शनिवार, 29 अगस्त, 2015 | 00:42 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
प्रदर्शन में इस्तेमाल नहीं हुआ विदेशी धन: केंद्र
नई दिल्ली, एजेंसी First Published:05-12-2012 11:05:58 PMLast Updated:06-12-2012 01:36:23 AM
Image Loading

केंद्र सरकार ने दिल्ली उच्च न्यायालय को बताया कि भ्रष्टाचार के खिलाफ आंदोलन की अगुवाई कर रहे समाजसेवी अन्ना हजारे की टीम से जुड़े कुछ गैर-सरकारी संगठनों ने विदेशी धन प्राप्त किए थे जिनका इस्तेमाल अनियमित तौर पर तो किया गया लेकिन इसकी आपराधिक जांच की जरूरत नहीं है।
 
मुख्य न्यायाधीश डी मुरूगेशन और न्यायमूर्ति राजीव सहाय एंडलॉ की पीठ में दायर अपने हलफनामे में गृह मंत्रालय ने कहा कि किरण बेदी की ओर से संचालित एनजीओ नवज्योति इंडिया फाउंडेशन और इंडिया विजन फाउंडेशन एवं मनीष सिसौदिया की ओर से संचालित एनजीओ कबीर को विदेशों से धन मिले थे लेकिन इनका इस्तेमाल न तो किसी राजनीतिक गतिविधि और न ही इंडिया अगेंस्ट करप्शन की ओर से चलाए जा रहे आंदोलन में किया गया।

हलफनामे में सरकार ने कहा कि विदेशी योगदान विनियमन कानून (एफसीआरए) और एफसीआर नियमों के तहत अगस्त और नवंबर 2012 में निरीक्षण किए गए और कुछ अनियमितताएं पाई गईं।

केंद्र की ओर से कहा गया कि ये अनियमितताएं गंभीर किस्म की नहीं हैं, लिहाजा अभी इनकी आपराधिक जांच कराना जरूरी नहीं। निरीक्षण के दौरान संगठन के दस्तावेजों में कोई दस्तावेजी प्रमाण नहीं मिले जिससे यह साबित हो कि विदेशों से मिले धन का इस्तेमाल किसी राजनीतिक गतिविधि या इंडिया अगेंस्ट करप्शन की ओर से चलाए जा रहे आंदोलन में किया गया।

पेशे से वकील मनोहर लाल शर्मा की ओर से दायर की गई याचिका पर उच्च न्यायालय सुनवाई कर रहा था। शर्मा ने याचिका में मांग की थी कि सरकार की अनुमति के बगैर विदेशी संगठनों से धन प्राप्त करने और इनके इस्तेमाल से लोकपाल विधेयक की मांग संबंधी आंदोलन संचालित करने के आरोप में टीम अन्ना के सदस्यों के खिलाफ सीबीआई जांच के आदेश दिए जाएं।

 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingबारिश ने धोया पहले दिन का खेल, भारत 50/2
भारत और श्रीलंका के बीच तीसरे और आखिरी क्रिकेट टेस्ट के पहले दिन शुक्रवार को बारिश के कारण दो सत्र से अधिक का खेल नहीं हो सका जबकि भारत ने पहली पारी में दो विकेट पर 50 रन बनाए।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

जब जय की हुई जमकर पिटाई...
वीरू (जय से): कल तुझे मेरे मोहल्ले के दस लड़कों ने बहुत बुरी तरह पीटा। फिर तूने क्या किया?
जय: मैंने उन सभी से कहा कि कि अगर हिम्मत है, तो अकेले-अकेले आओ।
वीरू: फिर क्या हुआ?
जय: होना क्या था, उसके बाद उन सबने एक-एक करके फिर से मुझे पीटा।