रविवार, 26 अक्टूबर, 2014 | 09:08 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    राजनाथ सोमवार को मुंबई में कर सकते हैं शिवसेना से वार्ता नरेंद्र मोदी ने सफाई और स्वच्छता पर दिया जोर मुंबई में मोदी से उद्धव के मिलने का कार्यक्रम नहीं था: शिवसेना  कांग्रेस ने विवादित लेख पर भाजपा की आलोचना की केन्द्र ने 80 हजार करोड़ की रक्षा परियोजनाओं को दी मंजूरी  कांग्रेस नेता शशि थरूर शामिल हुए स्वच्छता अभियान में हेलमेट के बगैर स्कूटर चला कर विवाद में आए गडकरी  नस्ली घटनाओं पर राज्यों को सलाह देगा गृह मंत्रालय: रिजिजू अश्विका कपूर को फिल्मों के लिए ग्रीन ऑस्कर अवार्ड जम्मू-कश्मीर और झारखंड में पांच चरणों में मतदान की घोषणा
नीतीश कुमार के जनता दरबार में आत्महत्या की कोशिश
पटना, एजेंसी First Published:07-01-13 10:41 PM

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के 'जनता दरबार में मुख्यमंत्री' कार्यक्रम के दौरान सोमवार को एक विकलांग छात्रा ने अपनी मांगें नहीं पूरी होती देख अपने हाथ की नस काटकर आत्महत्या करने की कोशिश की। एक पुलिस अधिकारी की तत्परता के कारण हालांकि छात्रा नस तो नहीं काट सकी, लेकिन ब्लेड से उसकी हथेली में जख्म हो गया।

पुलिस के एक अधिकारी के अनुसार, जब मुख्यमंत्री लोगों की शिकायतों का निपटारा कर रहे थे उसी दौरान बाढ़ क्षेत्र से आई एक विकलांग युवती सरोजनी कुमारी भी अपना आवेदन देकर कम्प्यूटर प्रशिक्षण और स्नातक की पढ़ाई पूरी करने का खर्च वहन करने की मांग लेकर आई। 

मुख्यमंत्री ने युवती को कई प्रकार से समझाया, लेकिन जब उसे अपनी मांग पूरी होते नहीं दिखी तो उसने ब्लेड से अपने हाथ का नस काटने की कोशिश की, लेकिन वहां खड़े सुरक्षाकर्मियों ने तत्काल ब्लेड पकड़ लिया। इससे युवती का हथेली हालांकि जख्मी हो गया।

युवती का आरोप है कि वह अपनी समस्या को लेकर कई अधिकारियों और मंत्रियों के पास गई लेकिन उसकी मांग नहीं मानी गई। इस कारण वह यहां आई है।

घटना के बाद मुख्यमंत्री ने पटना के जिलाधिकारी को अपने वेतन (मुख्यमंत्री के वेतन) से छात्रा को सहायता राशि दिलाने का निर्देश दिया। इसके बाद ही युवती जनता दरबार से गई।

उल्लेखनीय है कि प्रत्येक सोमवार को मुख्यमंत्री अपने सरकारी आवास पर 'मुख्यमंत्री जनता दरबार में' कार्यक्रम में लोगों की समस्याएं सुनते हैं।
 
 
 
टिप्पणियाँ