शनिवार, 31 जनवरी, 2015 | 04:44 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
ब्रेकिंग
फतुहा में बिजली की तार की चपेट में ट्रॉली आई, दो की मौतअमिता को पीजीआई लखनऊ भेजा गया था महिला के खून का नमूना, जांच में स्वाइन फ्लू की पुष्टिबरेली में स्वाइन फ्लू से पहली मौत की पुष्टि, राममूर्ति मेडिकल कालेज में हुई थी 24 जनवरी को सीबीगंज की अमिता उपाध्याय की मौतपाकिस्तान के शिकारपुर में ब्लास्ट, 20 लोगों की मौतयूपी: लखीमपुर खीरी के मैगलंगज में युवक की हत्या, ट्रैक्टर ट्रॉली पर फेंक दिया शव, गला दबाकर हत्या का आरोपबरेली : इंडियन वैटेनरी रिसर्च इंस्टीट्यूट (आईवीआरआई) और सेंट्रल एवियन रिसर्च इंस्टीट्यूट (सीएआरआई) में रेबीज का कहर, आवारा कुत्तों के काटने से कई वैज्ञानिक रेबीज की चपेट में, मारे गए कुत्तों के पोस्टमार्टम में रेबीज की पुष्टि
एनआईए ने मुख्य संदिग्ध को गिरफ्तार किया
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:15-12-12 10:53 PM

वर्ष 2007 के समझौता विस्फोट मामले में आज राष्ट्रीय जांच एजेंसी को एक बड़ी सफलता मिली और उसने पाकिस्तान जाने वाली ट्रेन में बम रखने वाले राजेश चौधरी को मध्य प्रदेश के उज्जैन से गिरफ्तार कर लिया। चौधरी को समुन्दर के नाम से भी जाना जाता है और उस पर पांच लाख रुपये का इनाम था।

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि चौधरी को गिरफ्तार किए जाने के बाद उज्जैन की अदालत में पेश किया गया जिसने उसको ट्रांजिट रिमांड पर एनआईए को दे दिया। सूत्रों ने बताया कि चौधरी को पंचकूला की अदालत में पेश किया जाएगा। उन्होंने बताया कि एजेंसी द्वारा की गई सघन जांच के बाद यह सफलता मिली जिसे वर्ष 2010 में इस मामले की जांच का जिम्मा दिया गया था।
 
इस मामले यह चौथी गिरफ्तारी है। एजेंसी ने पहले ही कमल चौहान, असीमानंद और लोकेश शर्मा को इस विस्फोट में कथित रूप से शामिल होने पर गिरफ्तार कर लिया है। हरियाणा के पानीपत के नजदीक समझौता एक्सप्रेस में 18 फरवरी, 2007 को हुए बम विस्फोट हुए थे जिससे बोगियों में आग लग गई थी जिसमें 68 लोगों की मौत हो गई और 12 यात्री घायल हो गए थे।

इस मामले की प्रारंभिक जांच सरकारी रेलवे पुलिस और हरियाणा पुलिस के विशेष जांच दल ने की थी। लेकिन गृह मंत्रालय के निर्देश पर यह मामला एनआईए को दे दिया गया था। इस मामले में अभी संदीप देंगे और कालासंगरा उर्फ रामजी फरार है।

 
 
 
टिप्पणियाँ
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड