रविवार, 26 अक्टूबर, 2014 | 00:24 | IST
  RSS |    Site Image Loading Image Loading
Image Loading    राजनाथ सोमवार को मुंबई में कर सकते हैं शिवसेना से वार्ता नरेंद्र मोदी ने सफाई और स्वच्छता पर दिया जोर मुंबई में मोदी से उद्धव के मिलने का कार्यक्रम नहीं था: शिवसेना  कांग्रेस ने विवादित लेख पर भाजपा की आलोचना की केन्द्र ने 80 हजार करोड़ की रक्षा परियोजनाओं को दी मंजूरी  कांग्रेस नेता शशि थरूर शामिल हुए स्वच्छता अभियान में हेलमेट के बगैर स्कूटर चला कर विवाद में आए गडकरी  नस्ली घटनाओं पर राज्यों को सलाह देगा गृह मंत्रालय: रिजिजू अश्विका कपूर को फिल्मों के लिए ग्रीन ऑस्कर अवार्ड जम्मू-कश्मीर और झारखंड में पांच चरणों में मतदान की घोषणा
मालेगांव विस्फोट मामले में एनआईए ने की पहली गिरफ्तारी
नयी दिल्ली, एजेंसी First Published:29-12-12 06:55 PM
Image Loading

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने मालेगांव बम विस्फोट मामले में शनिवार को पहली गिरफ्तारी की। यह घटना 2006 में हुई थी। 2011 में स्वामी असीमानंद की गिरफ्तारी के बाद दक्षिणपंथी समूहों की भूमिका इस मामले में होने की जानकारी मिली थी।

एनआईए के अधिकारियों ने मोहन नामक व्यक्ति को पकड़ा है, जिस पर सांप्रदायिक रूप से काफी संवेदनशील महाराष्ट्र के मालेगांव में आठ सितंबर 2006 को विस्फोटक रख आपराधिक साजिश रचने का आरोप है। विस्फोट की इस घटना में 35 लोग मारे गए थे।

अधिकारियों ने बताया कि मोहन को मध्य प्रदेश में इंदौर जिले के हतोड इलाके से गिरफ्तार किया गया। उसे ट्रांजिट रिमांड पर मुंबई ले जाया जा रहा है, जहां उसे अदालत में पेश किया जाएगा। एनआईए को राजेश चौधरी से पूछताछ के बाद मोहन के बारे में पता चला। चौधरी समझौता एक्सप्रेस विस्फोट मामले में कथित रूप से विस्फोटक रखने वाला व्यक्ति था। उसके मालेगांव विस्फोट में भी शामिल होने का संदेह है।

मालेगांव विस्फोट मामले में मोहन का पकडा जाना इस मामले में पहली गिरफ्तारी है। इससे मुंबई पुलिस की आतंकवाद रोधी इकाई और केन्द्रीय जांच ब्यूरो को असहज स्थिति का सामना करना पड़ा सकता है, जिन्होंने घटना के बाद नौ मुस्लिम युवकों को गिरफ्तार कर लिया था। पकड़े गए नौ युवक लगभग पांच साल बाद जेल से बाहर तब आ सके, जब यह तय हो गया कि उनकी जमानत याचिका का विरोध नहीं किया जाएगा।
 
 
 
टिप्पणियाँ