मंगलवार, 26 मई, 2015 | 09:06 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    आईपीएल 8 के ये पांच लम्हें आपको हमेशा याद रहेंगे  मैदान-पहाड़ और पठार, हर तरफ बस गर्मी की मार एक साल में धरती की चार बार परिक्रमा कर चुके हैं प्रधानमंत्री मोदी स्विस बैंक के खाताधारकों की सूची में दो भारतीयों के नाम मुजफ्फरनगर के मीरापुर में सांप्रदायिक तनाव, पथराव  हाईकोर्ट का आदेश केंद्र के लिए बड़ी शर्मिंदगी: केजरीवाल  पटना के घरों में पाइपलाइन से होगी गैस की आपूर्ति  नीतीश-लालू की सियासी दोस्ती का असर दिख रहा: मोदी  राहुल बन फेसबुक पर लड़कियां फंसाता था यूसुफ, गिरफ्तार  शबनम और सलीम की फांसी पर सुप्रीम कोर्ट ने लगाई रोक
एनआईए ने मुख्य संदिग्ध को गिरफ्तार किया
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:15-12-12 10:53 PM

वर्ष 2007 के समझौता विस्फोट मामले में आज राष्ट्रीय जांच एजेंसी को एक बड़ी सफलता मिली और उसने पाकिस्तान जाने वाली ट्रेन में बम रखने वाले राजेश चौधरी को मध्य प्रदेश के उज्जैन से गिरफ्तार कर लिया। चौधरी को समुन्दर के नाम से भी जाना जाता है और उस पर पांच लाख रुपये का इनाम था।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि चौधरी को गिरफ्तार किए जाने के बाद उज्जैन की अदालत में पेश किया गया जिसने उसको ट्रांजिट रिमांड पर एनआईए को दे दिया। सूत्रों ने बताया कि चौधरी को पंचकूला की अदालत में पेश किया जाएगा। उन्होंने बताया कि एजेंसी द्वारा की गई सघन जांच के बाद यह सफलता मिली जिसे वर्ष 2010 में इस मामले की जांच का जिम्मा दिया गया था।
 
इस मामले यह चौथी गिरफ्तारी है। एजेंसी ने पहले ही कमल चौहान, असीमानंद और लोकेश शर्मा को इस विस्फोट में कथित रूप से शामिल होने पर गिरफ्तार कर लिया है। हरियाणा के पानीपत के नजदीक समझौता एक्सप्रेस में 18 फरवरी, 2007 को हुए बम विस्फोट हुए थे जिससे बोगियों में आग लग गई थी जिसमें 68 लोगों की मौत हो गई और 12 यात्री घायल हो गए थे।

इस मामले की प्रारंभिक जांच सरकारी रेलवे पुलिस और हरियाणा पुलिस के विशेष जांच दल ने की थी। लेकिन गृह मंत्रालय के निर्देश पर यह मामला एनआईए को दे दिया गया था। इस मामले में अभी संदीप देंगे और कालासंगरा उर्फ रामजी फरार है।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड