियों ने तत्काल ब्लेड पकड़ लिया। इससे युवती का हथेली हालांकि जख्मी हो गया।

युवती का आरोप है कि वह अपनी समस्या को लेकर कई अधिकारियों और मंत्रियों के पास गई लेकिन उसकी मांग नहीं मानी गई। इस कारण वह यहां आई है।

घटना के बाद मुख्यमंत्री ने पटना के जिलाधिकारी को अपने वेतन (मुख्यमंत्री के वेतन) से छात्रा को सहायता राशि दिलाने का निर्देश दिया। इसके बाद ही युवती जनता दरबार से गई।

उल्लेखनीय है कि प्रत्येक सोमवार को मुख्यमंत्री अपने सरकारी आवास पर 'मुख्यमंत्री जनता दरबार में' कार्यक्रम में लोगों की समस्याएं सुनते हैं।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
क्रिकेट स्कोरबोर्ड Others
 
Image Loading

अलार्म से नहीं खुलती संता की नींद
संता बंता से: 20 सालों में, आज पहली बार अलार्म से सुबह-सुबह मेरी नींद खुल गई।
बंता: क्यों, क्या तुम्हें अलार्म सुनाई नहीं देता था?
संता: नहीं आज सुबह मुझे जगाने के लिए मेरी बीवी ने अलार्म घड़ी फेंक कर सिर पर मारी।