रविवार, 24 मई, 2015 | 10:40 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    व्हाट्सएप और चिट्ठी लिख मोदी को मारने की धमकी, पुलिस की नींद उड़ी दिल्ली: आप और एलजी की जंग तेज, केजरीवाल ने विधानसभा का आपात सत्र बुलाया मुद्रास्फीति पर जेटली कर रहे हैं बड़बोलापन: कांग्रेस  लू ने ली तेलंगाना और आंध्रप्रदेश में 153 लोगों की जान  यौन उत्पीड़न मामले में पचौरी को टेरी ने माना दोषी अगले एक साल में पाकिस्तान से परमाणु हथियार खरीद सकता है ISIS रामपुर में लेखपाल हड़ताल पर इस कंपनी ने चार कर्मचारियों को तोहफे में दी कार जयललिता फिर मुख्यमंत्री बनी, पन्नीरसेल्वम फिर नंबर 2 तो इस वजह से आडवाणी को बीजेपी नेताओं ने नहीं बुलाया
मालेगांव विस्फोट मामले में एनआईए ने की पहली गिरफ्तारी
नयी दिल्ली, एजेंसी First Published:29-12-12 06:55 PM
Image Loading

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने मालेगांव बम विस्फोट मामले में शनिवार को पहली गिरफ्तारी की। यह घटना 2006 में हुई थी। 2011 में स्वामी असीमानंद की गिरफ्तारी के बाद दक्षिणपंथी समूहों की भूमिका इस मामले में होने की जानकारी मिली थी।

एनआईए के अधिकारियों ने मोहन नामक व्यक्ति को पकड़ा है, जिस पर सांप्रदायिक रूप से काफी संवेदनशील महाराष्ट्र के मालेगांव में आठ सितंबर 2006 को विस्फोटक रख आपराधिक साजिश रचने का आरोप है। विस्फोट की इस घटना में 35 लोग मारे गए थे।

अधिकारियों ने बताया कि मोहन को मध्य प्रदेश में इंदौर जिले के हतोड इलाके से गिरफ्तार किया गया। उसे ट्रांजिट रिमांड पर मुंबई ले जाया जा रहा है, जहां उसे अदालत में पेश किया जाएगा। एनआईए को राजेश चौधरी से पूछताछ के बाद मोहन के बारे में पता चला। चौधरी समझौता एक्सप्रेस विस्फोट मामले में कथित रूप से विस्फोटक रखने वाला व्यक्ति था। उसके मालेगांव विस्फोट में भी शामिल होने का संदेह है।

मालेगांव विस्फोट मामले में मोहन का पकडा जाना इस मामले में पहली गिरफ्तारी है। इससे मुंबई पुलिस की आतंकवाद रोधी इकाई और केन्द्रीय जांच ब्यूरो को असहज स्थिति का सामना करना पड़ा सकता है, जिन्होंने घटना के बाद नौ मुस्लिम युवकों को गिरफ्तार कर लिया था। पकड़े गए नौ युवक लगभग पांच साल बाद जेल से बाहर तब आ सके, जब यह तय हो गया कि उनकी जमानत याचिका का विरोध नहीं किया जाएगा।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
Image LoadingIPL का फाइनल देखने पहुंचेंगी ये बड़ी हस्तियां
पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, राज्यपाल के. एन. त्रिपाठी के अलावा हिंदी फिल्म जगत की कई जानी-मानी हस्तियां रविवार को इडेन गरडस स्टेडियम में होने वाले आईपीएल-8 के फाइनल मैच को देखने पहुंचेंगी।