रविवार, 02 अगस्त, 2015 | 01:47 | IST
 |  Site Image Loading Image Loading
Image Loading    बिहार का चुनाव बना प्रतिष्ठा का प्रश्न, झारखंड के भाजपाइयों ने डाला बिहार में डाला याकूब को फांसी दिए जाने के विरोध में सुप्रीम कोर्ट के डिप्टी रजिस्ट्रार ने दिया इस्तीफा दिल्ली में तेज हुआ पोस्टर वार, केजरीवाल सरकार के विज्ञापनों के खिलाफ भाजपा ने लगाए पोस्टर पूर्व गृह मंत्री सुशील शिंदे ने कहा, मैंने संसद में हिंदू आतंकवाद शब्द का इस्तेमाल कभी नहीं किया  पाकिस्तानी रेंजर्स ने किया सीजफायर का उल्लंघन, बीएसफ ने दिया करारा जवाब खेल रत्न के लिए सानिया के नाम की सिफारिश भाजपा सांसद वरुण गांधी का बयान, 94 फीसदी दलित, अल्पसंख्यक समुदाय को मिली फांसी की सजा विमान हादसे में ओसामा बिन लादेन के परिवार के सदस्यों की मौत  10 रुपए में ऐप उपलब्ध कराएगा गूगल प्ले  ISIS की शर्मनाक हरकत: चार साल के बच्चे को दी तलवार और कहा...मां का सिर काट डालो
नए साल पर देश की बेटी को भावभीनी श्रद्धांजलि
नई दिल्ली, लाइव हिन्दुस्तान First Published:01-01-2013 09:26:28 AMLast Updated:01-01-2013 02:24:50 PM
Image Loading

नए साल की शुरुआत गम के साए में हुई है और इसका असर देशभर में देखा गया। तमाम आयोजन रद्द किए गए और सड़कें सुनसान पड़ी रहीं। राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी और सोनिया गांधी समेत कई नेताओं ने जश्न से किनारा किया। वहीं सेना ने भी देशभर में होने वाले आयोजनों को रद्द कर देश की बहादुर बेटी को श्रद्धांजलि दी है।

देश की राजधानी दिल्ली के जंतर-मंतर पर पटाखे और रोशनी की बजाय लोग मोमबत्ती लौ से साल 2012 के अंधेरे को पाटने की कोशिशें की। काले रविवार को दरिंदगी का शिकार हुई देश की एक बेटी को श्रद्धांजलि देकर लोग नए साल को बेहतर बनाने का संकल्प लेकर जुटे। यहां खामोशी है। और ऐसी ही खामोशी दिल्ली की दूसरी सड़कों पर भी दिखी। जश्न नहीं मगर उम्मीद जरूर है।

कमोबेश यही नजारा ग्लैमर और चकाचौंध की राजधानी मुंबई का भी है। साल 2008 के मुंबई हमले को छोड़ दें तो नए साल का इतना फीका स्वागत शायद ही कभी हुआ हो, अव्वल तो लोग जश्न के लिए जुटे ही नहीं। मगर जो जुटे भी उनकी जुबान पर उस बहादुर बेटी की कुर्बानी के साथ-साथ सुरक्षा की चिंता बनी रही।

नए साल का ये खामोश आगाज महज दिल्ली और मुंबई तक ही सीमित नहीं रहा बल्कि कोलकाता, हैदराबाद, बैंगलोर और अहमदाबाद जैसे शहरों में भी जश्न पर श्रद्धांजलि भारी पड़ गई।

आम तो आम खास लोगों ने भी नए साल के जश्न से किनारा किया। राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने तमाम आयोजन रद्द कर दिए। सोनिया गांधी ने खुद को जश्न से दूर रखा। पंजाब और हरियाणा के कई सरकारी कार्यक्रम रद्द किए गए।

उड़ीसा के मुख्यमंत्री भी जश्न में शामिल नहीं हुए। भारतीय सेना ने भी देशभर के अपने आयोजन रद्द किए। जाहिर है देश गमजदा है। गम महज एक जान के जाने का नहीं है, बल्कि गम इस बात का भी है कि आधुनिकता के रथ पर सवार हम आज भी खुद को बदल पाने में नाकाम हैं।

 
 
 
अन्य खबरें
 
 
 
 
 
 
 
 
 
जरूर पढ़ें
क्रिकेट
Image Loadingआक्रामक शैली बरकरार रखें कोहली: द्रविड़
राहुल द्रविड़ को बतौर टेस्ट कप्तान श्रीलंका में पहली पूर्ण सीरीज खेलने जा रहे विराट कोहली के कामयाब रहने का यकीन है और उन्होंने कहा कि कोहली को अपनी आक्रामक शैली नहीं छोड़नी चाहिए।
 
क्रिकेट स्कोरबोर्ड
 
Image Loading

जब बीमार पड़ा संता...
जीतो बीमार पति से: जानवर के डॉक्टर को मिलो तब आराम मिलेगा!
संता: वो क्यों?
जीतो: रोज़ सुबह मुर्गे की तरह जल्दी उठ जाते हो, घोड़े की तरह भाग के ऑफिस जाते हो, गधे की तरह दिनभर काम करते हो, घर आकर परिवार पर कुत्ते की तरह भोंकते हो, और रात को खाकर भैंस की तरह सो जाते हो, बेचारा इंसानों का डॉक्टर आपका क्या इलाज करेगा?